Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजहैदराबाद में स्थापित होगी तीसरी वैक्सीन परीक्षण प्रयोगशाला, PM CARES से फंड

हैदराबाद में स्थापित होगी तीसरी वैक्सीन परीक्षण प्रयोगशाला, PM CARES से फंड

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री ने बताया कि हैदराबाद के राष्ट्रीय पशु जैव प्रौद्योगिकी संस्थान में वैक्सीन परीक्षण की तीसरी प्रयोगशाला स्थापित की जाएगी।

केंद्र सरकार ने हैदराबाद में वैक्सीन-परीक्षण प्रयोगशाला स्थापित करने के लिए PM CARES फंड से धनराशि आवंटित की है। प्रयोगशाला के अगस्त तक तैयार होने की उम्मीद है। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री (MoS) जी किशन रेड्डी ने यह जानकारी दी।

सिकंदराबाद से लोकसभा सदस्य रेड्डी ने ट्वीट कर कहा, “हैदराबाद में वैक्सीन परीक्षण प्रयोगशाला की स्थापना के लिए फंड को मँजूरी देने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार। हैदराबाद में फार्मा क्षेत्र के व्यापक विकास की दिशा में यह एक बड़ा कदम है। इससे कोविड-19 के टीकों के उत्पादन को भी बढ़ावा मिलेगा।”

रेड्डी ने नई दिल्ली में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मौजूदा समय में देश में वैक्सीन परीक्षण के सिर्फ दो ही प्रयोगशालाएँ हैं। एक, कसौली में केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला और दूसरी, नोएडा में राष्ट्रीय जैविक संस्थान। उन्होंने बताया कि पीएम केयर्स फंड से जैव प्रौद्योगिकी विभाग के तहत हैदराबाद के राष्ट्रीय पशु जैव प्रौद्योगिकी संस्थान में वैक्सीन परीक्षण की तीसरी प्रयोगशाला स्थापित की जाएगी। उन्होंने कहा कि फार्मा रिसर्च का केंद्र माने जाने वाले हैदराबाद के लिए यह वरदान होगा।

बता दें कि दो प्रयोगशालाओं की स्थापना के लिए 6 मार्च को पीएम केयर्स फंड से धनराशि जारी किया गया है। एक, नेशनल सेंटर फॉर सेल साइंस पुणे में और दूसरा, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एनिमल बायोटेक्नोलॉजी हैदराबाद में।

उल्लेखनीय है कि तेलंगाना सरकार ने भी केंद्र से हैदराबाद में वैक्सीन परीक्षण प्रयोगशाला स्थापित करने का अनुरोध किया था। उद्योग मंत्री के टी रामाराव ने इस संबंध में तीन बार केंद्र से अनुरोध किया था। सबसे हालिया अनुरोध 20 जून को किया गया था। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को लिखे एक पत्र में रामा राव ने कहा था कि हैदराबाद दुनिया की वैक्सीन राजधानी के रूप में उभरा है। राव ने कहा, “मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि राज्य सरकार वैक्सीन केंद्र को फास्ट ट्रैक पर स्थापित करने के लिए हर संभव सहयोग देगी।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -