Wednesday, January 19, 2022
Homeराजनीतिफिरोज पप्पू मर्डर केस: टिकट दिलाने के लिए सपा के पूर्व सांसद रिजवान जहीर...

फिरोज पप्पू मर्डर केस: टिकट दिलाने के लिए सपा के पूर्व सांसद रिजवान जहीर ने ही बेटी-दामाद संग मिल करवाई हत्या, यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार

....जब उन्हें लगा कि उनकी दाल नहीं गलने वाली तो रिजवान जहीर, उनकी बेटी जेबा, जमाई रमीज और शकील ने आपस में मिलकर फिरोज पप्पू की हत्या का षणयंत्र रचा।

समाजवादी पार्टी के नेता फिरोज पप्पू की हत्या के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। पुलिस ने खुलासा किया है कि फिरोज पप्पू की हत्या बलरामपुर से सपा के दो बार सांसद रहे रिजवान जहीर ने करवाया है। इस मामले में रिजवान जहीर, उनकी बेटी जेबा औऱ जमाई रमीज को गिरफ्तार किया गया है।

करीब दो महीने पहले रिजवान जहीर ने फिर से सपा की सदस्यता ली थी, जिसके बाद से तुलसीपुर नगर पंचायत के पूर्व अध्यक्ष रहे फिरोज पप्पू के बीच गुटबाजी शुरू हो गई थी। दोनों एक दूसरे को पीछे कर सियासत में अपनी पैठ मजबूत करने के लिए संघर्ष कर रहे थे। इस घटना का खुलासा करते हुए बलरामपुर के एसपी हेमंत कुटियाल ने कहा कि फिरोज अहमद उर्फ फिरोज पप्पू की लगातार बढ़ती लोकप्रियता रिजवान जहीर के लिए बड़ा खतरा थी। दरअसल, फिरोज पप्पू तुलसीपुर विधानसभा सीट से सपा के कैंडिडेट के लिए तगड़े दावेदार थे, लेकिन पूर्व सांसद अपनी बेटी जेबा को टिकट दिलाना चाहते थे।

लेकिन जब उन्हें लगा कि उनकी दाल नहीं गलने वाली तो रिजवान जहीर, उनकी बेटी जेबा, जमाई रमीज और शकील ने आपस में मिलकर फिरोज पप्पू की हत्या का षणयंत्र रचा। हत्या की जिम्मेदारी मेहराज और महफूज को दी गई। इसके बाद नए साल में 4 जनवरी 2022 को फिरोज पप्पू की हत्या कर दी गई। यूपी पुलिस ने इस मामले में 6 लोगों को गिरफ्तार किया है।

यूपी पुलिस ने किया 6 को गिरफ्तार

कैसे दिया वारदात को अंजाम

जिले के पुलिस अधीक्षक हेमंत कुटियाल के मुताबिक, 4 जनवरी 2022 की रात 10:20 बजे के करीब फिरोज पप्पू अपने घर जा रहा था उसी दौरान मेराजुल हक उर्फ मामा और महफूज ने उस पर लोहे की रॉड और से अटैक किया। जैसे ही महफूज ने लोहे की रॉड से फिरोज के सिर पर मारा तो वो गिर गया। इसके बाद मेहराज ने चाकू से उसके गले को रेत दिया। करीब एक माह पहले ही हत्या की साजिश बनी थी। इस बीच तीन बार फिरोज को मारने की कोशिश की गई थी, लेकिन सफल नहीं हो सके थे।

इस हाई प्रोफाइल केस को सॉल्व करने वाली पुलिस टीम को राज्य के अपर गृह सचिव ने एक लाख रुपए का ईनाम देने का भी ऐलान किया था। एसपी हेमंत कुटियाल के मुताबिक, यह हत्या राजनीतिक वर्चस्व और बाहुबल साबित करने के लिए की गई है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एक्सप्रेस प्रदेश’ बन रहा है यूपी, ग्रामीण इलाकों में भी 15000 Km सड़कें: CM योगी कुछ यूँ बदल रहे रोड इंफ्रास्ट्रक्चर

योगी सरकार ने ग्रामीण इलाकों में 5 वर्षों में 15,246 किलोमीटर सड़कों का निर्माण कराया। उत्तर प्रदेश में जल्द ही अब 6 एक्सप्रेसवे हो जाएँगे।

‘अद्भुत है PM मोदी की सोच, वो देश को आगे ले जा रहे’: BJP में शामिल हुए दिवंगत CDS जनरल बिपिन रावत के भाई...

दिवंगत CDS जनरल बिपिन रावत के भाई कर्नल (रिटायर्ड) विजय रावत ने उत्तराखंड में भाजपा का दामन थाम लिया है। सीएम धामी ने दिलाई सदस्यता।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
152,216FollowersFollow
413,000SubscribersSubscribe