Monday, July 22, 2024
Homeदेश-समाजजिस अमजद के ऑटो से कॉलेज आती-जाती थी, उसी ने BA की हिन्दू छात्रा...

जिस अमजद के ऑटो से कॉलेज आती-जाती थी, उसी ने BA की हिन्दू छात्रा को फँसाया: उलटा उसे ही भिजवाया जेल, 2 बच्चों का है अब्बा

ऑटो ड्रायवर अमजद ने नाम बदलकर अपने प्रेम के जाल में फँसा लिया। धीरे-धीरे दोनों दोनों में नजदीकियाँ बढ़ी और एक दिन अमजद उसे लेकर भाग गया।

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के सहारनपुर जिले से लव जिहाद (Love Jihad) का चौंकाने वाला मामला प्रकाश में आया है। यहाँ अमजद नाम के शख्स ने पहले एक हिंदू युवती को नाम बदलकर अपने झूठे प्रेम जाल में फँसाया और उसे भगा ले गया। फिर उससे बच्चा चोरी करवाने लगा। इसके बाद पीड़िता को जेल भिजवा दिया।

रिपोर्ट के मुताबिक, यह घटना सहारनपुर थाना देहात कोतवाली की बताई जा रही है। पीड़िता बेटी बीए की छात्रा थी और अक्सर वो ऑटो से ही कॉलेज आती-जाती थी। इसी दौरान मौके का फायदा उठाते हुए ऑटो ड्रायवर अमजद ने नाम बदलकर अपने प्रेम के जाल में फँसा लिया। धीरे-धीरे दोनों दोनों में नजदीकियाँ बढ़ी और एक दिन अमजद उसे लेकर भाग गया। हालाँकि, वो उसे लेकर अपने घर जाने की बजाए जिला अस्पताल गया। उसने पीड़िता को बताया कि उसका कोई रिश्तेदार वहाँ भर्ती है।

आरोपित ने पीड़िता को दो दिन तक वहीं रखा और बाद में बच्चा चोरी की साजिश रचकर उसे जेल भिजवा दिया। जेल में करीब 8 महीने तक पीड़िता रही। इस बीच उसके परिजन जेल में उससे मिलते रहे, उसी दौरान उसने अपनी सारी आपबीती बयाँ की। पीड़िता की माँ के मुताबिक, आरोपित अमजद पहले से विवाहित है औऱ उसके 2 बच्चे भी हैं। बहरहाल 8 महीने की सजा काटने के बाद शुक्रवार 13 मई 2022 को जब जेल से बाहर आई तो वो काफी डरी हुई थी। प्रशासन ने उससे उसके घर भेजने की कोशिशें की, लेकिन उसने घर जाने से इनकार कर दिया। बाद में उसे नारी निकेतन भेज दिया गया।

हिंदू संगठनों ने एसएसपी से लगाई मदद की गुहार

इस बीच शनिवार (14 मई 2022) को हिंदू संगठनों ने जिले के एसएसपी आकाश तोमर से मुलाकात की। उन्हें ज्ञापन देकर हिंदू संगठनों ने पीड़िता के साथ हुई वारदात के बारे में बताया और कार्रवाई की माँग की। उसको लेकर एसपी सिटी राजेश गुप्ता के मुताबिक, केस संज्ञान में आया है और प्रार्थना पत्र के आधार पर मामले की जाँच कराई जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आम सैनिकों जैसी ड्यूटी, सेम वर्दी, भारतीय सेना में शामिल हो चुके हैं 1 लाख अग्निवीर: आरक्षण और नौकरी भी

भारतीय सेना में शामिल अग्निवीरों की संख्या 1 लाख के पार हो गई है, 50 हजार अग्निवीरों की भर्ती की जा रही है।

भारत के ओलंपिक खिलाड़ियों को मिला BCCI का साथ, जय शाह ने किया ₹8.50 करोड़ मदद का ऐलान: पेरिस में पदकों का रिकॉर्ड तोड़ने...

बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने बताया कि ओलंपिक अभियान के लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन (IOA) को बीसीसीआई 8.5 करोड़ रुपए दे रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -