Tuesday, August 3, 2021
Homeदेश-समाजतबलीगी जमात के मरकज से जुड़े 20 लोग गायब, मौलाना साद के बेटे से...

तबलीगी जमात के मरकज से जुड़े 20 लोग गायब, मौलाना साद के बेटे से क्राइम ब्रांच ने माँगी जानकारी, 2 घंटे पूछताछ

क्वारंटाइन पीरियड खत्म होने के बाद भी मौलाना साद अभी तक सबके सामने नहीं आया है। उसका वकील ही उसकी ओर से मीडिया और पुलिस को जवाब दे रहा है। समय के साथ जमात प्रमुख पर क्राइम ब्राँच और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का शिकंजा भी कस रहा है।

दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज मामले में जाँच में जुटी क्राइम ब्रांच ने मौलाना साद के बेटे को अपने कार्यालय में बुलाकर करीब 2 घंटे पूछताछ की। पूछताछ के दौरान उन्होंने साद के बेटे से 20 लोगों की जानकारी माँगी जो दिल्ली के मरकज में न केवल शामिल थे, बल्कि मरकज़ प्रबंधन टीम का हिस्सा थे।

खबरों की मानें तो क्राइम ब्रांच को अब तक की पड़ताल में पता चला है कि मरकज के 20 ऐसे कर्मचारी हैं जो यहाँ आने-जाने वाले जमातियों की व्यवस्था से जुड़े थे वे केस दर्ज होने के बाद से गायब हैं। अब चूँकि साद का बीच वाला बेटा मुख्यालय की गतिविधियों में अधिक सक्रिय है और यही प्रबंधन से जुड़े 6 पदाधिकारियों के साथ ज्यादा बैठक भी करता था, इसलिए क्राइम ब्रांच ने उसे बुलाकर पूछताछ की और तबलीगी जमात मुख्यालय की गतिविधियों से जुड़े दस्तावेजों के बारे में भी जानकारी माँगी।

पुलिस को 20 लोगों की सूचना उन ट्रैवेल एजेंट से पूछताछ के दौरान मिली, जिन्होंने मरकज आने वाले विदेशी जमातियों के रहने-खाने से लेकर आने-जाने की व्यवस्था की जिम्मेदारी सँभाल रखी थी। अब इन कर्मियों के मोबाइल फोन से लेकर ईमेल आईडी को भी सर्विलांस पर लगाकर महत्वपूर्ण जानकारी पुलिस ने हासिल की है।

इसके अलावा क्राइम ब्राँच ने मौलाना साद की कोरोना जाँच कराने के एक बार फिर निर्देश दिए हैं। पुलिस ने मौलाना के बेटे से साफ कहा कि वह मौलाना की एम्स या मान्यता प्राप्त सरकारी लैब से कोरोना जाँच कराए और क्राइम ब्रांच को रिपोर्ट सौंपे।

गौरतलब है कि इससे पहले दिल्ली पुलिस ने मौलाना साद के एक आलीशान फार्म हाउस पर छापा मारा था। साथ ही एक ऐसे बैंक अकाउंट का भी पता लगाया था जिससे कथित तौर पर 24 से 48 घंटों के भीतर करोड़ों रुपए ट्रांसफर होते थे। इस अकाउंट को साद का बेटा ही सॅंभालता था।

यहाँ बता दें, क्वारंटाइन पीरियड खत्म होने के बाद भी मौलाना साद अभी तक सबके सामने नहीं आया है। उसका वकील ही उसकी ओर से मीडिया और पुलिस को जवाब दे रहा है। समय के साथ जमात प्रमुख पर क्राइम ब्राँच और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का शिकंजा भी कस रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमित शाह ने बना दी असम-मिजोरम के बीच की बिगड़ी बात, अब विवाद के स्थायी समाधान की दरकार

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के प्रयासों के पश्चात दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने जिस तरह की सतर्कता और संयम दिखाया है उसका स्वागत होना चाहिए।

वे POK क्रिकेट लीग के चीयरलीडर्स, इधर कश्मीर पर भी बजाते हैं ‘अमन’ का झुनझुना: Pak वालों से ही सीख लो सेलेब्रिटियों

शाहिद अफरीदी, राहत फ़तेह अली खान और शोएब अख्तर कभी इस्लाम और पाकिस्तान के खिलाफ नहीं जा सकते, गलत या सही। भारतीय सेलेब्स इनसे क्या सीखे, जानिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,775FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe