Thursday, May 23, 2024
Homeदेश-समाजआगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर बने बाबा भूरे शाह मजार को अतिक्रमण हटाने के...

आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर बने बाबा भूरे शाह मजार को अतिक्रमण हटाने के लिए नोटिस, वरना होगी कार्रवाई, नूरी मस्जिद के इमाम को भी अल्टीमेटम

मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय के सम्पदा अधिकारी द्वारा आगरा कैंट रेलवे स्टेशन के सिंक लाइन स्थित बाबा भूरे शाह मजार के केयर टेकर सज्जादा नाशिन को भेजा गया है।

उत्तर प्रदेश में आगरा कैंट रेलवे स्टेशन पर बाबा भूरे शाह मजार को अतिक्रमण पर कार्रवाई अभियान तहत साक्ष्य प्रस्तुत करने के लिए प्रशासन ने नोटिस जारी किया है। सम्पदा अधिकारी द्वारा 25 अप्रैल, 2022 को भेजे गए नोटिस में 13 मई,2022 को जमीन के मालिकाना हक़ से सम्बंधित कागजातों साथ मजार पक्ष को शाम 4 बजे तक उपस्थित होना है। ऐसा न करने पर सम्पदा अधिकारी के न्यायालय द्वारा एक पक्षीय सुनवाई के पश्चात भी निर्णय भी सुनाया जा सकता है।

सम्पदा अधिकारी द्वारा जारी किया गया नोटिस

बता दें कि मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय के सम्पदा अधिकारी द्वारा आगरा कैंट रेलवे स्टेशन के सिंक लाइन स्थित बाबा भूरे शाह मजार के केयर टेकर सज्जादा नाशिन को भेजा गया है। मजार की व्यवस्था देखने वालों से निर्धारित समय के पहले ही जमीन से जुड़े कागजातों की छायाप्रति उपलब्ध कराने को कहा गया है।

वहीं उत्तर मध्य रेलवे द्वारा दूसरा नोटिस आगरा छावनी रेलवे भूमि में स्थित नूरी मस्जिद को भेजा गया है। मस्जिद के इमाम को भेजे गए नोटिस में कहा गया है, “आगरा छावनी रेलवे एरिया में अतिक्रमण को हटाने के लिए विशेष अभियान के अंतर्गत जॉइंट सर्वे कार्य प्रगति पर है। जिसमें यह पाया गया है कि आगरा छावनी में रेलवे भूमि पर मस्जिद बना हुआ है। जिसे उपर्युक्त आदेश के अनुपालना में हटाए जाने की आवश्यकता है।”

नूरी मस्जिद को जारी नोटिस

नोटिस में साफ कहा गया है कि मस्जिद को हटाकर कहीं अन्य स्थान पर शिफ्ट किया जाए। यह कार्य 8 दिन के अंदर किया जाना आवश्यक है। अन्यथा रेलवे नियमानुसार उचित कार्रवाई कर सकती है। बता दें कि यह नोटिस 28 दिसंबर, 2022 को ही जारी की गई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

‘प्यार से माँगते तो जान दे देती, अब किसी कीमत पर नहीं दूँगी इस्तीफा’: स्वाति मालीवाल ने राज्यसभा सीट छोड़ने से किया इनकार

आम आदमी पार्टी की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल ने अब किसी भी हाल में राज्यसभा से इस्तीफा देने से इनकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -