Thursday, June 20, 2024
Homeदेश-समाजहिन्दू नाम से फर्जी कागजात बनवा कर साकिब, नवाज और गुलफाम ने किया बैंक...

हिन्दू नाम से फर्जी कागजात बनवा कर साकिब, नवाज और गुलफाम ने किया बैंक फ्रॉड: सिम से लेकर स्टैम्प तक सब फर्जी, सहारनपुर पुलिस ने दबोचा

इन सभी के द्वारा 20 करोड़ रुपये के फर्जी GST बिल बनाए जाने की भी जाँच की जा रही है। सभी ने अपने अपराध स्वीकार कर लिए हैं। उन्होंने बताया कि बैंक से फर्जी कागजों पर लिया गया 20 लाख रुपये का लोन उन्होंने खुद पर खर्च कर दिया है।

उत्तर प्रदेश की सहारनपुर पुलिस ने फर्जी कागज़ात तैयार कर के बैंकों को चूना लगाने वाले गैंग का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने 20 लाख रुपए गबन के आरोप में साकिब फारुखी, मोहम्मद नवाज़ और गुलफाम को गिरफ्तार कर लिया है। इन सभी ने मुकेश नाम से सहारनपुर के सेन्ट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया, जोगियान शाखा में ठगी की थी। इन पर कोतवाली सिटी सहारनपुर में अपराध संख्या 210/21 के अंतर्गत धारा 406, 420, 467, 468, 471 और 120 बी के तहत कार्रवाई की गई है। यह गिरफ्तारी 4 नवम्बर 2021 (गुरुवार) को की गई है।

सहारनपुर पुलिस द्वारा जारी प्रेस नोट के अनुसार, थाना कोतवाली पुलिस और क्राइम ब्रांच की जॉइंट टीम को इन आरोपितों की सूचना मिली थी। घेराबंदी कर के इन्हें गुरुद्वारा रोड सहारनपुर से सुबह 11.30 पर पकड़ा गया। जरूरी कानूनी औपचारिकताओं के बाद इन आरोपितों को जेल भेज दिया गया है। साकिब फारुखी और मोहम्मद नवाज सहारनपुर के रहने वाले हैं, जबकि तीसरा आरोपित गुलफाम मुजफ्फरनगर का निवासी है।

इन आरोपितों की तलाशी के दौरान फर्जीवाड़े का पूरा सामान बरामद हुआ है। इनके पास से रबर की 7 फर्जी मुहरें, 2 स्टैम्प पैड, 1 फर्जी मोबाईल सिम और 4 मोबाईल फोन बरामद किए गए हैं। साथ ही फर्जीवाड़े में इस्तेमाल किया जा रहा मुकेश नाम का एक ATM कार्ड भी पुलिस ने ज़ब्त किया है। सेन्ट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया के अधिकारियों को इनके मंसूबों की भनक भी नहीं लग पाई थी। सहारनपुर पुलिस की जाँच में साकिब फारुखी, गुलफाम और मोहम्मद नवाज़ के नामों का खुलासा हुआ।

मिली जानकारी के अनुसार इस गैंग का मुखिया साकिब ही है। इस गैंग द्वारा किसी अन्य व्यक्ति से 90 करोड़ रुपये ठगने की भी जानकारी मिली है, जिस की जाँच की जा रही है। मोहम्मद नवाज़ कम्प्यूटर का अच्छा जानकर है। वह फर्जी कागजात तैयार किया करता था । इनका तीसरा साथी गुलफाम ही मुकेश बन कर बैंक में लोन एप्लाई करने गया था।

इन सभी के द्वारा 20 करोड़ रुपये के फर्जी GST बिल बनाए जाने की भी जाँच की जा रही है। सभी ने अपने अपराध स्वीकार कर लिए हैं। उन्होंने बताया कि बैंक से फर्जी कागजों पर लिया गया 20 लाख रुपये का लोन उन्होंने खुद पर खर्च कर दिया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -