Wednesday, September 28, 2022
Homeदेश-समाज'सीता माता पर अपशब्द... शिकायत करने पर RSS कार्यकर्ता राजेश फूलमाली की हत्या' -...

‘सीता माता पर अपशब्द… शिकायत करने पर RSS कार्यकर्ता राजेश फूलमाली की हत्या’ – अनुसूचित जाति आयोग से न्याय की अपील

"खंडवा में संघ कार्यकर्ता राजेश फूलमाली द्वारा फेसबुक में सीता माता पर अपशब्द की शिकायत पुलिस से करने पर 18 मई को रोजेदारों नें लिंचिंग की थी, इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। 15 नमाजियों को अरेस्ट किया गया है, हमारी टीम राजेश के परिवार को न्याय दिलाने के लिए वहाँ तत्पर है।"

बकरी चराने को लेकर दो गुटों में हुए विवाद में RSS कार्यकर्ता राजेश फूलमाली (Rajesh Phoolmali) की मौत को लेकर अब सोशल मीडिया पर उन्हें न्याय दिलाने के लिए आवाज उठनी शुरू हो गई है। राजेश फूलमाली गत 18 मई को हुए विवाद में घायल हो गए थे और इलाज के दौरान 31 मई को इंदौर में उनकी मौत हो जाने की खबर से मृतक के गाँव में आक्रोश का माहौल है।

वहीं सोशल मीडिया पर सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता प्रशांत पटेल उमराव ने मृतक राजेश फूलमाली (Rajesh Phoolmali) को न्याय दिलाने की बात कहते हुए लिखा है – “आरएसएस कार्यकर्ता राजेश एससी समुदाय से थे। हम पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए अनुसूचित जाति आयोग के पास जा रहे हैं।”

प्रशांत पटेल ने अपने ट्वीट में लिखा है कि एससी समुदाय को भारत में सबसे ज्यादा ‘शांतिप्रियों’ द्वारा सताया जाता है। बाबा साहब ने इसके बारे में चेतावनी दी थी। इस ट्वीट में ही राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष राम शंकर कठेरिया को टैग करते हुए उन्होंने एक्शन लेने की माँग की है।

एक अन्य ट्वीट में प्रशांत पटेल ने लिखा है – “खंडवा, MP में संघ कार्यकर्ता राजेश फूलमाली (26) द्वारा फेसबुक में सीता माता पर अपशब्द की शिकायत पुलिस से करने पर 18 मई को रोजेदारों नें लिंचिंग की थी, इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गई। 15 नमाजियों को अरेस्ट किया गया है, हमारी टीम राजेश के परिवार को न्याय दिलाने के लिए वहाँ तत्पर है।”

पहले था बकरी विवाद

मध्य प्रदेश के खंडवा जिला स्थित दीपला गाँव के जंगल में बकरी चराने की बात पर विवाद हो गया था। यह विवाद बाद में मारपीट तक पहुँच गया। पथराव के दौरान राजेश फूलमाली, निवासी दीपला को गंभीर चोट आई थी। इसके बाद उन्हें जिला अस्पताल लाया गया था, जहाँ उनकी हालत बिगड़ने पर उन्हें इंदौर रेफर किया गया था।

18 मई को दो पक्षों के बीच हुए इस विवाद में घायल युवक की रविवार (मई 31, 2020) को इलाज के दौरान इंदौर में मौत हो गई। राजेश फूलमाली की मौत की खबर खंडवा पहुँचते ही अफरा-तफरी मच गई। स्थिति को देखते हुए सुरक्षा की दृष्टि से दीपला गाँव में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया।

खांडवा जिले के एसपी ने इस संबंध में न्यू इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि इस मामले के मद्देनजर 22 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। इनमें से 19 को पुलिस ने गिरफ्तार भी कर लिया है। बाकी बचे आरोपितों को पकड़ने का भी प्रयास जारी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPA के समय ही IB ने किया था आगाह, फिर भी PFI को बढ़ने दिया गया’: पूर्व मेजर जनरल का बड़ा खुलासा, कहा –...

PFI पर बैन का स्वागत करते हुए मेजर जनरल SP सिन्हा (रिटायर्ड) ने ऑपइंडिया को बताया कि ये संगठन भारतीय सेना के समांतर अपनी फ़ौज खड़ी कर रहा था।

‘सारे मुस्लिम युवकों को जेल में डाल दिया जाएगा, UAPA है काला कानून’: PFI बैन पर भड़के ओवैसी, लालू यादव और कॉन्ग्रेस MP

असदुद्दीन ओवैसी के लिए UAPA 'काला कानून' है। लालू यादव ने RSS को 'PFI सभी बदतर' कह दिया। कॉन्ग्रेसी कोडिकुन्नील सुरेश ने RSS को बैन करने की माँग की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe