Friday, July 19, 2024
Homeदेश-समाजरंजना से प्यार करता था इबरार आलम, दूसरे लड़के को पसंद करने की बात...

रंजना से प्यार करता था इबरार आलम, दूसरे लड़के को पसंद करने की बात पर काट डाला गला

घटना को अंजाम देने के बाद इबरार ने लड़की के शव को बगल के गली में ले जाकर फेंक दिया। जबकि अपने कपड़े, चाकू, मोबाइल को पास की नाली में जाकर फेंका।

बिहार के सीवान में 6 दिसंबर को इंटर की छात्रा रंजना कुमारी की गला रेतकर नृशंस हत्या की गई। घटना हुसैनगंज थाने के माहपुर खजरौनी गाँव में घटी। आरोपित की पहचान इबरार आलम के रूप में हुई। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही उसकी खून में सनी टीशर्ट, जींस और हत्या को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल किया गया चाकू, मोबाइल फोन आदि भी बरामद कर लिया गया है।

प्रभात खबर की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस अधीक्षक ने इस मामले पर जानकारी देते हुए बताया कि रंजना की हत्या आलम के साथ रहे प्रेम प्रसंग के कारण हुई। पुलिस के मुताबिक इबरार रंजना की बेवफाई से तंग था, इसलिए उसने प्लान बनाकर उसको मौत के घाट उतारा।

एसपी के अनुसार पचरुखी थाने की सुपौली निवासी रंजना साल 2017 में माहपुर खजरौनी (गाँव) अपनी नानी के घर मैट्रिक की परीक्षा देने आई थी। इसी दौरान उसे इबरार आलम से प्यार हो गया और दोनों में नजदीकियाँ बढ़ गईं। लेकिन, परीक्षा समाप्त होने के बाद रंजना वापस अपने पिता के पास कोलकाता चली गंई और दोनों के बीच मोबाइल पर बात होने लगीं। मगर 5-6 महीने पहले ये बातचीत का सिलसिला कम हो गया और लड़की किसी और लड़के को पसंद करने की बातें इबरार को बताने लगीं। जिसके कारण इबरार दुखी रहने लगा।

पुलिस के अनुसार 30 नवंबर को रंजना ने इबरार को मैसेज भेजकर बताया कि वे दोबारा अपने नानी के घर आ रही है। जिसके बाद आलम ने उसकी हत्या का पूरा प्लान बनाना शुरू किया। लड़की को मौत के घाट उतारने से पहले ही वे बाजार जाकर पॉलीथीन एवं चाकू खरीद लाया था। जिसे उसने अपने घर में रखा हुआ था।

इसके बाद अपने प्लान के अनुसार वह लड़की पर उससे मिलने का काफी दबाव बनाने लगा। जब 6 दिसंबर रंजना उससे मिलने के लिए राजी हुई तो वह उसे पास की एक झोपड़ी में ले जाकर बैठा और बात करने लगा। इबरार ने इस दौरान लड़की को कहा कि वो कोलकाता वाले लड़के को छोड़ दे और उससे शादी कर ले। लेकिन, बहुत कहने पर भी जब वह नहीं मानी, तो इबरार ने अपने प्लान अनुसार उसे पटककर उसका मुँह दबाया और चाकू से गला रेतकर उसकी हत्या कर दी।

घटना को अंजाम देने के बाद उसने लड़की के शव को बगल के गली में ले जाकर फेंक दिया। जबकि अपने कपड़े, चाकू, मोबाइल को पास की नाली में जाकर फेंका।

बता दें कि रंजना कुछ दिन पहले अपनी छोटी बहन पूनम के साथ कोलकाता से माहपुर इंटर की परीक्षा देने आई थी। लेकिन 6 दिसंबर को बगल की बिल्डिंग के पास मिले उसके शव ने सबको झकझोर के रख दिया। छात्रा के नाना ने इस मामले पर जानकारी देते हुए बताया था कि घटना वाली रात उनकी नातिन मकान के दूसरे मंजिल के कमरे में उनकी बहू तथा पोती के साथ सोई हुई थी। रात करीब 2 बजे उनकी बहू ने देखा की सोफा पर सोई रंजना वहाँ से गायब है। जिसके बाद उसकी खोजबीन शुरू हुई। खोजबीन के दौरान घर के लोगों ने मकान के बगल की गली में रंजना को मृत पाया। परिजनों ने बताया कि रंजना को जब उन्होंने देखा तो वो खून से लथपथ पड़ी थी तथा गर्दन शरीर से करीब-करीब अलग था। इसके बाद परिवार के लोगों ने इसकी सूचना हुसैनगंज थाने की पुलिस को दी और पुलिस ने मामले की जाँच शुरू की। करीब एक हफ्ते बाद इस मामले की परत खुल गई और इबरार पकड़ा गया। पूछताछ में उसने सारी कहानी उगली।

जमानत पर रिहा होते ही हंसिए से रेता महिला का गला, हुई मौत: नहाते वक्त बना लिया था अश्लील वीडियो
अब्दुल रहीम ने हॉस्टल वार्डन की गला रेतकर की हत्या: क्लास बंकिंग की सूचना देने से था नाराज
बहन राहिल ने की थी सपा के पूर्व मंत्री से लव मैरिज, भाई राहत ने बेरहमी से गला रेतकर मार डाला, फरार
सास शाहीन के साथ लिव इन में था शाहरुख ख़ान, आपसी विवाद के बाद गला रेत फरार
Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

1 साल में बढ़े 80 हजार वोटर, जिनमें 70 हजार का मजहब ‘इस्लाम’, क्या याद है आपको मंगलदोई? डेमोग्राफी चेंज के खिलाफ असम के...

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने तथ्यों को आधार बनाते हुए चिंता जाहिर की है कि राज्य 2044 नहीं तो 2051 तक मुस्लिम बहुल हो जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -