Sunday, October 17, 2021
Homeदेश-समाजमुंबई, महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में मिले कोरोना के सामुदायिक संक्रमण के संकेत: राज्य...

मुंबई, महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में मिले कोरोना के सामुदायिक संक्रमण के संकेत: राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों का दावा

मुंबई शहर के साथ महाराष्ट्र के भी कुछ हिस्सों में कोरोना के सामुदायिक संक्रमण के सबूत मिले हैं, हालाँकि, उन्होंने कहा कि राज्य में समग्र तस्वीर क्लस्टर मामलों की है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कोरोना के मरीजों की संख्या तेजी से संख्या बढ़ रही है, लेकिन यहाँ के केस देश के दूसरे हिस्सों से भिन्न हैं।

महाराष्ट्र में लगातार बढ़ते कोरोना मरीजों की संख्या बीच राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने एक चौंकाने वाला खुलासा किया है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने दावा किया है कि उन्हें मुंबई सहित महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में कोरोना के सामुदायिक संक्रमण के सबूत मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग की इस रिपोर्ट ने राज्य सरकार को चिंता में डाल दिया है।

महाराष्ट्र डिजीज सर्विलांस ऑफिसर डॉक्टर प्रदीप आवटे ने जानकारी देते हुए बताया कि मुंबई शहर के साथ महाराष्ट्र के भी कुछ हिस्सों में कोरोना के सामुदायिक संक्रमण के सबूत मिले हैं, हालाँकि, उन्होंने कहा कि राज्य में समग्र तस्वीर क्लस्टर मामलों की है। उन्होंने आगे कहा कि देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कोरोना के मरीजों की संख्या तेजी से संख्या बढ़ रही है, लेकिन यहाँ के केस देश के दूसरे हिस्सों से भिन्न हैं।

शहर में कोरोना के सामुदायिक संक्रमणों पर चिंता जाहिर करते हुए डॉ. प्रदीप आवटे ने कहा कि शहर में मिलने वाले कोरोना के हर एक केस की गहनता से जाँच करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए हमें हर केस के यात्रा के इतिहास को जानने और उसके संपर्क में आने वाले लोगों को तलाशने की बेहद जरूरत है।

प्रदीप आवटे ने बताया कि मुंबई शहर का जनसंख्या घनत्व दूसरे मैट्रो शहरों की तुलना में अधिक है। आवटे के मुताबिक मुंबई शहर में प्रति वर्ग किलोमीटर में 20 हजार लोग निवास करते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि मु्ंबई में कोरोना के सबसे अधिक केस मिलने के पीछे एक बड़ा कारण यह भी है कि यहाँ बड़ी संख्या में लोग लोग रहते हैं।

ऐसे में ये जान लेना बेहद जरूरी है कि कम्युनिटी ट्रांसमिशन या सामुदायिक संक्रमण क्या होता है। दरअसल, इस दौरान किसी व्यक्ति को संक्रमण कैसे हुआ, इसका पता लगाना मुश्किल होता है, जो लोग संक्रमित इलाकों या संक्रमित लोगों के संपर्क में नहीं आए होते, अक्सर उनमें भी संक्रमण पाया जाता है। इस चरण में मामले कई गुना तेजी से बढ़ते हैं और महामारी का रूप ले सकते हैं।

आपको बता दें देश में सबसे अधिक कोरोना से मरने वालों और इससे संक्रमित मरीजों की संख्या महाराष्ट्र राज्य में हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक महाराष्ट्र में कोरोना की चपेट में आने से अब तक 832 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि इससे संक्रमिल लोगों की संख्या 22000 के पार पहुँच चुकी है। राहत की बात यह कि अब तक राज्य में 4199 मरीज ठीक होकर अपने घरों को लौट चुके हैं।

अगर बात करें पूरे देश की तो देश में कोरोना से मरने वालों की संख्या 2206, जबकि इससे संक्रमितों की संख्या 67 हजार के पार पहुँच गई है। आँकड़ों के मुताबिक देश में अभी 44,029 एक्टिव केस हैं और 20,916 मरीज ठीक हो चुके हैं। गौरतलब है कि देश में 17 मई तक लॉकडाउन जारी है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बेअदबी करने वालों को यही सज़ा मिलेगी, हम गुरु की फौज और आदि ग्रन्थ ही हमारा कानून’: हथियारबंद निहंगों को दलित की हत्या पर...

हथियारबंद निहंग सिखों ने खुद को गुरू ग्रंथ साहिब की सेना बताया। साथ ही कहा कि गुरु की फौजें किसानों और पुलिस के बीच की दीवार हैं।

सरकारी नौकरी से निकाला गया सैयद अली शाह गिलानी का पोता, J&K में रिसर्च ऑफिसर बन कर बैठा था: आतंकियों के समर्थन का आरोप

अलगाववादी नेता रहे सैयद अली शाह गिलानी के पोते अनीस-उल-इस्लाम को जम्मू कश्मीर में सरकारी नौकरी से निकाल बाहर किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,107FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe