Tuesday, August 16, 2022
Homeदेश-समाजईसाई मिशनरी स्कूल सेंट फ्रांसिस ने सिख छात्रों को पगड़ी और कड़ा पहनने से...

ईसाई मिशनरी स्कूल सेंट फ्रांसिस ने सिख छात्रों को पगड़ी और कड़ा पहनने से रोका, बोला SGPC – हमने देश के लिए कुर्बानियाँ दी, हमारे साथ ही भेदभाव

देश के लिए सिखों के योगदान पर बात करते हुए धामी ने कहा कि अल्पसंख्यक होने के बावजूद सिखों ने देश की आजादी के लिए 80 फीसदी से ज्यादा कुर्बानी दी।

हाल ही में उत्तर प्रदेश के बरेली में एक स्कूल में सिख छात्रों को पगड़ी, कृपाण और कड़ा पहनने से रोकने का मामला गरमा गया है। इस मामले में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (SGPC) ने इस मामले की कड़ी निंदा की है। एसजीपीसी के अध्यक्ष हरजिंदर सिंह धामी ने इसके खिलाफ आवाज उठाने की माँग की है।

उन्होंने एक बयान में कहा, “मैं देश भर में रहने वाले सिखों से अपील करता हूँ कि वे एक साथ आएँ और सिखों के खिलाफ भेदभाव करने वाले लोगों के खिलाफ मजबूती से आवाज उठाएँ और स्थानीय स्तर पर प्रशासन से कार्रवाई करने का आग्रह करें।” धामी ने कहा कि सिखों के साथ इस तरह के भेदभाव जानबूझकर किए जा रहे हैं। एसजीपीसी अध्यक्ष ने इस मामले में सरकार पर भी पारदर्शिता नहीं रखने का आरोप लगाया है।

देश के लिए सिखों के योगदान पर बात करते हुए धामी ने कहा कि अल्पसंख्यक होने के बावजूद सिखों ने देश की आजादी के लिए 80 फीसदी से ज्यादा कुर्बानी दी। उन्होंने कहा कि सिखों की वजह से देश की संस्कृति बरकरार है। एसजीपीसी की ओर से जारी बयान में धामी के हवाले से कहा गया है, “लेकिन दुख की बात है कि देश (भारत) में सिखों के साथ भेदभाव किया जा रहा है।”

क्या है पूरा मामला

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बरेली में ईसाई मिशनरियों द्वारा चलाए जा रहे ‘सेंट फ्रांसिस स्कूल’ में स्कूल प्रबंधन ने सिख छात्रों के स्कूल में पगड़ी, कृपाण और कड़ा पहनकर आने पर रोक लगा दी थी। इसके साथ ही स्कूल प्रबंधन ने मनमानी करते हुए कहा था कि अगर किसी को ये सब पहनना है तो वो अपना नाम कटाकर जा सकता है।

उक्त स्कूल जिले के बारादरी थाना क्षेत्र के अंतर्गत आता है। डेलापीर स्थित ये स्कूल 12वीं तक का है। ये मामला उस वक्त सामने आया, जब बुधवार को प्रार्थना सभा में स्कूल की एक शिक्षक ने सभी को समान ड्रेस कोड में आने को कह दिया था। शिक्षक ने ये भी कहा था कि जो पगड़ी, कृपाण और कड़ा पहनकर आते हैं वो भी ये सब बंद कर दें। इसकी जानकारी लगते ही सिख बच्चों के माता-पिता ने इसका विरोध शुरू कर दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के शिवमोगा में लगे वीर सावरकर के पोस्टर तो काटा बवाल, प्रेम सिंह को चाकू घोंपा: धारा 144 लागू, अब्दुल, नदीम और जबीउल्लाह...

कर्नाटक में वीर सावरकर के पोस्टर पर हुए बवाल के बाद एक व्यक्ति को चाकू मारने की खबर आई है। पुलिस ने अब्दुल, नदीम, जबीउल्लाह को गिरफ्तार किया है।

‘पता नहीं 9 सितंबर को क्या होगा’: ‘लाल सिंह चड्ढा’ का हाल देख कर सहमे करण जौहर, ‘ब्रह्मास्त्र’ के डायरेक्टर को अभी से दे...

क्या करण जौहर को रिलीज से पहले ही 'ब्रह्मास्त्र' के फ्लॉप होने का डर सता रहा है? निर्देशक अयान मुखर्जी के नाम उनके सन्देश से तो यही झलकता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
214,182FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe