Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाज'रिंकू शर्मा की हत्या के बाद पुलिस थाने में सब के सामने लगाए थे...

‘रिंकू शर्मा की हत्या के बाद पुलिस थाने में सब के सामने लगाए थे अल्लाह हू अकबर के नारे’: पड़ोसी ने किया खुलासा

"दिल्ली पुलिस ये क्यों नहीं बता रही है कि जिन आरोपितों को गिरफ्तार किया गया था, उन्होंने पुलिस थाने के अंदर बैठ कर अल्लाह हू अकबर के नारे लगाए हैं।"

दिल्ली के मंगोलपुरी में रिंकू शर्मा की परिवार के सामने लाठी-डंडों और चाकू से मार-मार कर हत्या किए जाने के मामले में पुलिस अब तक 9 अभियुक्तों को गिरफ्तार कर चुकी है। इस हत्याकांड का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, जिसमें उनकी माँ और भाइयों के सामने आरोपितों को उन्हें घर में घुस कर मारते हुए देखा जा सकता है। अब एक स्थानीय व्यक्ति ने बताया है कि आरोपित बाद में ‘अल्लाहु अकबर’ चिल्ला रहे थे।

रिंकू शर्मा की माँ ने तभी बताया था कि जन्मदिन की पार्टी में झगड़ा होने जैसी कोई बात नहीं है क्योंकि उनके बच्चों के पास इन सबके लिए कोई समय ही नहीं है। ABP न्यूज़ के अनुसार, मोहल्ले के लोगों ने बताया कि झगड़ा धर्म को लेकर ही शुरू हुआ था और राम मंदिर चंदा अभियान के कारण ही हत्या हुई। दोनों परिवार काफी पहले से मोहल्ले में रह रहे थे। इस दौरान राजपाल नाम के पड़ोसी ने दिल्ली पुलिस के वर्जन को असत्य बताया।

उन्होंने कहा कि ये झगड़ा अगस्त 5, 2020 से शुरू हुआ था, जब अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में भूमिपूजन हुआ। उन्होंने कहा कि इसके बाद स्थानीय हिन्दुओं ने जुलूस निकाला था और 26 जनवरी को भी रैली हुई थी। उन्होंने बताया कि रिंकू शर्मा ने आरोपितों के परिवार की मदद की थी। उन्होंने कहा कि ये मामला शत-प्रतिशत धर्म के आधार पर है।

पड़ोसी राजपाल का बयान 5:30 के बाद (वीडियो साभार: ABP News)

पड़ोसी राजपाल ने कहा था, “दिल्ली पुलिस ये क्यों नहीं बता रही है कि जिन आरोपितों को गिरफ्तार किया गया था, उन्होंने पुलिस थाने के अंदर बैठ कर अल्लाह हू अकबर के नारे लगाए हैं। उन्होंने पुलिसकर्मियों के सामने ही ऐसा किया है। ये कितना चिंताजनक विषय है।” मोहल्ले के अन्य लोगों का भी यही कहना था कि राम मंदिर के लिए जुलूस निकालने के कारण ही आरोपित रिंकू से खार खाए हुए थे।

दिल्ली पुलिस का क्राइम ब्रांच गवाहों और CCTV फुटेज के आधार पर आरोपितों की पहचान कर के उनके खिलाफ कार्रवाई कर रहा है। मंगोलपुरी निवासी 40 साल के दीन मोहम्मद उर्फ सकरुद्दीन पुत्र सलाउद्दीन, 22 साल के दिलशान उर्फ आफताब पुत्र दीन मोहम्मद, 21 साल के फैयाज उर्फ सदरी पुत्र मोहम्मद कमरे आलम और 21 साल के ही फैजान उर्फ निराले पुत्र कमरे आलम – ये ताज़ा गिरफ्तार किए गए आरोपित हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe