Tuesday, June 25, 2024
Homeदेश-समाजजोधपुर में 40 गाड़ियाँ तोड़ी, युवक की पीठ में छुरा घोपा: कर्फ्यू के बावजूद...

जोधपुर में 40 गाड़ियाँ तोड़ी, युवक की पीठ में छुरा घोपा: कर्फ्यू के बावजूद ईद की नमाज के बाद सड़क पर उतरी मुस्लिम भीड़, फेंके तेज़ाब वाले बोतल

इस दौरान 40 से अधिक गाड़ियों में तोड़फोड़ किया गया और विरोध करने आए लोगों की पिटाई की गई। इससे पहले हुए दंगों में शहर के कई एटीएम बूथ तोड़े जा चुके हैं।

राजस्स्थान के जोधपुर में लगातार दूसरे दिन भी हिंसा भड़कती रही, वो भी तब जब जिले के कई हिस्सों में कर्फ्यू लगा हुआ है। एक बार फिर पूरी साजिश के तहत दंगाई सड़क पर निकले और उन्होंने जम कर हिंसा की। घरों के ऊपर तेजाब से भरी बोतलें फेंकी गईं। तलवारें लहराई गईं। ‘कबूतरों का चौक’ नामक जगह पर दीपक परिहार नामक एक युवक की पीठ में छुरा घोंप दिया गया। महात्मा गाँधी अस्पताल में उक्त युवक का इलाज चल रहा है, जहाँ उसकी पीठ में से चाकू निकाला गया।

दंगाइयों ने जोधपुर शहर के 14 से अधिक मोहल्लों में मंगलवार (3 मई, 2022) को उत्पात मचाया। जालोरी गेट से ये दंगा शुरू हुआ और शहर की कई गलियों में पसर गया। जालपा मोहल्ले में विधायक के घर के बाहर ही बाइक को फूँक दिया गया। दंगाइयों ने बाइकों से मजहबी नारों के साथ रैली भी निकाली और सोनारो मोहल्ला में तलवारें लहराते हुए पहुँच कर लोगों के घरों पर तेजाब भरी बोतलें और पत्थर फेंके। बचाव के लिए स्थानीय लोगों को भी सामने आना पड़ा।

हर मोहल्ले में अलग-अलग गुट को दंगा करने के लिए भेजा गया था। इस दौरान 40 से अधिक गाड़ियों में तोड़फोड़ किया गया और विरोध करने आए लोगों की पिटाई की गई। इससे पहले हुए दंगों में शहर के कई एटीएम बूथ तोड़े जा चुके हैं। ताज़ा हिंसा में कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। जोधपुर के 10 इलाकों में कर्फ्यू लगा हुआ है। केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा है कि दंगाई भीड़ मजहबी नारेबाजी करती रही और पुलिस देखती रही।

उन्होंने कहा, “मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह जिले में हिंसा हो रही है, लेकिन एक दिन तक उन्होंने कोई ट्वीट तक नहीं किया। फिर उन्होंने गुलदस्ते लेकर न आने की अपील की। रोम जल रहा था और नीरो बाँसुरी बजा रहा था – ये वही बात हो गई। सीएम का शहर जल रहा था और वो गुलदस्ते लेने में व्यस्त थे।” स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा की प्रतिमा पर भी इस्लामी झंडे लगा दिए गए। परशुराम जयंती पर लगे केसरिया झंडे को हटा दिया गया।

दंगाइयों को खदेड़ने के लिए पुलिस को आँसू गैस के गोले छोड़ने पड़े और बल प्रयोग भी करना पड़ा। मुस्लिम युवकों ने सर्किल पर लगे हिन्दू ध्वज को अपमानित करते हुए हटा दिया। नमाज के बाद दंगे की घटनाएँ शुरू हुईं। फ़िलहाल बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को वहाँ तैनात किया गया है। ईदगाह के चारों तरफ भी पुलिस बलों को तैनात किया गया है। भाजपा इन घटनाओं को लेकर अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कॉन्ग्रेस सरकार पर हमलावर है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -