Tuesday, August 9, 2022
Homeदेश-समाजवसीम रिजवी नहीं, अब जितेंद्र नारायण कहिए: इस्लाम छोड़ हिंदू धर्म अपनाया, डासना देवी...

वसीम रिजवी नहीं, अब जितेंद्र नारायण कहिए: इस्लाम छोड़ हिंदू धर्म अपनाया, डासना देवी मंदिर में हुआ अनुष्ठान

वसीम रिजवी ने कहा, "मुझे इस्लाम से बाहर कर दिया गया है, हमारे सिर पर हर शुक्रवार को ईनाम बढ़ा दिया जाता है, आज मैं सनातन धर्म अपना रहा हूँ।"

अपने बयानों के कारण कट्टरपंथियों के निशाने पर रहने वाले शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व प्रमुख वसीम रिजवी ने इस्लाम मजहब को छोड़ हिंदू धर्म स्वीकार कर लिया है। उन्होंने गाजियाबाद के डासना देवी मंदिर में महंत यति नरसिंहानंद गिरि की मौजूदगी में घर वापसी की। इस दौरान कई अनुष्ठान हुए। अब उनका नाम जितेंद्र नारायण होगा।

कई मीडिया रिपोर्टों में रिजवी का नया नाम हरबीर नारायण त्यागी बताया जा रहा है, लेकिन उनका नाम जितेंद्र नारायण स्वामी रखा गया है। इस बात की पुष्टि ऑपइंडिया से स्वयं महंत नरसिंहानंद गिरि ने की है।

हिंदू धर्म अपनाने के बाद रिजवी ने कहा, “मुगलों ने हमेशा परंपरा दी हिंदुओं को हराओ। जो पार्टी हिंदुओं को हराती है मुसलमान एकजुट होकर उसे वोट करते हैं। मुसलमान सिर्फ और सिर्फ हिंदुओं को हराने के लिए वोट करता है।”

उन्होंने कहा, “मुझे इस्लाम से बाहर कर दिया गया है, हमारे सिर पर हर शुक्रवार को ईनाम बढ़ा दिया जाता है, आज मैं सनातन धर्म अपना रहा हूँ।”

श्मशान घाट में शव जलाने की जताई थी इच्छा

बता दें कि वसीम रिजवी ने पहले ही घोषण की हुई थी कि वो आज यानी सोमवार को सनातन धर्म अपनाएँगे। वो पिछले कई दिनों से मंदिर के महंत से संपर्क में थे। कुछ दिन पहले उन्होंने ये भी इच्छा जताई थी कि जब भी उनका इंतकाल हो तो उन्हें दफनाने की बजाय श्मशान घाट पर जलाया जाए। उन्होंने अपनी चिता को मुखाग्नि देने का अधिकार डासना मंद‍िर के महंत व जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरस‍िम्‍हानंद सरस्‍वती को दिया था।

रिजवी ने बताया था कि कट्टरपंथियों ने उनकी लाश के लिए कब्रिस्तान में जगह नहीं देने की घोषणा की है। उनकी मौत के बाद देश में किसी तरह की अशांति न हो, इसीलिए उन्होंने अपनी वसीयत में मौत के बाद उनके पार्थिव शरीर को जलाने की इच्छा जताई। उन्होंने कहा कि उनके पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार हिन्दू रीति-रिवाज़ से हो, इस संदर्भ में उन्होंने अपनी वसीयत की कॉपी प्रशासन को भी भेजी थी।

कट्टरपंथियों क्यों थे रिजवी से खफा

उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन वसीम रिजवी ने गाजियाबाद के डासना के महाकाली मंदिर में दर्शन करने के बाद महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती से अपनी किताब ‘मोहम्मद’ का विमोचन कराया था। इसके बाद खुद असदुद्दीन ओवैसी ने उनके विरुद्ध शिकायत करवाई थी।

शिकायत में कहा गया था कि किताब की सामग्री और आपत्तिजनक बयानों को उनकी धार्मिक भावनाएँ आहत करने के मकसद से लिखा गया है जो पैगंबर मोहम्मद के अनुयायी हैं और इस्लाम के सिद्धांतों को मानने वाले हैं।

इस केस से पहले वसीम रिजवी कुरान की आयतें हटाने की याचिका दायर करने को लेकर भी सुर्खियों में रहे थे। उन्होंने कुरान की 26 आयतों को आतंकवाद को बढावा देने वाली बताते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डोनाल्ड ट्रंप के ‘खूबसूरत घर’ पर FBI की रेड: पूर्व राष्ट्रपति बोले- मेरी तिजोरी में भी सेंध मारी, दावा- व्हाइट हाउस से लेकर चले...

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप को लेकर कहा जा रहा है कि उन्होंने राष्ट्रपति भवन छोड़ते समय कुछ दस्तावेज अपने पास रख लिए थे। एफबीआई रेड में उन्हें ही ढूँढ रही थी।

मंदिर से लौट रहे हिन्दू परिवार पर हमला, महिलाओं से छेड़छाड़: Pak में जहाँ हुई थी हिन्दू कारोबारी की हत्या, वहाँ अब भी नहीं...

पाकिस्तान के सिंध के संघर में एक हिंदू परिवार पर रविवार शाम को मीरपुर मथेलो पुलिस थाने के भीतर लगभग एक दर्जन लोगों ने हमला बोल दिया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,424FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe