Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाज'मस्जिद में रहता है मुदस्सिर, हिंदू लड़कियों को फँसाने के लिए देता है पैसे':...

‘मस्जिद में रहता है मुदस्सिर, हिंदू लड़कियों को फँसाने के लिए देता है पैसे’: बागपत का इमाम कैसे कराता है निकाह-धर्मांतरण, साजिद ने बताया

"इमाम मुदस्सिर मेरी मस्जिद के पास स्थित परचून की दुकान पर आया और उससे कहा कि दुकान पर मुस्लिम लड़के आते-जाते होंगे। उनमें से उन मुस्लिम लड़कों के बारे में बताओ, जिनका हिंदू लड़कियों से प्रेम-प्रसंग चल रहा हो, ऐसे लड़कों को उसके पास भेज दो, वह उसे पैसे देगा और उनका निकाह कराकर युवती का धर्म परिवर्तन भी करा देगा।"

उत्तर प्रदेश के बागपत के बड़ौत में मुस्लिम समुदाय के एक युवक ने स्थानीय इमाम पर मुस्लिम युवकों का हिंदू लड़कियों से निकाह कराकर उनके मतांतरण की साजिश का खुलासा किया है। बड़ौत के हिलवाड़ी गाँव के निवासी साजिद ने अपनी शिकायत में पुलिस को बताया, “26 अगस्त 2021 को इमाम मुदस्सिर मेरी मस्जिद के पास स्थित परचून की दुकान पर आया और उससे कहा कि दुकान पर मुस्लिम लड़के आते-जाते होंगे। उनमें से उन मुस्लिम लड़कों के बारे में बताओ, जिनका हिंदू लड़कियों से प्रेम-प्रसंग चल रहा हो, ऐसे लड़कों को उसके पास भेज दो, वह उसे पैसे देगा और उनका निकाह कराकर युवती का धर्म परिवर्तन भी करा देगा।”

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, साजिद ने बागपत पुलिस को बताया कि उसने इमाम को ऐसा करने से मना कर दिया तो इमाम ने दबंग लड़कों के साथ होने की बात करते हुए उसे अंजाम भुगतने और देख लेने की धमकी भी दी। बताया जा रहा है कि साजिद इस मामले में गंभीरता से कार्रवाई कराना चाहता था, इसलिए उसने स्थानीय थाने या बड़ौत पुलिस से शिकायत न करके सीधा एसपी ऑफिस में की। साजिद ने सोमवार (30 अगस्त, 2021) को पूरे मामले की लिखित में शिकायत बागपत के एसपी कार्यालय में की थी।

साजिद द्वारा इमाम के खिलाफ की गई शिकायत

अपनी लिखित शिकायत में साजिद ने बताया कि इमाम मुस्लिम नवयुवकों को बहकाता है और उन्हें रुपयों का लालच देकर हिदू युवतियों व किशोरियों को अपने प्रेम जाल में फँसाने और फिर दबाव डालकर निकाह कराकर धर्मांतरण कराता है। एएसपी मनीष कुमार मिश्र ने मीडिया को बताया कि साजिद की शिकायत के आधार पर पूरे मामले की जाँच सीओ क्राइम हरीश भदौरिया से कराई जा रही है। और कल तक के अपडेट के अनुसार इस मामले में सीओ क्राइम ने तमाम पहलुओं को ध्यान में रखते हुए जाँच शुरू भी कर दी है।

हालाँकि, सोमवार को ही देर शाम साजिद का पुलिस को दिया गया शिकायती पत्र और उसकी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। तब से लगातार फेसबुक और व्हाट्सएप ग्रुप पर भी उसके पत्र और फोटो शेयर होते रहे। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, साजिद की माँ शबीना ने बताया कि उसका बेटा सीधा है और वह गाँव में ही परचून की दुकान चलाता है। उसके बेटे से एक दूसरे व्यक्ति ने शिकायत कराई है। लेकिन पुलिस ने उसके बेटे को ही हिरासत में ले लिया है। जबकि मेरे बेटे का इससे कोई लेना देना नहीं है।

दरअसल, बागपत पुलिस ने शिकायत करने वाले साजिद और उसके सहयोगी जिसके कहने पर उसने शिकायत की थी, को पूछताछ के लिए तो बुला लिया था, लेकिन जिस इमाम पर आरोप लगा पुलिस ने उससे अभी पूछताछ नहीं की। उसकी तलाश की जा रही है। इस मामले में ऑपइंडिया ने बागपत पुलिस से बात करने की कोशिश की मगर पुलिस से फिलहाल बात नहीं हो पाई है जैसे ही हमारी बात होती है आगे इस मामले में अपडेट किया जाएगा।

वहीं इस मामले में कार्रवाई की माँग करते हुए हिन्दू संगठन भी सामने आए हैं। रिपोर्ट के अनुसार, हिदू जागरण मंच के युवा जिलाध्यक्ष नितिन जैन व बजरंग दल के जिला संयोजक अमित तितरौदा ने बताया कि साजिश के तहत हिदू युवतियों का मतांतरण सहन नहीं किया जाएगा। मामले को पुरजोर तरीके से उठाते हुए आरोपित चाहे जो हों उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की माँग की जाएगी। साथ ही स्वदेशी जागरण मंच में प्रचार प्रसार प्रमुख अरविद भोला ने कहा कि भले यह मामला अब सामने आया हो, लेकिन यह पहले से ही होता रहा होगा। वह सभी संगठनों के साथ इस मामले की गहराई तक जाँच करवाएँगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe