Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजलॉकडाउन में झाड़-फूँक कर रही थी स्वयंभू देवी, पुलिस पहुॅंची तो तलवार निकाल कर...

लॉकडाउन में झाड़-फूँक कर रही थी स्वयंभू देवी, पुलिस पहुॅंची तो तलवार निकाल कर खड़ी हो गई

महिला, उसके पति और बेटे समेत 12 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। महिला का पति शिक्षक है। उसे निलंबित कर दिया गया है। वह भी पत्नी के इस गोरखधंधे में शामिल था।

पूरा विश्व कोरोना की महामारी से जूझ रहा है। इसका संक्रमण रोकने के लिए देश में 21 दिनों का लॉकडाउन है। इसके बाद भी कुछ अंधभक्त लॉकडाउन को नजरअंदाज कर खुद के साथ दूसरों की जान के लिए भी संकट पैदा कर रहे हैं। कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है यूपी के देवरिया जिला से। यहाँ खुद को माँ काली का रूप बताने वाली महिला लॉकडाउन के बाद भी सैकड़ों लोगों का इलाज करने के बहाने झाड़-फूँक करने में लगी हुई थी। जब पुलिस पहुँची तो महिला तलवार लेकर खड़ी हो गई। इसके बाद पुलिस ने लाठी चार्ज कर मौजूद लोगों को खदेड़ा साथ ही महिला सहित 12 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस के सामने तलवार लहराते हुई इस महिला का विडियो अब सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

दरअसल पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा के बाद भी देवरिया क्षेत्र के मेहड़ा पुरवां गाँव में एक महिला बीते दिन अपने घर ही सैकड़ों लोगों की भीड़ को इकट्ठा कर झाड़-फूँक कर रही थी। जब इसकी जानकारी पुलिस को हुई तो तत्काल एसडीएम और सीओ फोर्स के साथ मौके पर पहुँच गए। पुलिस ने देखा कि सैकड़ों की संख्या में लोग महिला के घर के अंदर बैठे हुए हैं। पुलिस ने सभी से अपने-अपने घर जाने को कहा। इतना सुन खुद को माँ काली का रूप मानने वाली महिला लाल साड़ी पहने हाथ में तलवार लेकर पुलिस के सामने आकर खड़ी हो गई और पुलिस को जोर-जोर से ललकारने लगी।

महिला ने तलवार लहराते हुए पुलिस से कहा कि हिम्मत है तो मुझे हटाकर दिखाओ। इसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। पुलिस एक्शन को देख वहीं मौजूद लोगों में भगदड़ मच गई। पुलिस ने लाठी भाँजते हुए भीड़ को खदेड़ दिया और महिला, उसके पति-बेटे समेत 12 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। साथ ही मौके से एक तलवार, एम्पीफायर और साउण्डबॉक्स भी बरामद किया। इस मामले में गिरफ्तार महिला के पति शिव प्रसाद यादव शिक्षक हैं। उन्हें निलंबित कर दिया गया है। बीएसए प्रकाश नारायण श्रीवास्तव ने कहा कि पत्नी के साथ मिल कर आडम्बर फैलाने के आरोप में यह कार्रवाई की गई है।

बताया जा रहा है कि मेहड़ा पुरवा गाँव की रहने वाली सुभद्रा यादव खुद को माँ आदि शक्ति दुर्गा का रूप बताते हुए पिछले कई वर्षों से झाड़-फूँक का काम कर रहीं थी। उसके यहाँ आए दिन लोगों की भीड़ लगी रहती थी। इस काम में शिक्षक पति भी उसकी मदद करता था। इसी क्रम में बुधवार को भी लोगों की भीड़ महिला के घर में जमा थी। वहीं पुलिस ने आरोपित महिला और उसके पति सहित गिरफ्तार 12 लोगों के खिलाफ जानलेवा हमला समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस के मुताबिक सभी को न्यायालय में पेश किया गया, जिसके बाद सभी को जेल भेज दिया गया है।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के चलते देश में अब तक 13 मौत हो चुकी है। साथ ही इससे संक्रमित लोगों संख्या 649 हो गई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe