Wednesday, December 1, 2021
Homeदेश-समाजहमीद अंसारी की परचून की दुकान... बेचता था चरस... UP की शाहजहाँपुर पुलिस ने...

हमीद अंसारी की परचून की दुकान… बेचता था चरस… UP की शाहजहाँपुर पुलिस ने ₹1 करोड़ 80 लाख की ड्रग्स के साथ दबोचा

हमीद अंसारी ने बताया कि चरस की तस्करी नेपाल से की जाती है। वो अपनी परचून की दुकान की आड़ में चरस की छोटी-छोटी पुड़िया बनाकर महँगे दामों पर बेचता था। हमीद के पूरे नेटवर्क को खँगाला जा रहा।

नशे के अवैध कारोबार के खिलाफ अभियान में UP की शाहजहाँपुर पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। थाना तिलहर पुलिस ने अन्तरराष्ट्रीय बाजार में 1 करोड़ 80 लाख कीमत की चरस को बरामद किया है। पुलिस ने इसके तस्कर हमीद अंसारी को भी गिरफ्तार कर के जेल भेजा है।

शाहजहाँपुर पुलिस द्वारा जारी प्रेस नोट के अनुसार यह गिरफ्तारी 15 अक्टूबर 2021 को सुबह के समय की गई है। जिले में मादक पदार्थों की रोकथाम व मादक पदार्थ तस्करों के विरुद्ध चल रहे अभियान में तिलहर पुलिस को मुखबिर द्वारा आरोपित हमीद की सूचना मिली थी। सूचना पर पुलिस ने घेराबंदी करते हुए हमीद को 900 ग्राम चरस के साथ गिरफ्तार कर लिया।

गिरफ्तार हमीद के पास से बरामद हुई चरस ‘फाइन क्वालिटी’ की बताई जा रही है। हमीद को FIR संख्या 810/2021 के तहत 8/17 NDPS एक्ट के अंतर्गत जेल भेजा गया। आरोपित हमीद अंसारी के पिता का नाम इतवारी है, जो मोहल्ला नजरपुर, थाना तिलहर जिला शाहजहाँपुर का रहने वाला है।

पुलिस पूछताछ में आरोपित हमीद अंसारी ने बताया कि चरस की तस्करी नेपाल से की जाती है। उसने खुद UP के पीलीभीत स्थित बीसलपुर से चरस खरीदने की बात स्वीकारी है। गिरफ्तारी के समय वह वहीं से चरस खरीद कर ला रहा था। हमीद ने बताया कि वो अपनी परचून की दुकान की आड़ में चरस की छोटी-छोटी पुड़िया बनाकर महँगे दामों पर बेचता था।

पुलिस इस मामले से जुड़े अन्य पहलुओं पर भी गहनता से जाँच कर रही है। हमीद के पूरे नेटवर्क को खँगाला जा रहा है। इस गिरफ्तारी पर SP शाहजहाँपुर का बयान आप ऊपर के ट्वीट में है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe