Friday, June 14, 2024
Homeदेश-समाजPM मोदी से मिले अफगानिस्तान से आए हिंदू-सिख: CAA लाने और तालिबान से जान...

PM मोदी से मिले अफगानिस्तान से आए हिंदू-सिख: CAA लाने और तालिबान से जान बचाने के लिए जताया आभार

भारत आए निदान सिंह सचदेव ने बताया, "मुझे एक गुरुद्वारे से तालिबान ने अपहरण कर लिया था। उन्होंने हमें भारतीय जासूस समझा था। वे चाहते थे कि हम इस्लाम में धर्मांतरित हो जाएँ। हमने पीएम मोदी को धन्यवाद दिया और भारत सरकार की मदद से खुश हैं। हमें बस आश्रय और राष्ट्रीयता की आवश्यकता है।"

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद वहाँ से जान बचाकर भारत आए हिंदू और सिख समुदाय के एक प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार (19 फरवरी) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की। इस शिष्टमंडल में वे लोग भी शामिल थे, जो अफगानिस्तान से वर्षों पहले भारत आ गए थे। शिष्टमंडल ने प्रधानमंत्री को अफगानी साफा भी भेंट किया। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री से मिलने वाले लोगों में अफगान व्यापारी बांसरी लाल अरेंदेह भी शामिल हैं, जिन्हें पिछले साल तालिबान ने किडनैप कर लिया था और एक समझौते के बाद उन्हें छोड़ा गया था।

शनिवार को प्रधानमंत्री के आधारिक आवास 7 लोक कल्याण मार्ग पर हिंदू-सिख समुदाय के लोग पीएम मोदी से मिले। इस दौरान उन्होंने अफगानिस्तान से सुरक्षित भारत लाने के लिए प्रधानमंत्री को धन्यवाद दिया। साथ ही उन्हें सम्मानित भी किया। अफगानी हिंदू-सिखों ने पीएम मोदी अफगानिस्तान का पारंपरिक वस्त्र, साफा, तलवार और स्मृति चिह्न भेंट किया।

इस दौरान अफगानिस्तान से भारत आए निदान सिंह सचदेव ने ANI को को बताया, “मुझे एक गुरुद्वारे से तालिबान ने अपहरण कर लिया था। उन्होंने हमें भारतीय जासूस समझा था। वे चाहते थे कि हम इस्लाम में धर्मांतरित हो जाएँ। हमने पीएम मोदी को धन्यवाद दिया और भारत सरकार की मदद से खुश हैं। हमें बस आश्रय और राष्ट्रीयता की आवश्यकता है।”

साल 1989 में भारत आने वाले अफगानी मूल के नागरिक तरेंद्र सिंह ने कहा “हमने पीएम मोदी को काबुल के हालातों के बारे में संक्षिप्त में बताया। वहाँ के हालात और समीकरण हमारी मुख्य समस्या हैं। हम नागरिकता के लिए भटक रहे थे, इसलिए CAA लाने के लिए हम लोग प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद देते हैं। हम चाहते हैं कि एक ही बार में हमें नागरिकता मिले।” 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार (18 फरवरी) को सिख समुदाय के प्रतिष्ठित व्यक्तियों और धर्मगुरुओं के एक प्रतिनिधिमंडल से अपने आवास पर मुलाकात की थी। इस दौरान पीएम मोदी ने नामधारी संप्रदाय के एक आध्यात्मिक नेता उदय सिंह के साथ अपनी मुलाकात की एक तस्वीर भी ट्विटर पर शेयर की थी।

पीएम मोदी ने ट्वीट किया, “संत समाज और सिख समुदाय के प्रतिष्ठित हस्तियों से मुलाकात हुई। ये हस्तियाँ सिख संस्कृति की वाहक हैं। केंद्र सरकार के विभिन्न प्रयासों की सराहना करने के लिए मैं इनका आभारी हूँ।”

शुक्रवार (18 फरवरी) को इंडियन वर्ल्ड फोरम (IWF) नाम के एक नागरिक संगठन ने पीएम मोदी से भारत में अफगान हिंदू और सिख शरणार्थियों के लिए ‘एकल-खिड़की’ सुविधा के साथ नए वीजा देने का आग्रह किया था। इसके साथ ही संगठन ने वहाँ से आने वाले लोगों को जमीन मुहैया कराकर ‘अफगान नगर’ स्थापित करने और युद्धग्रस्त देश में प्राचीन गुरुद्वारों और मंदिरों की सुरक्षा सुनिश्चित करने का भी अनुरोध किया।

संगठन प्रमुख पुनीत सिंह चंडोक ने अफगानिस्तान से पवित्र ग्रंथों को भारत मँगवाने, अफगान हिंदू और सिख अल्पसंख्यकों को सुरक्षित भारत लाने के लिए धन्यवाद दिया। चंडोक ने कहा कि अफगानिस्तान के लोगों को भारत की ओर से दी जा रही मानवीय सहायता मोदी सरकार द्वारा मानवता को दिए जाने वाले महत्व को दर्शाती है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -