Saturday, April 20, 2024
Homeदेश-समाजपश्चिम बंगाल: कम और घटिया राशन दे रहा था डीलर हलीम शेख, लोगों ने...

पश्चिम बंगाल: कम और घटिया राशन दे रहा था डीलर हलीम शेख, लोगों ने घर घेरा, ममता बनर्जी के खिलाफ लगे नारे

विरोध प्रदर्शन के दौरान भारी पत्थरबाजी भी हुई। आगजनी भी की गई। जनता का आरोप था कि शेख राशन वितरण में काफ़ी गड़बड़ियाँ करता है और जितना मिलना चाहिए, उसका आधा राशन ही देता है। राज्य के कई हिस्सों से राशन वितरण में गड़बड़ियों की ख़बर आई है।

पश्चिम बंगाल में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में चल रही तृणमूल कॉन्ग्रेस सरकार कोरोना वायरस से निपटने में असफल रही है। मुर्शिदाबाद में ख़राब राशन मिलने के बाद लोगों ने हंगामा किया और सरकार के ख़िलाफ़ नारेबाजी करने लगे। वायरल हुए वीडियो में लोग मारामारी करते हुए और कुर्सी उठापटक करते दिख रहे हैं। लोगों का कहना है कि पीडीएस प्रणाली के तहत उन्हें काफ़ी ख़राब गुणवत्ता वाला राशन दिया जा रहा है।

लोगों का ये भी कहना था कि ममता के पश्चिम बंगाल में न सिर्फ़ घटिया राशन दिया जाता है बल्कि काफ़ी कम मात्रा में भी दिया जाता है। लोगों ने पुलिस के सामने ही तोड़फोड़ मचाई। बाद में पुलिस ने किसी तरह मामले को काबू किया। सालार क्षेत्र में हुए इस हंगामे के दौरान सैकड़ों लोगों ने एक राशन डीलर के घर को घेर लिया। उनकी माँग थी कि सरकार राशन प्रणाली को दुरुस्त करे। भीड़ ने राशन डीलर हलीम शेख के घर की कई चीजें तोड़ डालीं।

विरोध प्रदर्शन के दौरान भारी पत्थरबाजी भी हुई। आगजनी भी की गई। जनता का आरोप था कि शेख राशन वितरण में काफ़ी गड़बड़ियाँ करता है और जितना मिलना चाहिए, उसका आधा राशन ही देता है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने घोषणा की थी कि सभी कार्डधारियों को पाँच-पाँच किलो राशन दिया जाएगा। राज्य के कई हिस्सों से राशन वितरण में गड़बड़ियों की ख़बर आई है। खाद्य मंत्री ज्योतिप्रिय मलिक ने दावा किया है कि वो कड़ी नज़र रख रही हैं।

उन्होंने कहा कि कोई भी राशन डीलर गड़बड़ियों में लिप्त पाया गया तो उसके ख़िलाफ़ न सिर्फ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी बल्कि उसे सजा भी मिलेगी और साथ ही लाइसेंस कैंसल कर दिया जाएगा। अब तक अनियमितताओं के मामले में पूरे राज्य में 283 राशन डीलरों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जा चुकी है। कई मामलों में लाइसेंस रद्द किए गए हैं। पश्चिम बंगाल के कई हिस्सों में इस कारण तनाव व्याप्त है।

इससे पहले शुक्रवार (अप्रैल 29, 2020) को काकद्वीप के नारायणपुर, बीरभूम के लाभपुर और मुर्शिदाबाद के झलांगी से सामने आई थी। मंत्री मलिक का कहना है कि भाजपा और कॉन्ग्रेस हिंसा भड़का रही है जबकि उनकी पार्टी इस मामले में राजनीति नहीं कर रही है। उन्होंने बताया कि राज्य में 21,000 डीलर और 9.96 करोड़ लोग डायरेक्ट राशन योजना से लाभान्वित हुए हैं। भाजपा नेताओं का आरोप है कि राशन चोरी की जा रही है।

नदिया हबीबपुर में एक ट्रक द्वारा राशन समाग्री को चुरा कर कहीं ले जाने की बात सामने आई है। चावल और अन्य राशन से भरा वो ट्रक स्थानीय डीलर के पास आया था, जिसे कृष्णा राइस मिल भेजा जा रहा है। ग्रामीणों को इसका पता लग गया और उन्होंने इसे बीच में रोक कर ही विरोध प्रदर्शन किया। शुक्रवार की रात उस राइस मिल के सामने विरोध प्रदर्शन हुआ। तृणमूल कॉन्ग्रेस नेताओं ने इस पर कमेंट करने से इनकार किया है।

इससे पहले एक व्यक्ति ने बंगाल के स्वास्थ्य सुविधाओं की पोल खोली थी। तृणमूल कॉन्ग्रेस सरकार पर आरोप लग रहे हैं कि उसने कोरोना वायरस के मरीजों से जुड़े आँकड़े में छेड़छाड़ किया है और टेस्टिंग में भी कमी कर दी है। भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय ने आरोप लगाया था कि तृणमूल कॉन्ग्रेस सरकार राज्य में कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ लड़ाई को कमजोर कर रही है। उन्होंने सीएम ममता से आग्रह किया था कि मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति छोड़ कर अब पश्चिम बंगाल को बचाने की ओर ध्यान देना चाहिए।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ईंट-पत्थर, लाठी-डंडे, ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे… नेपाल में रामनवमी की शोभा यात्रा पर मुस्लिम भीड़ का हमला, मंदिर में घुस कर बच्चे के सिर पर...

मजहर आलम दर्जनों मुस्लिमों को ले कर खड़ा था। उसने हिन्दू संगठनों की रैली को रोक दिया और आगे न ले जाने की चेतावनी दी। पुलिस ने भी दिया उसका ही साथ।

‘भारत बदल रहा है, आगे बढ़ रहा है, नई चुनौतियों के लिए तैयार’: मोदी सरकार के लाए कानूनों पर खुश हुए CJI चंद्रचूड़, कहा...

CJI ने कहा कि इन तीनों कानूनों का संसद के माध्यम से अस्तित्व में आना इसका स्पष्ट संकेत है कि भारत बदल रहा है, हमारा देश आगे बढ़ रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe