Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजकोविड से किसान की मौत के बावजूद राकेश टिकैत जारी रखेंगे आंदोलन, कहा, 'प्रदर्शन...

कोविड से किसान की मौत के बावजूद राकेश टिकैत जारी रखेंगे आंदोलन, कहा, ‘प्रदर्शन स्थलों पर कोविड वैक्सीन केंद्र बनाए सरकार’

'''बीमारी अस्पताल की ओर ले जाती है और किसानों का यह आंदोलन संसद की ओर, इसलिए ये दोनों अलग हैं। यदि कोई बीमार है तो उसे देखना सरकार का काम है।''

भारतीय किसान संघ (BKU) के प्रवक्ता और किसान नेता राकेश टिकैत ने दिल्ली बॉर्डर पर केन्द्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के लिए प्रदर्शन स्थलों के पास ही कोविड टीकाकरण केंद्र बनाने की माँग की है। टिकैत का बयान ऐसे समय में आया है जब सिंघू बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे दो किसानों की मंगलवार को मृत्यु हो गई और उनमें से एक किसान कोरोना वायरस से संक्रमित था।

खेड़ा बॉर्डर पर मीडिया से बातचीत करते हुए किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि जब तक कृषि कानून समाप्त नहीं किए जाते तब तक किसान प्रदर्शन समाप्त नहीं करेंगे और न ही प्रदर्शन स्थलों से हटेंगे। किसानों की मौत की जिम्मेदारी सरकार पर डालते हुए टिकैत ने कहा कि सरकार प्रदर्शन स्थलों के नजदीक टीकाकरण केंद्र शुरू करे जिससे किसानों को Covid-19 के टीके लगाए जा सकें। हालाँकि ध्यान देने योग्य बात यह है कि खुद राकेश टिकैत कोरोना वायरस का टीका पहले ही ले चुके हैं।

MSP मिले बिना नहीं हिलेंगे किसान: टिकैत

टिकैत ने कहा, ”बीमारी अस्पताल की ओर ले जाती है और किसानों का यह आंदोलन संसद की ओर, इसलिए ये दोनों अलग हैं। यदि कोई बीमार है तो उसे देखना सरकार का काम है।”

कृषि कानूनों के खिलाफ लंबे समय से जारी विरोध प्रदर्शनों के बारे में पूछे जाने राकेश टिकैत ने कहा, “किसान कहीं नहीं जाएंगे। हम तब तक नहीं हिलेंगे जब तक एमएसपी नहीं दिया जाता है और सरकार हमसे बात नहीं करती है। एक आंदोलन जारी रखने के लिए छह महीने पर्याप्त नहीं हैं। हमने यहां एकता और एक मजबूत बंधन सीखा है इसलिए अब यहां से हटना मुश्किल है।’

किसान नेता ने किया आंदोलन समाप्त करने का अनुरोध

वहीं दूसरी ओर BKU के एक दूसरे किसान संगठन भारतीय किसान संघ (किसान) के प्रवक्ता भोपाल सिंह ने राष्ट्रहित में किसान आंदोलन समाप्त करने का अनुरोध किया है। सिंघू बॉर्डर पर किसानों की मौत के बाद भोपाल सिंह ने कहा कि यदि ऐसे ही किसानों की मौत होती रही तो आंदोलन कौन करेगा। सिंह ने यह भी कहा कि फिलहाल देश में स्थिति सही नहीं है और इसलिए किसानों को वर्तमान में अपना प्रदर्शन समाप्त करना चाहिए। ये प्रदर्शन परिस्थितियों के हिसाब से भविष्य में भी किए जा सकते हैं।

आपको बता दें कि मंगलवार (18 मई) को सिंघू बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे दो किसानों की मृत्यु हो गई थी। दोनों किसान पंजाब के रहने वाले थे। इनमें से एक किसान कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था। मरने वालों में बलबीर सिंह (50) और महेंदर सिंह (70) शामिल हैं। दोनों क्रमशः पटियाला और लुधियाना के रहने वाले हैं।

सोनीपत के चीफ मेडिकल ऑफिसर जसवंत सिंह पुनिया ने बताया था कि बलबीर सिंह को बीमार हालत में अस्पताल लाया गया हालाँकि उनकी मृत्यु हो चुकी थी। जाँच करने पर यह सामने आया कि बलबीर कोरोना वायरस से संक्रमित थे।  

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -