Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर कंगना ने खालिस्तानियों को लताड़ा, कॉन्ग्रेस के साथ...

ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर कंगना ने खालिस्तानियों को लताड़ा, कॉन्ग्रेस के साथ उनके साँठगाँठ पर उठाया सवाल

"आज के दिन #ऑपरेशनब्लूस्टार पंजाब में कॉन्ग्रेस के शासनकाल के दौरान हुआ… कथित खालिस्तान का एक बड़ा हिस्सा कॉन्ग्रेस नेताओं द्वारा पाकिस्तान को दे दिया गया था, लेकिन आतंकवादी इसे पूछने की हिम्मत तक नहीं करते, आतंकवाद अपनी सुविधा को देखते हुए अपनी आवाज उठाता है…."

ऑपरेशन ब्लू स्टार की 37वीं बरसी पर बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने खालिस्तानियों को आड़े हाथों लिया है। उन्होंने सोशल नेटवर्किंग ऐप ‘कू’ पर कहा, “आज के दिन #ऑपरेशनब्लूस्टार पंजाब में कॉन्ग्रेस के शासनकाल के दौरान हुआ… ये हमारे देश और उसके लोगों के बारे में बहुत कुछ कहता है… कथित खालिस्तान का एक बड़ा हिस्सा कॉन्ग्रेस नेताओं द्वारा पाकिस्तान को दे दिया गया था, लेकिन आतंकवादी इसे पूछने की हिम्मत तक नहीं करते, आतंकवाद सुविधा को देखते हुए अपनी आवाज उठाता है… दुनिया का इतिहास परस्पर विरोधी है क्रूरता और मनोरंजन…।”

कंगना ने खालिस्तानियों से सहानुभूति रखने वालों पर वाजिब सवाल उठाए, जो दिखाता है कि उनके इरादे बेहद नेक हैं। एक्ट्रेस ने पहला सवाल यह उठाया था कि पंजाब की सत्तारूढ़ कॉन्गेस सरकार यहाँ शासन कैसे चलाती है, क्योंकि ऑपरेशन ब्लू स्टार उस समय केंद्र में कॉन्ग्रेस के कार्यकाल के दौरान ही हुआ था।

उन्होंने दूसरा सवाल खालिस्तानी ताकतों के गलत इरादों को लेकर उठाया। खासतौर पर कथित खालिस्तान (सिखों या पंजाब की भूमि) का एक बड़ा हिस्सा विभाजन के समय पाकिस्तान को दिया गया था। प्रारंभिक वर्षों में देश पर शासन करने वाले कॉन्ग्रेस नेताओं ने विभाजन की शर्तों पर सहमति जताई थी। हालाँकि, इसके बाद भी खालिस्तानी आतंकवादियों और उनके चाहने वालों ने कभी भी पड़ोसी देश से पाकिस्तान में पंजाब प्रांत के अपने ‘अहम हिस्से’ को लेकर कुछ भी नहीं पूछा।

कथित खालिस्तान क्षेत्र का नक्शा

जैसा कि इस नक्शे में देखा जा सकता है कि ‘खालिस्तान’ क्षेत्र भारत और पाकिस्तान के बीच में आता है, लेकिन खालिस्तान समर्थक अपनी आवाज केवल भारत में ही और भारत के खिलाफ ही बुलंद करते हैं। इस तरह के कई विरोध विदेशों में भारतीय दूतावासों के बाहर हुए हैं, लेकिन पाकिस्तानी दूतावास के बाहर कभी नहीं हुए।

खालिस्तानी अराजक तत्वों ने भारतीय दूतावास के बाहर विदेशों में अनगिनत बार विरोध किया है, लेकिन उन्होंने कभी भी पाकिस्तान के दूतावास के बाहर ऐसा करने की हिम्मत नहीं की। सच तो यह है कि खालिस्तानियों को कई मामलों में भारत और उसकी सरकार के खिलाफ भड़काऊ भाषण व नारे लगाने के लिए पाकिस्तानियों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर मार्च करते हुए देखा गया है।

किसान आंदोलन में खालिस्तानी ताकतों की कथित भूमिका

कथित तौर पर खालिस्तानी ताकतों ने सितंबर 2020 में मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन में घुसपैठ की। ऐसे कई सबूत हैं जो इस ओर इशारा करते हैं कि सिख फॉर जस्टिस (Sikhs For Justice) जैसे खालिस्तानी संगठनों ने ट्रैक्टर रैली के दौरान दंगा भड़काने के लिए ‘इनाम‘ के नाम पर फंड मुहैया कराया है।

एसएफजे (SFJ) के प्रमुख पन्नू ने लाल किले पर खालिस्तानी झंडा फहराने वाले को इनाम देने की घोषणा की थी और 26 जनवरी को कथित किसानों के एक समूह ने लाल किले पर सिखों के पवित्र त्रिकोणीय ध्वज के साथ दो झंडे फहराए थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस भोजशाला को मुस्लिम कहते हैं कमाल मौलाना मस्जिद, वह मंदिर ही है: ASI ने हाई कोर्ट को बताया- मंदिरों के हिस्से पर बने...

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट को सौंपी गई रिपोर्ट में ASI ने कहा है कि भोजशाला का वर्तमान परिसर यहाँ पहले मौजूद मंदिर के अवशेषों से बनाया गया था।

भारतवंशी पत्नी, हिंदू पंडित ने करवाई शादी: कौन हैं JD वेंस जिन्हें डोनाल्ड ट्रम्प ने चुना अपना उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, हमले के बाद पूर्व अमेरिकी...

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को रिपब्लिकन पार्टी के नेशनल कंवेंशन में राष्ट्रपति और सीनेटर JD वेंस को उपराष्ट्रपति उम्मीदवार चुना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -