Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाजOpIndia impact: धोखाधड़ी मामले में वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता किशोर उपाध्याय का भाई देहरादून से...

OpIndia impact: धोखाधड़ी मामले में वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता किशोर उपाध्याय का भाई देहरादून से गिरफ्तार

SIT ने अपनी जाँच में पाया कि सचिन उपाध्याय ने अपने पूर्व कारोबारी साझेदार मुकेश जोशी के 50 प्रतिशत शेयर अवैध रूप से हस्तांतरित कर दिए थे। सचिन उपाध्याय ने उनके फर्जी दस्तखत करके सारे शेयर अपनी पत्नी के नाम स्थानांतरित करा लिए थे।

उत्तराखंड कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता किशोर उपाध्याय के भाई सचिन उपाध्याय को रविवार (जनवरी 19, 2019) को धोखाधड़ी के एक मामले में देहरादून में गिरफ्तार कर लिया गया। सचिन उपाध्याय को उनके खिलाफ धोखाधड़ी के आरोपों की जाँच कर रहे एक विशेष जाँच दल (SIT) की रिपोर्ट के आधार उनके घर के बाहर से गिरफ्तार किया गया। कॉन्ग्रेस नेता के भाई के खिलाफ आरोप सामने आने के बाद पिछले साल जून में एसआईटी का गठन किया गया था।

SIT ने अपनी जाँच में पाया कि सचिन उपाध्याय ने अपने पूर्व कारोबारी साझेदार मुकेश जोशी के 50 प्रतिशत शेयर अवैध रूप से हस्तांतरित कर दिए थे। सचिन उपाध्याय ने संयुक्त स्वामित्व वाली कंपनी एसएम हॉस्पिटेलिटी प्राइवेट लिमिटेड में उनके हिस्से के 50 फीसदी शेयर उनके फर्जी दस्तखत करके अपनी पत्नी के नाम स्थानांतरित करा लिए थे।

धोखाधड़ी के इस मामले की सबसे पहली रिपोर्टिंग ऑपइंडिया ने अक्टूबर 2018 में की थी। जिसमें उपाध्याय द्वारा की गई धोखाधड़ी का विवरण प्रकाशित किया गया था। मुकेश जोशी ने कंपनी लॉ बोर्ड के समक्ष आरोप लगाया था कि उन्होंने कंपनी को जमीन खरीदने के लिए 1.7 करोड़ रुपए का ऋण दिया था, लेकिन सचिन उपाध्याय ने उनके हिस्से का शेयर नहीं दिया। वहीं जब सचिन उपाध्याय के इस धोखाधड़ी और वित्तीय घाटे को लेकर मुकेश को हार्ट अटैक आया और वो हॉस्पिटल में भर्ती थे, तो सचिन उपाध्याय ने ऋण को इक्विटी शेयर में बदल दिया और उसे अपनी पत्नी को आवंटित कर दिया, जिसे उसने खुद कंपनी का निदेशक बनाया था। उपाध्याय ने अपनी पत्नी को कंपनी का निदेशक बनाने के साथ ही मुकेश को कंपनी के निदेशक के पद से हटा दिया था।

सचिन उपाध्याय के खिलाफ साल 2017 में भारतीय दंड संहिता 1860 की धारा 420, धारा 467, धारा 468, धारा 471, धारा 504 और धारा 120b के तहत देहरादून के राजपुर पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कीचड़ मलती ‘गोरी’ पत्रकार या श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग… समाज/मदद के नाम पर शुद्ध धंधा है पत्रकारिता

श्मशानों से लाइव रिपोर्टिंग और जलती चिताओं की तस्वीरें छापकर यह बताने की कोशिश की जाती है कि स्थिति काफी खराब है और सरकार नाकाम है।

ओलंपिक में मीराबाई चानू के सिल्वर मेडल जीतने पर एक दुःखी वामपंथी की व्यथा…

भारत की एक महिला भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में वेटलिफ्टिंग में सिल्वर मेडल जीता है। ये विज्ञान व लोकतंत्र के खिलाफ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,987FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe