Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाज5 साल का बच्चा, 1 मिनट 35 सेकेंड में पूरा कर डाला हनुमान चालीसा...

5 साल का बच्चा, 1 मिनट 35 सेकेंड में पूरा कर डाला हनुमान चालीसा का पाठ: तोड़ा अपना ही रिकॉर्ड, अब गीतांश को सम्मानित करेंगी राष्ट्रति

इससे पहले साल 2018 में झारखंड में हजारीबाग के रहने वाले 5 साल के बच्चे युवराज ने 1 मिनट 55 सेकंड में भगवान हनुमान की प्रार्थना में 40 छंदों वाला हनुमान चालीसा पढ़ने का रिकॉर्ड बनाया था। इस पर उसका नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में भी दर्ज हुआ था।

पंजाब के बठिंडा में रहने वाला पाँच साल का बच्चा गीतांश गोयल हनुमान चालीसा का पाठ करके सुर्खियों में है। गीतांश ने अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 1 मिनट 35 सेकेंड में हनुमान चालीसा का पाठ कर डाली। बच्चे की प्रतिभा को देखते हुए राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू उसे 30 अगस्त को राष्ट्रपति भवन में सम्मानित करेंगी। 

राष्ट्रपति से सम्मान पाने की खबर से गीतांश के माता-पिता बहुत खुश हैं। उनका कहना है कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को अब तक हम अखबार या टीवी चैनलों पर देखते रहे हैं। अब हमारी उनसे हमारी मुलाकात होगी। परिवार ने कहा कि उन्हें बेटे पर बहुत गर्व है।

बता दें, इससे पहले साल 2018 में झारखंड में हजारीबाग के रहने वाले 5 साल के बच्चे युवराज ने 1 मिनट 55 सेकंड में भगवान हनुमान की प्रार्थना में 40 छंदों वाला हनुमान चालीसा पढ़ने का रिकॉर्ड बनाया था। इस पर उसका नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में भी दर्ज हुआ था।

इसके बाद सितंबर 2022 में गीतांश गोयल ने 1 मिनट 54 सेकेंड में हनुमान चालीसा का पाठ करके युवराज के रिकॉर्ड को तोड़ दिया। इसके बाद गीतांश गोयल का नाम इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज कर लिया। अब गीतांश ने अपने ही रिकॉर्ड को तोड़ दिया है।

पिछले रिकॉर्ड के मुकाबले गीतांश ने इस बार हनुमान चालीसा को सिर्फ 1 मिनट 35 सेकेंड में पढ़ डाला। इसके बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने गीतांश को सम्मानित करने का निर्णय लिया। गीतांश के पिता डॉक्टर विपिन गोयल और माँ डॉक्टर अमनदीप गोयल ने कहा कि उनके बेटे ने उनका नाम रौशन किया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -