Thursday, August 5, 2021
Homeदेश-समाजवेश्यावृत्ति करने को नहीं मानी फातिमा तो शौहर जलील शेख ने कर दी हत्या,...

वेश्यावृत्ति करने को नहीं मानी फातिमा तो शौहर जलील शेख ने कर दी हत्या, कंबल में लपेट शव ‘बारात घर’ के पास फेंका

जलील शेख ने फातिमा से 2014 में शादी की थी। वो जलील की दूसरी बीबी थी। पिछले सात-आठ महीनों से दोनों दिल्ली के पश्चिम सागरपुर में किराए के मकान में रह रहे थे।

27 वर्षीय जलील शेख ने वेश्यावृत्ति में शामिल होने से इनकार करने पर अपनी पत्नी फातिमा सरदार की हत्या कर दी। इस घटना के लगभग तीन सप्ताह बाद, दिल्ली पुलिस ने शनिवार  (अगस्त 31, 2019) को बताया कि आरोपित जलील शेख को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार कर लिया गया है।

दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के पुलिस उपायुक्त देवेंद्र आर्य ने कहा कि जलील शेख अपनी पत्नी फातिमा को वेश्यावृत्ति के लिए मजबूर कर रहा था। उसके लगातार मना करने पर जलील ने उसे 5 अगस्त को मार डाला। फिर शव को कंबल में लपेट प्लास्टिक की थैली में भरकर सागरपुर में एक ‘बारात घर’ के पास फेंक दिया। इसके बाद वो पश्चिम बंगाल भाग गया।

जानकारी के मुताबिक, जलील शेख ने फातिमा से 2014 में शादी की थी। वो जलील की दूसरी बीबी थी। पिछले सात-आठ महीनों से दोनों दिल्ली के पश्चिम सागरपुर में किराए के मकान में रह रहे थे। जलील की पहली पत्नी बंगाल में रहती है।

पुलिस ने बताया कि फातिमा की हत्या के एक दिन बाद शव को 6 अगस्त को सागरपुर से बरामद किया गया। इसके बाद दिल्ली पुलिस ने उसकी तस्वीर के जरिए आरोपितों का पता लगाने का प्रयास करने लगी। 17 अगस्त को पुलिस को पश्चिम बंगाल से फोन आया। फोन करने वाले ने फातिमा को अपना रिश्तेदार बताया। फोन करने वाले ने फातिमा की पहचान के सत्यापन के लिए उसके बारे में और भी अन्य जानकारी प्रदान किए। उसने बताया कि फातिमा अपने पति जलील के साथ पश्चिम सागरपुर में रहती थी।

डीसीपी आर्य ने बताया कि प्राप्त इनपुट के आधार पर दिल्ली पुलिस ने बुधवार (अगस्त 28, 2019) को जलील को कोलकाता के एक रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया, जहाँ वह मोटरसाइकिल बेचने आया था। उसका आपराधिक अतीत रहा है। मानव तस्करी के मामले में पश्चिम बंगाल में वह पहले गिरफ्तार किया जा चुका है। पोस्टमार्टम परीक्षण के बाद फातिमा का शव उसके पिता और चाचा को सौंप दिया गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इस्लामी आक्रांताओं की पोल खुली, सेक्युलर भी बोले ‘जय श्री राम’: राम मंदिर से ऐसी बदली भारत की राजनीतिक-सामाजिक संरचना

राम मंदिर के निर्माण से भारत के राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में आए बदलावों को समझिए। ये एक इमारत नहीं बन रही है, ये देश की संस्कृति का प्रतीक है। वो प्रतीक, जो बताता है कि मुग़ल एक क्रूर आक्रांता था। वो प्रतीक, जो हमें काशी-मथुरा की तरफ बढ़ने की प्रेरणा देता है।

हॉकी में ब्रॉन्ज मेडल: 4 दशक के बाद टोक्यो ओलंपिक में भारतीय टीम ने रचा इतिहास, जर्मनी को 5-4 से हराया

टोक्यो ओलंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए जर्मनी को करारी शिकस्त देकर ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा कर लिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,029FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe