Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाज'पाकिस्तान जिंदाबाद' का नारा लगाने वाला PFI नेता गिरफ्तार, वीडियो की फॉरेंसिक जाँच के...

‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ का नारा लगाने वाला PFI नेता गिरफ्तार, वीडियो की फॉरेंसिक जाँच के बाद कार्रवाई: AltNews और मोहम्मद जुबैर ने दी थी क्लीन चिट

'ऑल्ट न्यूज़' ने PFI नेता अब्दुल सलाम के बयान का भी उल्लेख किया था, जिसे अब रैली आयोजित करने के लिए गिरफ्तार किया गया है। 'ऑल्ट न्यूज़' ने अब्दुल सलाम अंसारी के हवाले से बताया था, "वायरल वीडियो स्थानीय चुनाव के बाद 7 फरवरी, 2021 का है।"

प्रतिबंधित इस्लामिक कट्टरपंथी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के पूर्व जिलाध्यक्ष अब्दुल सलाम नाम के व्यक्ति को राजस्थान की भीलवाड़ा पुलिस ने एक रैली में पाकिस्तान समर्थक नारे लगाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इस साल 15 मई को एक वीडियो वायरल होने के बाद मामला दर्ज किया गया था। वीडियो में पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे सुने जा सकते हैं। प्रोपेगेंडा वेबसाइट ‘ऑल्ट न्यूज़’ ने भी कथित तथ्यों की जाँच की बात कही थी और PFI नेता को क्लीन चिट दे दी थी।

सुभाष नगर थाना प्रभारी नंदलाल रिणवा ने बताया कि शिकायत के बाद वायरल वीडियो को फॉरेंसिक जाँच के लिए भेजा गया था। जाँच में पाया गया कि पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए गए थे। इसके अलावा, यह पता चला कि रैली 7 फरवरी, 2021 को नाथूलाल राव के लिए आयोजित की गई थी, जिन्होंने PFI की राजनीतिक शाखा एसडीपीआई के टिकट पर वार्ड 57 से चुनाव जीता था।

रैली का नेतृत्व पीएफआई के पूर्व जिलाध्यक्ष अब्दुल सलाम अंसारी ने किया। रैली में शामिल लोग पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाते साफ दिखाई दे रहे हैं। इसी आधार पर पीएफआई नेता अब्दुल सलाम अंसारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

थाना प्रभारी ने बताया कि 15 मई, 2022 को सांगानेर निवासी नेमीचंद पुत्र बाबूलाल खटीक ने इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई थी, जिसके बाद वीडियो को फॉरेंसिक जाँच के लिए भेजा था। सोमवार ( 21 नवंबर, 2022) को आई फॉरेंसिक रिपोर्ट के मुताबिक, रैली के दौरान पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए गए थे। रिणवा ने बताया कि अब्दुल सलाम को गिरफ्तार कर लिया गया है और रैली में मौजूद अन्य व्यक्तियों के विवरण की जाँच की जा रही है और आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

ऑल्ट न्यूज़’ और मोहम्मद ज़ुबैर ने PFI की उस रैली को क्लीन चिट दी थी

‘ऑल्ट न्यूज़’ और मोहम्मद ज़ुबैर ने PFI की उस रैली को क्लीन चिट दी थी जिसमें ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे लगे थे। शिकायत दर्ज होने और मामले के तूल पकड़ने के कुछ दिनों बाद, अति-वामपंथी प्रचार वेबसाइट ‘ऑल्ट न्यूज़’ ने PFI का बचाव करते हुए दावा किया कि रैली में कोई पाक-समर्थक नारे नहीं लगाए गए थे। उल्लेखनीय है कि ‘ऑल्ट न्यूज़’ इस्लामवादियों को बचाने के लिए प्रसिद्ध है।

इसने पीएफआई नेता अब्दुल सलाम को क्लीन चिट दे दी और दावा किया कि पाकिस्तान जिंदाबाद के नहीं ‘एसडीपीआई जिंदाबाद’ के नारे लगाए गए थे। रिपोर्ट को यहाँ देखा जा सकता है।

ऑल्ट न्यूज़ की रिपोर्ट
ऑल्ट न्यूज़ की रिपोर्ट

‘ऑल्ट न्यूज़’ ने PFI नेता अब्दुल सलाम के बयान का भी उल्लेख किया था, जिसे अब रैली आयोजित करने के लिए गिरफ्तार किया गया है। ‘ऑल्ट न्यूज़’ ने अब्दुल सलाम अंसारी के हवाले से बताया था, “वायरल वीडियो स्थानीय चुनाव के बाद 7 फरवरी, 2021 का है। एसडीपीआई के नाथूलाल राव के वार्ड 57 में जीतने के बाद वीडियो में रैली का एक हिस्सा दिखाया गया है। यह दावा कि पाकिस्तान समर्थक नारे लगाए गए थे, झूठा है।”

ऑल्ट न्यूज़ की रिपोर्ट

रिपोर्ट के अंत में, ‘ऑल्ट न्यूज़’ ने कहा, “वीडियो में पाकिस्तान समर्थक नारे लगाने का दावा झूठा है।” उन्होंने दावा करते हुए कहा था कि नारा ‘एसडीपीआई जिंदाबाद’ का लगाया गया है न कि ‘पाकिस्तान जिंदाबाद का। प्रचार पोर्टल के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर पर समुदायों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने और दंगे भड़काने के लिए कई मामलों में FIR दर्ज किया गया है। जुबैर भी मई 2022 में अंसारी के समर्थन में उतर आए और ट्वीट कर रैली का बचाव किया।

मोहम्मद जुबैर का ट्वीट

‘ऑल्ट न्यूज़’ ने न केवल अपने पाठकों को यह विश्वास करने के लिए गुमराह किया कि पीएफआई की रैली में भाग लेने वाले प्रदर्शनकारियों ने ‘एसडीपीआई जिंदाबाद’ के नारे लगाए, बल्कि इस बात पर जोर दिया कि यह वीडियो फरवरी 2021 का है न कि मई 2022 का। ऑल्ट न्यूज मानो यह कहना चाह रहा था कि फरवरी 2021 में पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाना स्वीकार्य था और दंडनीय नहीं था।

ऐसा लगता है कि ‘ऑल्ट न्यूज़’ ने वायरल वीडियो के साथ किए गए दावों को झूठा साबित करने के लिए कुटिल अभ्यास में महारत हासिल कर ली है। प्रदर्शनकारियों ने रैली में ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे लगाए, लेकिन ज़ुबैर और ऑल्ट न्यूज़ ने इस बात पर जोर दिया कि वीडियो एक साल से अधिक पुराना है और प्रदर्शनकारी पीएफआई के समर्थन में नारे लगा रहे थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -