Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिये जनादेश श्रद्धांजलि है बंगाल के दर्जनों भाजपा कार्यकर्ताओं के बलिदान पर

ये जनादेश श्रद्धांजलि है बंगाल के दर्जनों भाजपा कार्यकर्ताओं के बलिदान पर

लोकतंत्र को अपने खून से सींचा है पश्चिम बंगाल के उन कार्यकर्ताओं ने, जिन्होंने अपनी जान न्यौछावर की। उन्होंने अपनी जान इसलिए न्यौछावर की क्योंकि उन्हें सही मायने में लोकतंत्र में विश्वास था।

अमित शाह ने अपने एक इंटरव्यू में कहा था कि भाजपा के 80 कार्यकर्ताओं की हत्या बंगाल की चुनावी हिंसा में हुई। हम तक कुछ ही नाम पहुँचे जो मीडिया ने पहुँचाए, और बाकी नाम गुमनाम रहे। कोई पोल पर टँगा मिला, किसी की लाश पेड़ पर लटकी मिली, कोई खेत में पाया गया।

लोकतंत्र ने आज मौका दिया कि उनकी बलिदान व्यर्थ न हो। आज जब बंगाल में भाजपा ने अपनी बढ़त बनाई है और लगभग बीस सीटों पर आगे है, तब उन लोगों को भारतीय लोकतंत्र एक श्रद्धांजलि-सा देता प्रतीत होता है जिन्हें इस हिंसा और एक तानाशाह की नकारात्मकता ने लील लिया।

कुछ दुखद घटनाओं का स्मरण करें तो कुछ समय पहले पश्चिम बंगाल के इस्लामपुर में भाजपा कार्यकर्ता अपूर्बा चक्रवर्ती को तृणमूल के गुंडों ने बेरहमी से पीटा था। जिसके बाद से चक्रवर्ती की हालत गंभीर हो गई थी और वह उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज में भर्ती हो गए थे।

इतना ही नहीं मालदा में, भाजपा ग्राम पंचायत के सदस्य उत्पाल मंडल के भाई पटानू मंडल को भी टीएमसी के गुंडों ने उनके घर में गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके अलावा टीएमसी के एक अन्य विधायक सोवन चटर्जी और उनके मित्र बैशाखी चटर्जी को भी कथित तौर पर एक बंगले में सिर्फ़ इसलिए कैद रखा गया था क्योंकि उनके भाजपा में शामिल होने की अटकलें थीं। इतना ही नहीं पिछले साल पंचायत के चुनावों में बीजेपी उम्मीदवार की एक गर्भवती रिश्तेदार का टीएमसी के कार्यकर्ताओं द्वारा रेप तक कर दिया गया था।

यह तो कुछ नाम हैं जिनकी खबर आई। दर्जनों ऐसे कार्यकर्ता भी हैं जिनके बारे में हम नहीं जानते। जिस लोकतंत्र को बचाने की बात मीडिया AC रूम में बैठकर करती है। जिस लोकतंत्र को बचाने वाले जोशीले भाषण नेता AC की हवा खाते हुए मंचों से देते हैं या फिर हम और आप जिस लोकतंत्र को बचाने के लिए सोशल मीडिया पर आपस में लड़-मरते हैं, गाली-गलौज करते हैं।

दरअसल उस लोकतंत्र को अपने खून से सींचा है पश्चिम बंगाल के उन कार्यकर्ताओं ने, जिन्होंने अपनी जान न्यौछावर की। उन्होंने अपनी जान इसलिए न्यौछावर की क्योंकि उन्हें सही मायने में लोकतंत्र में विश्वास था। उनको नमन कीजिए क्योंकि आपके एक वोट की सही कीमत उन्होंने ही समझी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe