Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजस्कूली छात्रों में चले लात-घूँसे और डंडे, 1 की मौत, 3 पर FIR: पत्रकारों...

स्कूली छात्रों में चले लात-घूँसे और डंडे, 1 की मौत, 3 पर FIR: पत्रकारों ने घसीटा CM योगी का नाम, UP पुलिस ने सच बताया

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि अंश को मारने वाले के पिता सीएम योगी के आईएएस सचिव हैं इसलिए कोई गिरफ्तारी नहीं हो रही। वहीं पुलिस का कहना है कि उनकी जाँच में ऐसा कुछ सामने नहीं आया है।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के दो नामी स्कूलों के छात्रों के बीच हुई मारपीट में एक छात्र की मौत के बाद सोशल मीडिया पर सीएम योगी को बदनाम करने का प्रयास हो रहा है। मृतक छात्र की पहचान अंश तिवारी के रूप में हुई है।

सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि अंश को मारने वाले के पिता सीएम योगी के आईएएस सचिव हैं इसलिए कोई गिरफ्तारी नहीं हो रही। वहीं पुलिस का कहना है कि उनकी जाँच में ऐसा कुछ सामने नहीं आया है। उन्होंने मृतक के परिजनों की शिकायत के बाद आरोपित छात्रों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। मामले की जाँच चल रही है।

अंश तिवारी की मौत

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, शनिवार (26 नवंबर 2022) को लखनऊ पब्लिक स्कूल और रॉयल माउंट स्कूल के छात्रों के बीच जमकर लात-घूँसे और डंडे चले। इस मारपीट के दौरान अंश तिवारी नामक छात्र गंभीर रूप से घायल हो गया था। उसे इलाज के लिए लोहिया हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। जहाँ, इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। वह 12 वीं का छात्र था।

छात्रों के दो गुटों के बीच हुई मारपीट को लेकर कहा जा रहा है कि एक लड़के ने मृतक अंश के सिर पर गमले से हमला कर दिया था। इससे उसके सिर पर गंभीर चोटें आईं थीं और वह घायल होकर जमीन पर गिर गया था। घटना के तुरंत बाद इसकी जानकारी पुलिस को दी गई थी। लेकिन, तब तक आरोपित छात्र मौके से फरार हो चुके थे।

इस मामले में, मृतक अंश तिवारी के दादा नंद किशोर तिवारी की शिकायत के आधार पर पुलिस ने आरोपित छात्रों अभय सिंह, शाश्वत और शिवम पर हत्या की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। अंश की हत्या को लेकर उसके दादा नंद किशोर तिवारी का कहना है कि अंश का अभय सिंह से हुक्का बार को लेकर पुराना विवाद था। अभय सिंह ने साजिश के तहत उनके पोते की हत्या कराई है। उन्होंने आरोप लगाया है कि अंश की हत्या गला दबाकर की गई है।

वहीं, मामले की जाँच कर रही पुलिस का कहना है कि मृतक अंश के शरीर में कोई गंभीर चोट नहीं पाई गई है। ऐसे में उसकी मौत कैसे हुई, इसकी जाँच की जा रही है। पोस्टमार्टम के बाद उसकी मौत की वजह सामने आएगी।

CM योगी को बदनाम करने का प्रयास, लखनऊ पुलिस ने बताई सच्चाई

बता दें कि अंश की मौत के बाद सोशल मीडिया पर पत्रकार आलोक पाठक ने दावा किया था कि यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आईएएस सचिव के लड़के ने अंश की हत्या की। टोटल समाचार के पत्रकार आलोक पाठक ने घटना की वीडियो शेयर करते हुए बताया था कि 20 घंटे बाद भी मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है। इस दावे को वामपंथी पत्रकार रोहिणी सिंह ने भी शेयर किया था। हालाँकि लखनऊ पुलिस ने सक्रियता दिखाते हुए इन ट्वीट की सच्चाई बताई।

लखनऊ पुलिस ने कहा, “उक्त प्रकरण में मृतक के पिता द्वारा दी गई तहरीर के आधार पर थाना विभूतिखण्ड द्वारा सुसंगत धारा में नामजद 03 अभियुक्तों के विरुद्ध अभियोग पंजीकृत किया गया है। 03 अभियुक्तों का किसी अधिकारी से कोई संबंध नहीं है। ट्वीट में बताए गए तथ्य पूर्णतः असत्य हैं, कृपया भ्रामक सूचना ना फैलाएँ।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -