Sunday, July 14, 2024
Homeदेश-समाज'टीपू सुल्तान पार्टी' ने वीर सावरकर के पोस्टर फाड़े, धरम सिंह को चाकू से...

‘टीपू सुल्तान पार्टी’ ने वीर सावरकर के पोस्टर फाड़े, धरम सिंह को चाकू से गोदा: SDPI ने वीर सावरकर चौराहे का बैनर फाड़ा

मेंगलुरु के सुरतकल चौराहे का नाम सावरकार के नाम पर रखने वाले एक बैनर को हटा दिया गया है। सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के कार्यकर्ताओं ने इस बैनर पर आपत्ति जताई थी।

कर्नाटक के शिवमोग्गा में सोमवार (15 अगस्त, 2022) को अमीर अहमद सर्कल में वीर सावरकर का पोस्टर (Savarkar Poster Row) लगाए जाने को लेकर विवाद खड़ा हो गया। मामले को तूल पकड़ता देख पुलिस ने इलाके में धारा 144 लगा दी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, आज अमीर अहमद सर्कल पर हिंदूवादी संगठनों ने वीर सावरकर की तस्वीर लगा दी। इसको लेकर कुछ देर बाद वहाँ टीपू सुलतान सेना का झंडा लेकर दूसरे समुदाय के युवक पहुँच गए और तस्वीर हटाने की कोशिश करने लगे, जिसको लेकर दोनों समुदाय में बहस शुरू हो गई। स्थिति को नियंत्रण में करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया। अमीर अहमद सर्कल में दोनों गुटों के बीच हुई झड़प को देखते हुए शिवमोग्गा पुलिस ने धारा 144 लागू कर दी है। बताया जा रहा है कि शिवमोग्गा में जारी तनाव के बीच मुस्लिम युवकों ने धरम सिंह नाम के शख्स को चाकू मार दिया।

इसी तरह की एक अन्य घटना में, मेंगलुरु के सुरतकल (Surathkal) चौराहे का नाम सावरकार के नाम पर रखने वाले एक बैनर को हटा दिया गया है। सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) के कार्यकर्ताओं ने इस बैनर पर आपत्ति जताई थी। SDPI की सुरतकल इकाई ने बैनर पर आपत्ति जताई और इसे पुलिस के संज्ञान में लेकर आई। निगम आयुक्त अक्षय श्रीधर ने बैनर को हटाने के आदेश दिए थे, जिसके बाद इसे हटा दिया गया।

मेंगलुरु नगर-निगम ने इससे पहले मेंगलुरु उत्तर से भाजपा के विधायक वाई भारत शेट्टी के अनुरोध पर इस चौराहे का नाम सावरकर के नाम पर रखने का प्रस्ताव मंजूर कर लिया था। नगर-निगम सावरकर के नाम पर इसका आधिकारिक नामकरण किए जाने के लिए सरकार की अनुमति का इंतजार कर रहा है। श्रीधर ने कहा कि नगर परिषद ने इस चौराहे का नाम सावरकर के नाम पर रखने का प्रस्ताव मंजूर कर लिया था। लेकिन, सरकार ने आधिकारिक रूप से मंजूरी नहीं दी है, तो शिकायतों को देखते हुए बैनर को हटा दिया गया है।

वहीं, एसडीपीआई के एक स्थानीय नेता ने कहा कि इस मुद्दे को पुलिस के संज्ञान में लाया गया, क्योंकि सुरतकल सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील क्षेत्र है। उन्होंने यह भी कहा कि एसडीपीआई सावरकर के नाम पर सर्कल के नामकरण के खिलाफ है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मांस-मछली से मुक्त हुआ गुजरात का पालिताना, इस्लाम और ईसाइयत से भी पुराना है इस शहर का इतिहास: जैन मंदिर शहर के नाम से...

शत्रुंजय पहाड़ियों की यह पवित्रता और शीर्ष पर स्थित धार्मिक मंदिर, साथ ही जैन धर्म का मूल सिद्धांत अहिंसा है जो पालिताना में मांस की बिक्री और खपत पर प्रतिबंध लगाने की मांग का आधार बनता है।

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -