Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजUP: न्यूज एंकर समेत 4 पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी में गिरफ्तार, ₹55 हजार...

UP: न्यूज एंकर समेत 4 पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी में गिरफ्तार, ₹55 हजार में कर रहे थे सौदा

पुलिस ने बताया है कि पकड़े गए पत्रकार मेरठ से दो महीने पहले ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर आए थे। अब तक ये लोग 70-80 सिलेंडरों की ब्लैकमार्केटिंग कर चुके हैं।

उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी के बीच मेडिकल उपकरणों की कालाबाजारी करने वालों के ख़िलाफ़ यूपी पुलिस एक्शन में है। हाल में कानपुर में पुलिस ने ऑक्सीजन सिलेंडर की ब्लैक मार्केटिंग करने के आरोप में पत्रकारों को पकड़ा है। एक आरोपित की पहचान अश्विन जैन के तौर पर हुई। वह कानपुर के लोकल न्यूज चैनल भारत ए टू जेड (Bharat A to Z) का एमडी/एंकर है।

यूपी पुलिस ने जैन की गिरफ्तारी की जानकारी ट्विटर पर साझा की है। इसमें बताया गया कि आरोपित एंकर को ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी के लिए गिरफ्तार किया गया। उसके पास से पुलिस ने 10 सिलेंडर भी बरामद किए। 

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, कानपुर के डीसीपी (क्राइम) सलमान ताज पाटिल ने कहा कि पनकी इंडस्ट्रियल एरिया में क्राइम ब्रांच और पनकी पुलिस ने पत्रकारिता की आड़ में ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी करते 4 लोगों को रंगे हाथों पकड़ लिया, जिसमें एक भारत ए टू ज़ेड न्यूज़ चैनल का एमडी और एंकर अश्विनी जैन भी शामिल है।

न्यूज ट्रैक के मुताबिक बाकी आरोपितों की पहचान ऋषभ जैन, प्रदीप बाजपेयी, अभिषेक तिवारी के तौर पर हुई है। ये भी पत्रकारिता पेशे से जुड़े लोग हैं। इन सबके पास से 4 बड़े और 6 छोटे सिलेंडर बरामद हुए। इसके अलावा एक वैगनआर और पत्रकारों के पास से उनके आईकार्ड बरामद हुए। अब आगे की कार्रवाई हो रही है।

तस्वीर साभार: jantaserishta.com

डीसीपी सलमान ताज ने बताया कि ये लोग मेरठ से 2 माह पहले 80-90 ऑक्सीजन सिलेंडर लाए थे और हाल में उसे 55000 रुपए में बेच रहे थे। इनके पास छोटे सिलेंडर भी थे, जिन्हें 35 से 40 हजार में बेचा जा रहा था। डीसीपी ने कहा कि अब तक ये लोग 70-80 सिलेंडरों की कालाबाजारी कर चुके हैं। सारे सिलेंडर पनकी इंडस्ट्रियल एरिया में डम्प किए जाते थे। मामले का खुलासा होने के बाद अब आगे की पड़ताल चल रही हैं। पनकी में ही इस संबंध में केस दर्ज हुआ है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe