Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजबाप नहीं मिल पाए बेटे से एक भी दिन… इसीलिए तकिए से दबा कर...

बाप नहीं मिल पाए बेटे से एक भी दिन… इसीलिए तकिए से दबा कर मार डाला: कोर्ट ने कहा था जिंदा मिलने को, पिता को मिली 4 साल के मासूम की लाश

सूचना सेठ नहीं चाहती थीं कि उसका पति वेंकट उनके बच्चे चिन्मय से एक भी दिन मिल पाए। वह कोर्ट के इस निर्णय से गुस्से में थीं। इसीलिए उसने बच्चे को गोवा ले जाकर मार दिया।

गोवा में 4 वर्षीय बेटे की उसकी माँ के द्वारा हत्या में और भी खुलासे हुए हैं। सामने आया है कि टेक स्टार्टअप फाउंडर सूचना सेठ ने अपने 4 वर्षीय बेटे को इसलिए मार दिया क्योंकि वह यह नहीं चाहती थी कि उसका पिता उससे मिल पाए।

जानकारी के अनुसार, हत्यारोपी सूचना सेठ कोलकाता की मूल निवासी हैं, जो वर्ष 2008 में कोलकाता से बेंगलुरु आई थीं। यहाँ उनकी मुलाक़ात वेंकट रमण से हुई। वेंकट केरल के रहने वाले हैं। सूचना और वेंकट ने 2010 में विवाह करने का निर्णय लिया था। वर्ष 2019 में उनके बेटे का जन्म हुआ, जिसका नाम चिन्मय था।

पुलिस ने बताया है कि बाद में दोनों के बीच तल्खियाँ बढ़ गई थीं। इस कारण से सूचना और वेंकट रमण के बीच तलाक की प्रक्रिया 2022 में चालू हुई थी। अभी तलाक को अंतिम रूप दिया जाना बाकी था। हालाँकि, कोर्ट ने बच्चे को माँ के साथ रखे जाने का निर्णय दिया था। साथ ही यह भी निर्देश था कि उसका पिता उससे रविवार को सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक मिल सकता है।

सूचना सेठ नहीं चाहती थीं कि वेंकट उनके बच्चे चिन्मय से एक भी दिन मिल पाएँ। वह कोर्ट के इस निर्णय से गुस्से में थीं। इसीलिए उसने बच्चे को गोवा ले जाकर मार दिया। बच्चे के शव का भी पोस्टमॉर्टम हो गया है और मौत के कारण भी सामने आ गए हैं।

बच्चे के शव का पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर ने बताया है कि उसकी हत्या तकिए या ऐसी ही किसी चीज से दबा कर की गई है। उसके शरीर पर चोट के कोई निशान नहीं मिले हैं। यह भी सामने आया है कि बच्चे के शव के पोस्टमॉर्टम से 36 घंटे पहले उसकी मौत हो चुकी थी।

बच्चे की हत्या के समय उसका पिता वेंकट रमण इंडोनेशिया में था। उसे भी हत्या की जानकारी देकर भारत बुलाया गया। गोवा में बच्चे का पोस्टमॉर्टम होने के बाद शव को उसके पिता को सौंप दिया गया, जो उसे लेकर बेंगलुरु लौट गया। वहीं हत्या की आरोपित सूचना को 6 दिन की पुलिस रिमांड में भेजा गया है।

सूचना पुलिस की शुरूआती जाँच में कुछ भी बोलने से इंकार कर रही हैं और लगातार वकील दिए जाने की माँग कर रही हैं। यह भी सामने आया है कि होटल के कमरे में जिन खून के धब्बों के कारण वह पकड़ी गईं, वह चोट उसकी ही थी। उसने बच्चे को मारने के बाद अपने हाथ पर चोट लगाई थी।

गोवा में हत्या की, बेंगलुरु निकल गई सूचना

39 वर्षीय सूचना सेठ एक टेक स्टार्टअप फाउंडर और माइंडफुल नाम की कम्पनी की CEO हैं। वो 6 जनवरी, 2024 को शाम को अपने 4 वर्ष के बेटे के साथ गोवा के एक होटल पहुँची थीं। उसने 7 जनवरी, 2024 को जल्दी-जल्दी में अपना होटल छोड़ दिया। जब वह वापस निकली तो उसके साथ उसका बेटा नहीं था।

उसने 7 जनवरी, 2024 को सुबह होटल जल्दी खाली करने की अर्जी की थी और साथ ही होटल में रिसेप्शनिस्ट से कहा कि उसे बेंगलुरु के लिए एक निजी टैक्सी चाहिए। होटल के कर्मचारियों ने कहा कि सूचना को फ्लाइट लेना चाहिए लेकिन वह टैक्सी लेने पर अड़ी रही। इसके बाद जब उसे टैक्सी मिली तो वह वहाँ से एक बैग के साथ निकल गई, इस दौरान उसका बेटा नहीं दिखा। इसके बाद पूरे मामले का खुलासा हुआ।

सूचना के कमरा छोड़ने के बाद जब वहाँ होटल के कर्मचारी साफ़ सफाई के लिए पहुँचे तो वहाँ उन्होंने खून बिखरा देखा। उसने होटल के प्रबन्धन को सूचित किया, जिन्होंने पुलिस बुलाई। इसके बाद उन्होंने पुलिस को बताया कि उसका बेटा साथ में वापस जाते नहीं दिखा।

पुलिस ने जब सूचना को फ़ोन किया तो उसने बताया कि उसका बेटा गोवा के फट्रोडा में है, जहाँ उसके दोस्त हैं। उसने पुलिस को फर्जी पता भी दिया। पुलिस ने जब इसकी जाँच की तो उसे शक हुआ। पुलिस ने सूचना को लेकर जा रही टैक्सी के ड्राईवर को फ़ोन किया और उसे नजदीकी पुलिस थाने जाने को कहा। ड्राईवर उस समय कर्नाटक के चित्रदुर्ग में था, जहाँ वह पुलिस थाने पहुँचा। यहाँ महिला की जाँच करने पर उसके बैग में उसके 4 वर्षीय बेटे की लाश मिली।

इसके बाद पुलिस ने महिला को गिरफ्तार कर लिया और उससे आगे की पूछताछ की। गोवा पुलिस कर्नाटक से उसे गिरफ्तार कर लाई। हत्या करने वाली महिला सूचना सेठ के बारे में भी कई चौंकाने वाली जानकारी सामने आई थी। हत्या करने वाली सुचाना सेठ की लिंक्डइन प्रोफाइल पर लिखा है कि वह माइंडफुल AI लैब की CEO, AI और डाटा साइंस एक्सपर्ट है, जिसे इस मामले में 12 वर्षों का अनुभव है। यह भी लिखा है कि AI एक्सपर्ट 100 महिलाओं की लिस्ट में शामिल रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

किसानों के प्रदर्शन से NHAI का ₹1000 करोड़ का नुकसान, टोल प्लाजा करने पड़े थे फ्री: हरियाणा-पंजाब में रोड हो गईं थी जाम

किसान प्रदर्शन के कारण NHAI को ₹1000 करोड़ से अधिक का नुकसान झेलना पड़ा। यह नुकसान राष्ट्रीय राजमार्ग 44 और 152 पर हुआ है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -