Saturday, March 6, 2021
Home देश-समाज जामिया हिंसा में हाथ सेंकने ट्विटर पर लौट आए अनुराग कश्यप, स्वरा भास्कर ने...

जामिया हिंसा में हाथ सेंकने ट्विटर पर लौट आए अनुराग कश्यप, स्वरा भास्कर ने भी उगला जहर

"अब बहुत हो चुका... और ज्यादा खामोश नहीं बैठ सकता। ये बहुत फासीवादी सरकार है... मुझे बहुत गुस्सा आता है इस बात पर कि वो लोग जो बदलाव ला सकते हैं वे खामोश बैठे हैं।"

तारीख थी 9 अगस्त 2019 की। ‘डरा हुआ शांतिप्रिय नैरेटिव’ गढ़ने में शुमार रहे फिल्मकार अनुराग कश्यप ने अपना ट्विटर अकाउंट डिलीट कर दिया था। यह कहते हुए कि “आप सभी की ख़ुशी और सफलता की कामना करता हूँ। यह मेरा आख़िरी ट्वीट है क्योंकि मैं ट्विटर अकाउंट डिलीट कर रहा हूँ। जब मुझे मेरे दिमाग में जो चल रहा है वो बिना डर के बोलने नहीं दिया जाएगा तो बेहतर है मैं कुछ भी ना बोलूँ। गुड बॉय।” यह कदम उन्होंने नेटफ्लिक्स पर सेक्रेड गेम्स का दूसरा सीजन रिलीज होने से पहले उठाया था।

लेकिन, जामिया मिलिया इस्लामिया में हिंसा होते ही उन्होंने ट्विटर से अपना स्वयंभू निर्वासन समाप्त कर दिया है। आते ही अपने मनपसंद काम में जुट गए हैं। ‘डरा हुआ शांतिप्रिय’ को बचाने के लिए मोदी सरकार और दिल्ली पुलिस पर भड़ास निकाली है। उनके साथ स्वरा भास्कर सहित बॉलीवुड का पूरा सिकुलर गैंग मोर्चे पर लग गया है।

जामिया के छात्रों को रोकने के लिए पुलिस द्वारा उठाए गए कदमों की निंदा करते हुए अनुराग कश्यप लिखते हैं, “अब बहुत हो चुका… और ज्यादा खामोश नहीं बैठ सकता। ये बहुत फासीवादी सरकार है… मुझे बहुत गुस्सा आता है इस बात पर कि वो लोग जो बदलाव ला सकते हैं वे खामोश बैठे हैं।”

सोशल मीडिया पर वायरल होती तस्वीरों और वीडियोज़ से आहत तापसी पन्नू ने पूछा है ये शुरुआत है या अंत। वे लिखती हैं, “आश्चर्य है कि यह एक शुरुआत या अंत है। चाहे जो भी हो, निश्चित तौर पर इससे कानून के नए नियम लिखे जा रहे हैं, जो इसमें फिट नहीं है वह बहुत अच्छे से इसका परिणाम देख सकता है। इस वीडियो ने सबका दिल और उम्मीद एक साथ तोड़ा है। अपरिवर्तनीय क्षति, और मैं सिर्फ जीवन और संपत्ति के बारे में बात नहीं कर रही हूँ।”

जामिया में प्रदर्शनकारियों के खिलाफ़ हुई हिंसा के मुद्दों पर मनोज वाजपेयी ने ट्वीट कर कहा, “ऐसा वक्त हो सकता है जब हम अन्याय को रोकने के लिए शक्तिहीन होते हैं, लेकिन किसी भी समय ऐसा नहीं होना चाहिए जब हम विरोध करने में विफल हों। विरोध करने के लिए छात्रों और उनके लोकतांत्रिक अधिकारों के साथ हूँ! मैं प्रदर्शनकारी छात्रों के खिलाफ हिंसा की निंदा करता हूँ!!!”

फिल्म निर्देशक सुधीर मिश्र ट्वीट कर लिखते हैं, “साल 1987 में मैंने एक फिल्म बनाई थी, जिसका नाम ‘ये वो मंजिल तो नहीं’ था। इस फिल्म की पृष्ठभूमि थी कि क्लाइमेक्स में पुलिस कॉलेज कैंपस के अंदर प्रवेश करती है और बच्चों को मारती है। अब भी कुछ नहीं बदला। ये जानना भयावह है फूल मसल दिए गए हैं।” वहीं फिल्म एक्ट्रेस कोंकाणा सेन भी लिखती हैं कि वो छात्रों के साथ हैं और दिल्ली पुलिस को शर्म आनी चाहिए।

इधर, कम से समय में बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बनाने वाले राजकुमार राव लिखते हैं, “पुलिस ने छात्रों के साथ व्यवहार में जो हिंसा दिखाई, मैं उसकी कड़ी निंदा करता हूँ। लोकतंत्र में नागरिकों को शांतिपूर्वक विरोध करने का अधिकार है। मैं सार्वजनिक संपत्तियों के विनाश के किसी भी प्रकार के कार्य की निंदा करता हूँ। हिंसा किसी भी चीज का हल नहीं है।”

हाल ही में आर्टिकल 15 को लेकर चर्चा में रहे आयुष्मान खुराना लिखते हैं, “स्टूडेंट जिस दौर से गुजर रहे हैं, उसे देखकर मैं बहुत विचलित हूँ। मैं इसकी निंदा करता हूँ। हम सभी को प्रोटेस्ट करने का अधिकार है। पर किसी भी प्रकार से प्रोटेस्ट वायलेंट नहीं होना चाहिए और सार्वजनिक संपत्तियों का ख्याल रखना चाहिए। यह गलत है। प्यारे देश वासियों यह गाँधी की भूमि है। अहिंसा अपनी चीजों को एक्सप्रेस करने का तरीका होना चाहिए। डेमोक्रेसी में हमारी आस्था होनी चाहिए।”

अक्सर सरकार की नीतियों से असहमत रहने वाली स्वरा भास्कर इस विषय पर लिखती हैं कि दिल्ली के जामिया में आँसू गैस के गोले छोड़े गए। कई छात्रों के साथ अपराधियों के जैसा सलूक किया जा रहा है? हॉस्टलों में आँसू गैस छोड़ी जा रही है? दिल्ली पुलिस ये क्या चल रहा है? ये सब हैरान करने वाला और शर्मनाक है। आपको शर्म आनी चाहिए दिल्ली पुलिस।

अली फजल इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखते हैं, ” मेरे बहुत सारे साथी हैं जो इस पर नहीं बोल रहे। लेकिन मैं दुआ करता हूँ कि हमें जल्द से जल्द एहसास हो कि इंसानियत से ऊपर कोई जॉब कोई करियर नहीं हैं। इसलिए अपनी राजनैतिक विचारधारों से परे अभी सोचो! और समय कम है इसलिए जल्दी प्रतिक्रिया दो।”

बता दें इस छात्रों के समर्थन में आकर दिल्ली पुलिस की निंदा करने वालों की सूची में विक्की कौशल भी शामिल हैं। जिन्होंने अपने ट्वीट के जरिए चिंता व्यक्त की है। उन्होंने लिखा, “जो हो रहा है वह ठीक नहीं है। जिस तरह से ये हो रहा है वो भी ठीक नहीं है। लोगों को शांतिपूर्वक अपनी राय रखने का पूरा अधिकार है। यह हिंसा और व्यवधान दोनों दुखद है और एक साथी नागरिक होने के नाते उसी के विषय के बारे में है। किसी भी परिस्थिति में, लोकतंत्र से हमारा विश्वास नहीं टूटना चाहिए।”

‘डरा हुआ शांतिप्रिय’: फ़िल्मकार अनुराग कश्यप ने डिलीट किया ट्विटर अकाउंट

लिबरल रोना भाग-2: अनुराग कश्यप सहित 49 ने PM को लिखी चिट्ठी, ‘जय श्री राम’ को बताया भड़काऊ वॉर क्राई

मैं अनुराग ‘समय’ कश्यप हूँ, मुझे हक़ीक़त से क्या, मेरी जिंदगी का एक्के मकसद है – प्रपंच और प्रलाप चलता रहे

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘वह शिक्षित है… 21 साल की उम्र में भटक गया था’: आरिब मजीद को बॉम्बे हाई कोर्ट ने दी बेल, ISIS के लिए सीरिया...

2014 में ISIS में शामिल होने के लिए सीरिया गया आरिब मजीद जेल से बाहर आ गया है। बॉम्बे हाई कोर्ट ने उसकी जमानत बरकरार रखी है।

अमेज़न पर आउट ऑफ स्टॉक हुई राहुल रौशन की किताब- ‘संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा’

राहुल रौशन ने हिंदुत्व को एक विचारधारा के रूप में क्यों विश्लेषित किया है? यह विश्लेषण करते हुए 'संघी' बनने की अपनी पेचीदा यात्रा को उन्होंने साझा किया है- अपनी किताब 'संघी हू नेवर वेंट टू अ शाखा' में…"

मुंबई पुलिस अफसर के संपर्क में था ‘एंटीलिया’ के बाहर मिले विस्फोटक लदे कार का मालिक: फडणवीस का दावा

मनसुख हिरेन ने लापता कार के बारे में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी। आज उसी हिरेन को मुंबई में एक नाले में मृत पाया गया। जिससे यह पूरा मामला और भी संदिग्ध नजर आ रहा है।

कल्याणकारी योजनाओं में आबादी के हिसाब से मुस्लिमों की हिस्सेदारी ज्यादा: CM योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश में आबादी के अनुपात में मुसलमानों की कल्याणकारी योजनाओं में अधिक हिस्सेदारी है। यह बात सीएम योगी आदित्यनाथ ने कही है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘हिंदू भगाओ, रोहिंग्या-बांग्लादेशी बसाओ पैटर्न का हिस्सा है मालवणी’: 5 साल पहले थे 108 हिंदू परिवार, आज बचे हैं 7

मुंबई बीजेपी के अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढ़ा ने महाराष्ट्र विधानसभा में मालवणी में हिंदुओं पर हो रहे अत्याचार का मसला उठाया है।

प्रचलित ख़बरें

16 महीने तक मौलवी ‘रोशन’ ने चेलों के साथ किया गैंगरेप: बेटे की कुर्बानी और 3 करोड़ के सोने से महिला का टूटा भ्रम

मौलवी पर आरोप है कि 16 माह तक इसने और इसके चेले ने एक महिला के साथ दुष्कर्म किया। उससे 45 लाख रुपए लूटे और उसके 10 साल के बेटे को...

‘मैं 25 की हूँ पर कभी सेक्स नहीं किया’: योग शिक्षिका से रेप की आरोपित LGBT एक्टिविस्ट ने खुद को बताया था असमर्थ

LGBT एक्टिविस्ट दिव्या दुरेजा पर हाल ही में एक योग शिक्षिका ने बलात्कार का आरोप लगाया है। दिव्या ने एक टेड टॉक के पेनिट्रेटिव सेक्स में असमर्थ बताया था।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘जाकर मर, मौत की वीडियो भेज दियो’ – 70 मिनट की रिकॉर्डिंग, आत्महत्या से ठीक पहले आरिफ ने आयशा को ऐसे किया था मजबूर

अहमदाबाद पुलिस ने आयशा और आरिफ के बीच हुई बातचीत की कॉल रिकॉर्ड्स को एक्सेस किया। नदी में कूदने से पहले आरिफ से...

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,954FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe