Friday, June 18, 2021
Home देश-समाज 15 शहर, 30 विश्वविद्यालय, 300 शिक्षाविद, 1 लक्ष्य: देश को मोदी चाहिए दोबारा

15 शहर, 30 विश्वविद्यालय, 300 शिक्षाविद, 1 लक्ष्य: देश को मोदी चाहिए दोबारा

आगामी लोकसभा चुनाव भारत के भविष्य के लिए निर्णायक साबित होंगे और अतीत के भ्रष्टाचार और निराशावादी दौर बनाम नए भारत की उम्मीदों और महत्वाकांक्षाओं के अंतर को ठोस तरीके से रेखांकित व स्थापित करेंगे।

लोकसभा चुनावों की औपचारिक घोषणा की आहट के साथ राजनीतिक सरगर्मी तेज़ हो गई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा को पुनः चुनाव जिताने के उद्देश्य के साथ जेएनयू, पटना विश्वविद्यालय, भारतीय लोक प्रशासन संस्थान, विभिन्न आईआईटी समेत देश के सर्वोच्च विश्वविद्यालयों के 300 शिक्षकों ने एक स्वतन्त्र समूह का निर्माण किया है। “एकेडेमिक्स4नमो” (Academics4NaMo) नामक इस समूह की शुरुआत दिल्ली विश्वविद्यालय के असिस्टेंट प्रोफ़ेसर स्वदेश सिंह और उनके कुछ साथी शिक्षाविदों ने की थी, जिससे कि अब 15 विभिन्न शहरों के 30 विश्वविद्यालयों के शिक्षाविद जुड़ चुके हैं। इनका उद्देश्य प्रधानमंत्री मोदी के पक्ष में वैचारिक, शैक्षिक, और बौद्धिक जगत के ज़्यादा-से-ज़्यादा लोगों का सार्वजनिक समर्थन जुटाना और भाजपा व प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ चल रहे ‘एंटी-इंटेलेक्चुअलिज्म’ के मिथक को तोड़ना है।

यहाँ गौर करने वाली बात यह है कि केवल भारत ही नहीं, सम्पूर्ण विश्व में दक्षिणपंथी राजनीति पर अक्सर यह आरोप लगता रहा है कि यह ‘एंटी-इंटेलेक्चुअल’ या वैचारिकता/बौद्धिकता के विरोधी है। इस आरोप के ‘फ्लेवर्स’ में ‘इंटेलेक्चुअल लेज़ीनेस’ (वैचारिक आलस्य) से लेकर ‘इनेप्टिट्यूड’ (बौद्धिक दिवालियापना) तक शामिल हैं।

प्रधानमंत्री मोदी की ही अगर बात करें तो उनके भाजपा का प्रधानमन्त्री प्रत्याशी बनने के पहले से उनके खिलाफ वामपंथी बौद्धिकों का आन्दोलन शुरू हो गया था। ज्ञानपीठ सम्मान से सम्मानित कन्नड़ लेखक यूआर अनंतमूर्ति ने तो देश को यह धमकी तक दे डाली कि यदि देश ने मोदी को प्रधानमंत्री बन जाने दिया तो वे विरोधस्वरूप देश का त्याग कर देंगे हालाँकि बाद में अपने उस बयान को वस्तुतः न लिए जाने की गुज़ारिश करते हुए अनंतमूर्ति ने कहा कि वह बयान उन्होंने भावातिरेक में दिया था।

जब अख़लाक़ हत्याकाण्ड सुर्ख़ियों में आया तो उसे मोदी और हिन्दुत्ववादियों के बेलगाम हो जाने के सबूत के तौर पर प्रचारित करते हुए लगभग 40 लेखकों, फ़िल्म तकनीशियनों, बौद्धिकों ने “अवार्ड वापसी” आन्दोलन शुरू किया, जो कि भाजपा के बिहार चुनाव हारने के बाद हवा हो गया।

इस बार ‘Academics4NaMo’ समूह इसी ‘नैरेटिव’ का प्रत्युत्तर तैयार करना चाहता है

दो विश्वविद्यालयों- नरेन्द्र देव कृषि व प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, अयोध्या (तत्कालीन फैजाबाद), व बीआर अम्बेडकर समाजशास्त्र विश्वविद्यालय, इंदौर के कुलपति रह चुके आरएस कुरील के अनुसार वह नरेंद्र मोदी की गरीब-समर्थक नीतियों से खासे प्रभावित हुए हैं। अंग्रेज़ी पोर्टल “द प्रिंट” को दिए गए साक्षात्कार में उन्होंने मोदी की नीतियों और योजनाओं को गरीबों और महिलाओं के सशक्तिकरण की ओर केन्द्रित बताया।

बीएचयू में इंडोलोजी के चेयर प्रोफ़ेसर राकेश उपाध्याय के अनुसार वामपंथी विचारधारा से प्रेरित अवार्ड वापसी गैंग बहुत समय तक सार्वजनिक बहस में अकेली आवाज़ बना रहा, और यह समय (उनके जैसे विचार रखने वाले बौद्धिकों के लिए) मोदी के पक्ष में खुल कर खड़े होने और हमारी खोई हुई सांकृतिक परम्पराओं के गौरव को पुनः प्राप्त करने का है।

जेएनयू की वंदना मिश्रा कहतीं हैं कि उन्हें मोदी के महिला सशक्तिकरण के लिए उठाए गए कदमों ने आकर्षित किया। लाखों गरीब महिलाओं को उज्ज्वला योजना के लाभ, मातृत्व अवकाश को 6 महीने तक बढ़ाए जाने, महिलाओं को सशस्त्र सेनाओं में कमीशन दिए जाने आदि को वह उदाहरण के तौर पर पेश करतीं हैं।

जेएनयू में ही भाषा विभाग के सुधीर प्रताप के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी ने समाज के हर वर्ग के जीवन में कुछ-न-कुछ सुधार लाने के अलावा सीमा सुरक्षा के क्षेत्र में भी उल्लेखनीय कार्य किया है। उनके अनुसार प्रधानमंत्री मोदी ने “अपने कार्यों के ज़रिए सशक्तिकरण, शिक्षा, रोज़गार, और उद्यम में हर वर्ग की अधिकतम भागीदारी का मार्ग प्रशस्त किया है”।

“एकेडेमिक्स4नमो” के फेसबुक पेज के अनुसार इस समूह का मानना है कि आगामी लोकसभा चुनाव भारत के भविष्य के लिए निर्णायक साबित होंगे और अतीत के भ्रष्टाचार और निराशावादी दौर बनाम नए भारत की उम्मीदों और महत्वाकांक्षाओं के अंतर को ठोस तरीके से रेखांकित व स्थापित करेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी की चुनावी जीत में सहायता के लिए यह समूह विभिन्न विषयों पर चर्चाओं और राजनीतिक बहसों का आयोजन करने के अलावा इंटरनेट के माध्यम से विभिन्न ऑनलाइन मंचों पर अपनी बात लेखों के द्वारा रखेगा। उनका उद्देश्य अधिक से अधिक बौद्धिकों, विचारकों, पत्रकारों, आदि तक प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के सही एजेंडे, और विभिन्न मुद्दों पर उनकी राय को रखना होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘अगर मरना पड़े तो 4-6 को मार के मरना’: कॉन्ग्रेस अल्पसंख्यक सेल का नया अध्यक्ष, जो बच्चों से लगवाता है ‘हिटलर की मौत मरेगा’...

इमरान प्रतापगढ़ी को देश के कई उर्दू मुशायरों और इस्लामी कार्यक्रमों में बुलाया जाता है और वो उन्हीं का सहारा लेकर अपना इस्लामी प्रोपेगंडा चलाते हैं।

दो समुद्री तटों और चार पहाड़ियों के बीच स्थित रायगढ़ का हरिहरेश्वर मंदिर, जहाँ विराजमान हैं पेशवाओं के कुलदेवता

अक्सर कालभैरव की प्रतिमा दक्षिण की ओर मुख किए हुए मिलती है लेकिन हरिहरेश्वर में स्थित मंदिर में कालभैरव की प्रतिमा उत्तरमुखी है।

मोदी कैबिनेट में वरुण गाँधी की एंट्री के आसार, राजनाथ बोले- UP में 2022 का चुनाव योगी के नाम

मोदी सरकार में जल्द फेरबदल की अटकलें कई दिनों से लग रही है। 6 नाम सामने आए हैं जिन्हें जगह मिलने की बात कही जा रही है।

ताबीज की लड़ाई को दिया जय श्रीराम का रंग: गाजियाबाद केस की पूरी डिटेल, जुबैर से लेकर बौना सद्दाम तक की बात

गाजियाबाद में मुस्लिम बुजुर्ग के साथ हुई मारपीट की घटना में कब, क्या, कैसे हुआ। सब कुछ एक साथ।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

‘अब मूत्रालय का भी फीता काट दो’: AAP का ‘स्पीडब्रेकर’ देख नेटिजन्स बोले- नारियल फोड़ने से धँस तो नहीं गया

AAP नेता शिवचरण गोयल ने स्पीडब्रेकर का सारा श्रेय मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिया। लेकिन नेटिजन्स ने पूछ दिए कुछ कठिन सवाल।

प्रचलित ख़बरें

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘भारत से ज्यादा सुखी पाकिस्तान’: विदेशी लड़की ने किया ध्रुव राठी का फैक्ट-चेक, मिल रही गाली और धमकी, परिवार भी प्रताड़ित

साथ ही कैरोलिना गोस्वामी ने उन्होंने कहा कि ध्रुव राठी अपने वीडियो को अपने चैनल से डालें, ताकि जिन लोगों को उन्होंने गुमराह किया है उन्हें सच्चाई का पता चले।

टिकरी बॉर्डर पर शराब पिला जिंदा जलाया, शहीद बताने की साजिश: जातिसूचक शब्दों के साथ धमकी भी

जले हुए हालात में भी मुकेश ने बताया कि किसान आंदोलन में कृष्ण नामक एक व्यक्ति ने पहले शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी।

‘चुपचाप मेरे बेटे की रखैल बन कर रह, इस्लाम कबूल कर’ – मृत्युंजय बन मुर्तजा ने फँसाया, उसके अम्मी-अब्बा ने धमकाया

मुर्तजा को धर्मान्तरण कानून-2020 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित को कोर्ट में पेश करने के बाद उसे जेल भेज दिया गया है।

पल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों ने कहा- ‘तो इसलिए की थी बंगाल रैली रद्द’

जहाँ यूजर्स उन्हें सोनिया गाँधी को लेकर इतनी महत्तवपूर्ण जानकारी देने के लिए तंज भरे अंदाज में आभार दे रहे हैं। वहीं राहुल गाँधी को लेकर बताया जा रहा है कि कैसे उन्होंने बेवजह वाह-वाही लूट ली।

भाई की आँखें फोड़वा दी, बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते मरी: मोहब्बत का दुश्मन था हिन्दू-मुस्लिम शादी पर प्रतिबंध लगाने वाला शाहजहाँ

माँ नूरजहाँ को निकाल बाहर किया। ससुर की आँखें फोड़वा डाली। बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते हुए मरी। हिन्दुओं पर अत्याचार किए। आज वही व्यक्ति लिबरलों के लिए 'प्यार का मसीहा' है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,573FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe