Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजबच्ची को जन्म दे महिला की मौत, इरशाद सहित 6 पर FIR: पीड़ित पिता...

बच्ची को जन्म दे महिला की मौत, इरशाद सहित 6 पर FIR: पीड़ित पिता का दावा- गैंगरेप कर गौमांस खिलाया, नमाज पढ़ने को किया मजबूर

पीड़ित पिता का कहना है कि उनकी बेटी ने एक अनजान नंबर से कॉल कर खुद को अगवा किए जाने की जानकारी दी थी। साथ ही बताया था कि गैंगरेप के बाद उसे जान से मारने की धमकी दी जा रही है।

17 अक्टूबर 2022 को राजस्थान के भरतपुर में बच्ची को जन्म देने के बाद एक महिला की मौत हो गई थी। अब इस मामले में नए और चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। मृत महिला के पिता का दावा है कि उनकी बेटी को अगवा किया गया था। उसके साथ गैंगरेप हुआ। उसे गौमांस खिलाया गया। नमाज पढ़ने को मजबूर किया गया। उन्होंने पीट पीटकर अपनी बेटी की हत्या किए जाने का आरोप लगाया है।

पीड़ित पिता ने इस मामले में इरशाद, फैयाज, वहीद, उस्मान, अल्ली और कासम के खिलाफ सीकरी थाने में मामला दर्ज कराया है। पीड़ित पिता का आरोप है कि उनकी बेटी को करीब 9 महीने पहले अगवा कर लिया गया था। उसके बाद से वे उसकी तलाश कर रहे थे। चार महीने पहले एक अनजान नंबर से उनकी बेटी का कॉल आया था। उस समय उसने खुद को अगवा किए जाने की जानकारी दी थी। बताया था कि इरशाद अपने साथियों के साथ उसके अगवा कर ले आया है। गैंगरेप के बाद उसे जान से मारने की धमकी दी जा रही है। पिता के अनुसार गौमांस खिलाकर उनकी बेटी से जबरन नमाज पढ़वाया गया था।

रिपोर्ट के अनुसार मामला दर्ज होने के बाद से आरोपित फरार हैं। 366, 376, 346 और 302 के तहत मामला दर्ज कर पुलिस जाँच कर रही है। शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया गया है। उल्लेखनीय है कि मृतका के पिता हरियाणा के झज्जर के रहने वाले हैं।

यह भी कहा जा रहा है कि मृत महिला 2021 में इरशाद के संपर्क में आई थी। उसके बाद उसने भागकर उससे शादी कर ली। इरशाद ट्रक ड्राइवर बताया जाता है। साथ ही पहले से शादीशुदा भी है।

इस मामले में पुलिस कुछ और कहानी बता रही है। रिपोर्ट के अनुसार जाँच अधिकारी रोहित कुमार का कहना है कि महिला ने बेला निवासी इरशाद के साथ करीब डेढ़ वर्ष पहले कोर्ट मैरिज की थी। दोनों पति-पत्नी के तौर पर रह रहे थे। सरकारी अस्पताल में डिलीवरी के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग के कारण उसकी मौत हो गई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -