Friday, June 25, 2021
Home देश-समाज दिशा रवि, दीप सिद्धू जैसों के साथ खुलकर आया खालिस्तानी संगठन, PM मोदी को...

दिशा रवि, दीप सिद्धू जैसों के साथ खुलकर आया खालिस्तानी संगठन, PM मोदी को बैन करवाने के लिए चलाया ई-मेल कैंपेन

इसमें कॉन्टैक्ट की जानकारी छिपाई हुई है लेकिन पंजीकृत संगठन का नाम पन्नू लॉ फर्म पीसी है, जिसका दफ्तर न्यूयॉर्क और कैलिफोर्निया में है। ये कंपनी सिख फॉर जस्टिस के गुरपतवंत सिंह पन्नू की है।

खालिस्तानी आतंकी समूह सिख फॉर जस्टिस (SFJ) का जनरल काउंसल गुरपतवंत सिंह पन्नू भारत में राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के इल्जाम में गिरफ्तार दिशा रवि, दीप सिद्धू, नवदीप कौर और निकिता जैकब व अन्य के समर्थन में आया है।

SFJ की वीडियो से लिया गया स्क्रीनशॉट

उसने बताया है कि उसके खालिस्तानी संगठन ने इन कार्यकर्ताओं के समर्थन में एक वेबसाइट बनाई है। उसका मानना है कि इन कार्यकर्ताओं पर देशद्रोह का चार्ज लगाकर इनसे इनका प्रोटेस्ट का अधिकार छीना गया है।

संगठन द्वारा शेयर किया गया पोस्टर

उसने ट्विटर4फॉर्मर वेबसाइट को लेकर कहा कि इससे अमेरिकी, कनाडाई, ब्रितानी, जर्मनी, अस्ट्रेलिया, इटली, स्वीडन और ईयू जैसे विदेशी राजदूतों पर दबाव बनाने में मदद मिलेगी कि वह पीएम मोदी को कहीं भी आने जाने से बैन करें। पन्नू ने अनुरोध किया है कि प्रदर्शनकारी इस इमेल कैंपेन में सहभागी बनें।

ईमेल फॉरमैट में लिखा है दिशा रवि का नाम

SFJ का पोस्टर वेबसाइट पर देखा जा सकता है। यह बताता है कि ये वेबसाइट टूलकिट के क्रिएटर्स और दंगाइयों के लिए बनाया गया है। इस पर राजदूतों को ईमेल भेजने का लिंक भी है।

वेबसाइट पर पोस्टर

इसमें अलग से दिशा रवि का नाम है। जिसके साथ लिखा गया है, “दिशा रवि एक पर्यावरण एक्टिविस्ट हैं जिन्हें गिरफ्तार किया गया है और टूल किट बनाने व शेयर करने के लिए देशद्रोह की धारा लगाई गई है।”

वेबसाइट का स्क्रीनशॉट

हमने जब वेबसाइट के बारे में और जानकारी जुटाई तो हमें पता चला कि इसे 16 फरवरी 2021 को ही बनाया गया है।

इसमें कॉन्टैक्ट की जानकारी छिपाई हुई है लेकिन पंजीकृत संगठन का नाम पन्नू लॉ फर्म पीसी है, जिसका दफ्तर न्यूयॉर्क और कैलिफोर्निया में है। ये कंपनी सिख फॉर जस्टिस के गुरपतवंत सिंह पन्नू की है।

टूलकिट का पूरा मामला

बता दें कि 4 फरवरी 2021 को पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने सोशल मीडिया पर टूलकिट पोस्ट किया था। इस टूलकिट से साफ पता चला था कि कैसे भारत के विरोध में एक वैश्विक प्रोपगेंडा चलाया जा रहा है, जिसके लिंक खालिस्तान समर्थक व खालिस्तानी संगठनों से है।

पुलिस ने इस टूलकिट का संबंध 26 जनवरी को हिंसा के साथ देखते हुए  इस केस में मुकदमा दर्ज किया था। बाद में कई लोग इसकी एडिटिंग, इसे बनाने और इसके डिस्ट्रिब्यूट करने के लिए धरे गए। इनमें एक 21 साल की दिशा रवि भी थीं। कथितततौर पर दिशा की ग्रेटा से मैसेज पर बात हुई थी और उससे ये भी कहा था कि उसका ये ट्वीट उनका यूएपीए लगवा सकता है।

बाद में निकिता जैकब और शांतनु के ख़िलाफ़ गैर जमानती वारंट जारी हुआ, जो मामला दर्ज होने के बाद से ही फरार थे। दोनों ने अपनी बेल के लिए उच्च न्यायालयों में आवेदन किया था, जिसमें से निकिता को 10 दिन की ट्रांजिट जमानत दी गई।

पुलिस ने दंगों और पीटर फ्रेडरिक के बीच के लिंक का भी खुलासा किया, जिसके आतंकी संगठनों से जुड़े होने के कारण खूफिया एजेंसी 2006 से नजर बनाए हुए हैं। दिल्ली पुलिस ने बताया कि इन तीन लोगों ने 67 अन्य लोगों के साथ खालिस्तानी संगठन के साथ जूम कॉल की थी, जिसमें ये बात हुई थी कि आखिर दंगों के लिए प्रदर्शनकारियों को कैसे उकसाया जाए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली सरकार ने ऑक्सीजन जरूरत को 4 गुना बढ़ा कर दिखाया… 12 राज्यों में इसके कारण संकट: सुप्रीम कोर्ट पैनल

सुप्रीम कोर्ट की ऑक्सीजन ऑडिट टीम ने दिल्ली के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता को चार गुना से अधिक बढ़ाने के लिए केजरीवाल सरकार को...

‘अपनी मर्जी से मंतोष सहनी के साथ गई, कोई जबरदस्ती नहीं’ – फजीलत खातून ने मधुबनी अपहरण मामले पर लगाया विराम

मधुबनी जिले के बिस्फी की फजीलत खातून के कथित अपहरण मामले में नया मोड़। फजीलत खातून ने खुद ही सामने आकर बताया कि वो मंतोष सहनी के साथ...

चित्रकूट का पर्वत जो श्री राम के वरदान से बना कामदगिरि, यहाँ विराजमान कामतानाथ करते हैं भक्तों की हर इच्छा पूरी

भगवान राम ने अपने वनवास के दौरान लगभग 11 वर्ष मंदाकिनी नदी के किनारे स्थित चित्रकूट में गुजारे। चित्रकूट एक प्रमुख तीर्थ स्थल माना जाता है...

फतेहपुर के अंग्रेजी मीडियम स्कूल में हिंदू बच्चे पढ़ते थे नमाज: महिला टीचर ने खोली मौलाना उमर गौतम के धर्मांतरण गैंग की पोल

फतेहपुर के नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में मौलाना उमर के गिरोह की सक्रियता का खुलासा वहाँ की ही एक महिला टीचर ने किया है।

‘सत्यनारायण और भागवत कथा फालतू, हिजड़ों की तरह बजाते हैं ताली’: AAP नेता का वीडियो वायरल

AAP की गुजरात इकाई के नेता गोपाल इटालिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वे हिन्दू परंपराओं का अपमान करते दिख रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर: PM मोदी का ग्रासरूट डेमोक्रेसी पर जोर, जानिए राज्य का दर्जा और विधानसभा चुनाव कब

प्रधानमंत्री ने कहा कि वह 'दिल्ली की दूरी' और 'दिल की दूरी' को मिटाना चाहते हैं। परिसीमन के बाद विधानसभा चुनाव उनकी प्राथमिकता में है।

प्रचलित ख़बरें

‘सत्यनारायण और भागवत कथा फालतू, हिजड़ों की तरह बजाते हैं ताली’: AAP नेता का वीडियो वायरल

AAP की गुजरात इकाई के नेता गोपाल इटालिया का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें वे हिन्दू परंपराओं का अपमान करते दिख रहे हैं।

फतेहपुर के अंग्रेजी मीडियम स्कूल में हिंदू बच्चे पढ़ते थे नमाज: महिला टीचर ने खोली मौलाना उमर गौतम के धर्मांतरण गैंग की पोल

फतेहपुर के नूरुल हुदा इंग्लिश मीडियम स्कूल में मौलाना उमर के गिरोह की सक्रियता का खुलासा वहाँ की ही एक महिला टीचर ने किया है।

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘हरा$ज*, हरा%$, चू$%’: ‘कुत्ते’ के प्रेम में मेनका गाँधी ने पशु चिकित्सक को दी गालियाँ, ऑडियो वायरल

गाँधी ने कहा, “तुम्हारा बाप क्या करता है? कोई माली है चौकीदार है क्या हैं?” डॉक्टर बताते भी हैं कि उनके पिता एक टीचर हैं। इस पर वो पूछती हैं कि तुम इस धंधे में क्यों आए पैसे कमाने के लिए।

‘अपनी मर्जी से मंतोष सहनी के साथ गई, कोई जबरदस्ती नहीं’ – फजीलत खातून ने मधुबनी अपहरण मामले पर लगाया विराम

मधुबनी जिले के बिस्फी की फजीलत खातून के कथित अपहरण मामले में नया मोड़। फजीलत खातून ने खुद ही सामने आकर बताया कि वो मंतोष सहनी के साथ...

‘हर चोर का मोदी सरनेम क्यों’: सूरत की कोर्ट में पेश हुए राहुल गाँधी, कहा- कटाक्ष किया था, अब याद नहीं

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी सूरत की एक अदालत में पेश हुए। मामला 'सारे मोदी चोर' वाले बयान पर दर्ज आपराधिक मानहानि के मामले से जुड़ा है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,792FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe