नवरात्रि के आखिरी दिन शिव मंदिर में तोड़फोड़: UP में आंदोलन की धमकी, इलाके में तनाव

"रविवार की रात में सभी लोग मंदिर में पूजा-अर्चना करके अपने-अपने घर चले गए थे। उस समय तक धार्मिक स्थल की सभी मूर्तियाँ सुरक्षित थीं। लेकिन जब सुबह अर्चना हेतु मंदिर में जाया गया तो मूर्तियाँ क्षतिग्रस्त थीं।"

उत्तर प्रदेश के बदायूं के उघैती में नवरात्रि के आखिरी दिन रविवार की देर रात कुछ अराजक तत्वों ने इलाके में स्थित शिव मंदिर में तोड़फोड़ करके माहौल बिगाड़ने की कोशिश की। घटना की सूचना मिलते ही इलाके में तनाव बढ़ गया। पुलिस को मामले की सूचना दी गई और अज्ञातों के ख़िलाफ़ मामला दर्ज हुआ।

दैनिक जागरण में प्रकाशित खबर

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार घटना की सूचना मिलते ही थाना पुलिस समेत सीओ बिल्सी संजय रेड्डी घटनास्थल पर पहुँचे और तोड़फोड़ करने वालों पर प्रभावी कार्रवाई के निर्देश देकर लोगों का गुस्सा शांत करवाया। उघैत के रहने वाले पुरुषोत्तम की शिकायत पर इस मामले के संबंध में अज्ञातों के ख़िलाफ़ मुकदमा दर्ज हुआ।

खबर के अनुसार ग्रामीणों ने पुलिस को बताया कि रविवार की रात में सभी लोग मंदिर में पूजा-अर्चना करके अपने-अपने घर चले गए थे। उस समय तक धार्मिक स्थल की सभी मूर्तियाँ सुरक्षित थीं। लेकिन जब सुबह अर्चना हेतु मंदिर में जाया गया तो मूर्तियाँ क्षतिग्रस्त थीं। जिसे देखने के बाद स्थानियों में गुस्सा फैल गया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

आनन-फानन में पुलिस को घटना के बारे में सूचित किया गया और ग्रामीणों द्वारा जल्द से जल्द गिरफ्तारी की माँग उठाई गई। लोगों ने पुलिस को अज्ञात आरोपितों को न पकड़ने पर आंदोलन करने की चेतावनी दी।

लेकिन, मौक़े पर पहुँची पुलिस ने सूझ-बूझ से घटनास्थल की वीडियोग्राफी करवाते हुए लोगों को शांत करवाया और उन्हें आश्वस्त किया कि मामले में उचित कार्रवाई होगी। इसके बाद पुलिस ने मंदिर का जायजा लिया और मीडिया को बताया, “उघैती में शिव मंदिर में मूर्ति क्षतिग्रस्त की गई हैं। अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। खुराफाती तत्वों को चिह्नित किया जा रहा है। जल्द ही उनको पकड़कर जेल भेजा जाएगा। “

गौरतलब है कि अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश के देवरिया थाना क्षेत्र के मदिरा पाली भरत राय में काली मंदिर में देवी की प्रतिमा को अराजक तत्वों द्वारा खंडित करने का भी मामला सामने आया था। जब घटना की सूचना मिलते ही पुलिस द्वारा फौरन काली माता की प्रतिमा को ठीक करवाया गया था और तनावपूर्ण स्थिति से काबू पाने के लिए इलाके में पुलिस बल तैनात हुआ था। जाँच में पता चला था कि मंदिर मुस्लिम बहुल इलाके में स्थित है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,018फैंसलाइक करें
26,176फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: