Thursday, July 7, 2022
Homeदेश-समाजजिस असम को हिंदुस्तान से काटना चाहता था शरजील, 4 दिन की रिमांड पर...

जिस असम को हिंदुस्तान से काटना चाहता था शरजील, 4 दिन की रिमांड पर वहीं पहुँचा

एएमयू में 16 जनवरी को आयोजित सभा में शरजील ने कहा था कि अगर 5 लाख लोग संगठित हों तो वो असम से हिंदुस्तान को हमेशा के लिए अलग कर सकता है।

देशद्रोह के आरोपित और जेएनयू के छात्र शरजील इमाम को गुरुवार (फरवरी 20, 2020) को गुवाहाटी की एक स्थानीय अदालत में पेश किया गया। यहाँ कोर्ट ने मामले पर सुनवाई करते हुए उसे 4 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया। शरजील ने अलीगढ़ में सीएए विरोध प्रदर्शन के दौरान देशविरोधी बयान देते हुए असम को देश से काटने की बात कही थी। जिसके बाद उसको पिछले महीने बिहार में उसके गृहनगर जहानाबाद से गिरफ्तार किया गया था।

गिरफ्तारी के बाद उसके लैपटॉप में विवादित पोस्टर, फोटो और मोबाइल फोन से कई आपत्तिजनक मैसेज बरामद हुए थे। इसके अलावा कुछ अन्य लोगों के नामों का भी खुलासा हुआ था और साथ ही उसके बैंक खातों में विदेशी फंडिंग के संकेत भी मिले थे। बता दें कि एएमयू में 16 जनवरी को आयोजित सभा में शरजील ने कहा था कि अगर 5 लाख लोग संगठित हों तो हम असम से हिंदुस्तान को हमेशा के लिए अलग कर सकते हैं।

जामिया मामले में भी शरजील पर हिंसा भड़काने का आरोप है। जिसके मद्देनजर पिछले दिनों दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने उसके खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की थी। इसमें उसकी भूमिका को instigator (दंगा/हिंसा भड़काने वाला) के रूप में बताया गया था। गुवाहाटी लाए जाने से पहले शरजील को दिल्ली की तिहाड़ जेल में रखा गया था।

गौरतलब है कि एक ओर जहाँ शरजील इमाम के खिलाफ कानून कार्रवाई की प्रक्रिया चालू है। वहीं, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के सदस्यों ने भी उसके ख़िलाफ़ गुवाहाटी रेलवे स्टेशन के बाहर विरोध प्रदर्शन किया और अपना विरोध जताया।। बता दें कि इससे पहले इमाम को 18 फरवरी को कोर्ट ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा गया था।

शाहीन बाग के मास्टरमाइंड शरजील इमाम का होगा वॉयस टेस्ट, देशविरोधी भाषणों से किया जाएगा मिलान
शरजील इमाम के बैंक खातों से मिले विदेशी फंडिंग के संकेत, क्राइम ब्रांच ने शुरू की जाँच
जिन्ना बनना चाहता था शरजील इमाम: मस्जिदों में बँटवाए थे भड़काऊ पर्चे, फोन व लैपटॉप जब्त

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इस्लामी कट्टरपंथी काटते रहे और हिंदू आत्मरक्षा भी न करें… आखिर ये किस तरह की ‘शांति’ चाहता है TOI

भारत आज उथल-पुथल के दौर से गुजर रहा है। इस्लामवादियों के हौसले भी लगातार बढ़ रहे हैं और वे लोगों को धमकियाँ दे रहे हैं।

‘ह्यूमैनिटी टूर’ पर प्रोपेगेंडा, कश्मीर फाइल्स ‘इस्लामोफोबिक’: द क्विंट को विवेक अग्निहोत्री ने किया बेनकाब

"हम इन फे​क FACT-CHECKERS को नजरअंदाज करते थे, लेकिन सच्ची देशभक्ति इन देशद्रोही Urban Naxals (अर्बन नक्सलियों) को बेनकाब करना और हराना है।”

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
204,341FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe