Thursday, July 18, 2024
Homeदेश-समाजVIP नंबर, बत्ती वाली गाड़ी, पर्याप्त स्टाफ… ट्रेनी महिला IAS की डिमांड से परेशान...

VIP नंबर, बत्ती वाली गाड़ी, पर्याप्त स्टाफ… ट्रेनी महिला IAS की डिमांड से परेशान हुए पुणे के DM, मुख्य सचिव को भेजी शिकायत में कहा- देती है धमकी, चैंबर पर किया कब्जा

ट्रेनी महिला आईएएस पूजा खेडकर वीआईपी नंबर प्लेट वाली आधिकारिक कार, लाल-नीली बत्ती और अपने लिए पर्याप्त स्टाफ के साथ आधिकारिक चैंबर की माँग कर रही हैं जबकि प्रशासनिक नियमों के अनुसार, ये सुविधाएँ किसी भी प्रोबेशनर (काम सीखने वाले नियुक्त व्यक्ति) को उपलब्ध नहीं हैं।

पुणे में 32 वर्षीय ट्रेनी आईएएस अधिकारी पूजा दिलीपराव खेडकर, प्रशासन से इन दिनों अनुचित माँग करने के कारण सुर्खियों में हैं। पता चला है कि उन्होंने अपनी गलत माँगों के चलते अधिकारियों को इतना दुखी कर दिया है कि पुणे कलेक्टर डॉ. सुहास दिवसे को मुख्य सचिव सुजाता सैनिक को पत्र लिखकर मदद माँगनी पड़ी।

पुणे मिरर की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में ये दावे किए गए हैं। रिपोर्ट के अनुसार, आईएएस ट्रेनी पूजा खेडकर वीआईपी नंबर प्लेट वाली आधिकारिक कार, लाल-नीली बत्ती और अपने लिए पर्याप्त स्टाफ के साथ आधिकारिक चैंबर की माँग कर रही हैं, जबकि प्रशासनिक नियमों के अनुसार, ये सुविधाएँ किसी भी प्रोबेशनर (काम सीखने वाले नियुक्त व्यक्ति) को उपलब्ध नहीं हैं।

बताया गया है कि खेडकर के पिता दिलीपराव, जो खुद एक सेवानिवृत्त प्रशासनिक अधिकारी हैं, कथित तौर पर अपनी बेटी की माँगों को पूरा करने के लिए जिला कलेक्टर कार्यालय पर दबाव बना रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों को यह कहते हुए धमकी भी दी है कि अगर उनकी बेटी की माँगें पूरी नहीं की गईं तो उन्हें गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।

रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि आईएस ट्रेनी पूजा खेडकर इन दिनों अपने निजी वाहन का इस्तेमाल कर रही हैं और उन्होंने उस पर वीआईपी नंबर प्लेट लगा रखी है। ये भी बताया गया है कि पूजा खेडकर ने अतिरिक्त कलेक्टर अजय मोरे की अनुपस्थिति में उनके कार्यालय में भी कब्जा किया। पूजा ने अजय मोरे की अनुपस्थिति में उनके चैंबर के दरवाजे पर अपना चिन्ह लगाया और उस जगह को अपना ऑफिस बता दिया।

रिपोर्ट की मानें तो महिला पिछले तीन महीने से अधिकारियों को परेशान कर रही हैं और धमकी भी दी जा रही है कि मामले में और अधिकारियों को घसीटा जाएगा। इन्हीं सबके चलते पुणे कलेक्टर डॉ सुहास दिवासे को मुख्य सचिव सुजाता सैनिक को पत्र लिखकर मदद माँगनी पड़ी। अब मामले में आगे सुनवाई होगी।

उल्लेखनीय है कि खेडकर पहली बार सुर्खियों में नहीं आई हैं। उनके आईएएस बनने की कहानी भी कुख्यात है। यूपीएससी कम्युनिकेशन में 2 फरवरी, 2022 में छपी जानकारी के अनुसार, पूजा खेडकर को नियुक्ति देने से मना कर दिया गया था। हालाँकि, उन्होंने अदालत में एक हलफनामा दायर कर खुद को दृष्टिबाधित और मानसिक रूप से अस्वस्थ बताया। इस आधार पर उन्होंने मुकदमे में यूपीएससी के निर्णय के खिलाफ आदेश की माँग की थी। 2023 की सुनवाई में न्यायाधीश एमजी शेवलीकर की पीठ ने विकलांग व्यक्तियों के अधिकार अधिनियम 2016 के तहत वो हलफनामा पेश किया और इसके बाद खेडकर भारतीय प्रशासनिक सेवा में शामिल हुईं। एक साल बाद अब उनकी ये नई कहानी सामने आई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -