Wednesday, September 22, 2021
Homeदेश-समाज'JNU और TISS के छात्रों को आतंकी संगठनों ने किया था भर्ती, अपनी सरकार...

‘JNU और TISS के छात्रों को आतंकी संगठनों ने किया था भर्ती, अपनी सरकार बनाना चाहते थे भीमा-कोरेगाँव के आरोपित’: NIA

आरोपित CPI (माओवादी) के सदस्य थे। इनकी साजिश थी कि छात्रों को आगे कर के आतंकी गतिविधियों को किया जाए, ताकि इन्हें अंतरराष्ट्रीय संगठनों व बुद्धिजीवियों का समर्थन मिले।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने कहा है कि दिल्ली में स्थित JNU और मुंबई में स्थित TISS के छात्रों को भीमा-कोरेगाँव मामले में आतंकी गतिविधियों के लिए भर्ती किया गया था। NIA ने 17 पन्नों का एक दस्तावेज अदालत में डाफ्ट चार्जेज के रूप में पेश किया है। जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) और टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (TISS) पहले से ही वामपंथी गतिविधियों के लिए बदनाम रहा है।

NIA ने बताया है कि इन दोनों ही शैक्षिक संस्थानों के छात्रों को आतंकी गतिविधियों के लिए बहाल किया गया था। भीमा-कोरेगाँव के जो आरोपित हैं, उन्हीं अर्बन नक्सलियों ने इन छात्रों को बहाल किया था। NIA के अनुसार, इन आरोपितों की साजिश थी कि सारे आरोपित प्रतिबंधित संगठनों से ताल्लुक रखते थे और एक समानांतर ‘जनता सरकार’ की स्थापना करना चाहते थे। साजिश थी कि सरकार की शक्ति को छीन कर एक सशस्त्र सत्ता खड़ी की जाए।

आरोपित CPI (माओवादी) के सदस्य थे। इनकी साजिश थी कि छात्रों को आगे कर के आतंकी गतिविधियों को किया जाए, ताकि इन्हें अंतरराष्ट्रीय संगठनों व बुद्धिजीवियों का समर्थन मिले। 15 आरोपितों के खिलाफ NIA ने 17 ड्राफ्ट आरोप तय किए हैं। ये आरोपित मानवाधिकार और सिविल अधिकारों के एक्टिविस्ट्स के रूप में एक अलग मुखौटा पहने हुए थे। इनके खिलाफ IPC UAPA की धाराएँ लगाई गई हैं।

आतंकवाद के लिए इन्होंने फंड्स भी इकट्ठे किए। इसके लिए प्रतिबंधित आतंकी संगठन के बैनर तले काम किए जा रहे थे। इनका मकसद था कि दलितों व अल्पसंख्यकों को सरकार के खिलाफ भड़काया जाए और उनमें देशविरोधी भावनाएँ भरी जाएँ। भारत सरकार व महाराष्ट्र सरकार के खिलाफ ‘युद्ध’ के लिए हथियारों का वितरण भी किया गया था। नेपाल व मणिपुर के हथियार सप्लायर्स से इसके लिए संपर्क किया गया था।

हाल ही में भीमा-कोरेगाँव मामला तब चर्चा में आया था जब बॉम्बे हाईकोर्ट के जज जस्टिस एसएस शिंदे ने आतंकवाद के आरोपित स्टेन स्वामी की तारीफों के पुल बाँधे थे। बता दें कि स्टेन स्वामी नक्सली था। साथ ही वो भीमा-कोरेगाँव मामले में आरोपित भी था। देश के मुख्य न्यायाधीश (CJI) को पत्र लिख कर कहा था कि जस्टिस शिंदे को भीमा-कोरेगाँव केस से अलग होने को कहा जाए। स्टेन स्वामी की ट्रायल के दौरान ही मौत हो गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत की जाँच के लिए SIT गठित: CM योगी ने कहा – ‘जिस पर संदेह, उस पर सख्ती’

महंत नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में गठित SIT में डेप्यूटी एसपी अजीत सिंह चौहान के साथ इंस्पेक्टर महेश को भी रखा गया है।

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,642FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe