Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजईद के अगले दिन बंगाल में कंप्लिट लॉकडाउन का आदेश: 20000+ मामले, 30 मई...

ईद के अगले दिन बंगाल में कंप्लिट लॉकडाउन का आदेश: 20000+ मामले, 30 मई तक लागू रहेंगे प्रतिबंध

ममता बनर्जी सरकार ने यह निर्णय लिया कि राज्य में 16 मई से 30 मई तक सम्पूर्ण लॉकडाउन रहेगा। आपातकालीन सेवाओं को लॉकडाउन से छूट प्रदान की गई है, साथ ही...

पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। आज (15 मई, 2021) ही खबर आई कि संक्रमण के चलते मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के छोटे भाई आशिम बनर्जी का निधन हो गया। गंभीर होते संक्रमण के कारण राज्य में लॉकडाउन लागू करने का निर्णय लिया गया।

शनिवार (15 मई) को ममता बनर्जी सरकार ने यह निर्णय लिया कि राज्य में 16 मई से 30 मई तक सम्पूर्ण लॉकडाउन रहेगा। राज्य के मुख्य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय के द्वारा आदेशित किया गया कि राज्य में 16 मई को सुबह 6 बजे से 30 मई को शाम 6 बजे तक सम्पूर्ण लॉकडाउन लागू रहेगा। हालाँकि आपातकालीन सेवाओं को लॉकडाउन से छूट प्रदान की गई है, साथ ही अत्यावश्यक सेवाएँ भी कुछ प्रतिबंधों के साथ संचालित होंगी।

लॉकडाउन में राज्य में सभी प्रकार के कार्यालय बंद रहेंगे। इसके अलावा बस सेवा, मेट्रो, किसी भी प्रकार की सभा अथवा समूहीकरण इत्यादि भी प्रतिबंधित किया गया है। शादी में भी अधिकतम 50 लोगों को अनुमति प्रदान की गई है।

लॉकडाउन लागू करने के साथ ही यह भी निर्णय लिया गया है कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 और भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत कार्रवाई की जाएगी।

शुक्रवार को पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 20846 ने मामले आए जबकि 100 से अधिक लोगों की मौत हुई है। नए संक्रमण का यह आँकड़ा राज्य में एक दिन का सबसे बड़ा आँकड़ा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -