Saturday, July 24, 2021
Homeदेश-समाजबंगाल: 32 लोग, पीने को सिर्फ 1 लीटर पानी, आसनसोल के अस्पताल में क्वारंटाइन...

बंगाल: 32 लोग, पीने को सिर्फ 1 लीटर पानी, आसनसोल के अस्पताल में क्वारंटाइन किए गए लोगों का हंगामा

अब्दुल करीम हुसैन नाम के एक व्यक्ति ने कहा कि उन्हें बताया गया था कि उनके टेस्ट की रिपोर्ट आने के बाद उन्हें घर जाने दिया जाएगा। लेकिन अभी तक टेस्ट ही नहीं हुए हैं, तो रिपोर्ट मिलने का सवाल ही नहीं है। उन्होंने कहा कि शौचालय में पानी नहीं है। जिस जगह से पीने का पानी लिया जा सकता है, उसे बंद रखा गया है।

पश्चिम बंगाल के आसनसोल के ESI अस्पताल में क्वारंटाइन में रखे गए लोगों ने शनिवार (मई 9, 2020) को जमकर हंगामा किया। इनका कहना है कि अस्पताल के शौचालय में पानी की व्यवस्था नहीं है और न ही उन्हें पीने का पानी उपलब्ध कराया जा रहा है।

क्वारंटाइन में रखे गए लोगों ने यह भी कहा कि अभी तक उनका कोरोना वायरस टेस्ट नहीं कराया गया है।

क्वारंटाइन सेंटर में फँसे एक शख्स ने शिकायत करते हुए कहा कि 32 लोगों के लिए सिर्फ 1 लीटर पानी उपलब्ध कराया गया। उन्होंने अस्वास्थ्यकर परिस्थिति, जिसके तहत वो जीने को मजबूर थे, की तरफ इशारा करते हुए बताया कि भोजन को गंदे वाहनों में लाया जाता है।

एक अन्य व्यक्ति ने अस्पताल के अधिकारियों से अनुरोध किया कि वे उनका कोरोना वायरस का टेस्ट करवाएँ और अगर उनका रिजल्ट नेगेटिव आता है, तो उन्हें जाने दिया जाए। वहीं एक व्यक्ति ने कहा, “जब तक हमें रिपोर्ट नहीं मिलती, हम कुछ नहीं खाएँगे।”

अब्दुल करीम हुसैन नाम के एक व्यक्ति ने कहा कि उन्हें बताया गया था कि उनके टेस्ट की रिपोर्ट आने के बाद उन्हें घर जाने दिया जाएगा। लेकिन अभी तक टेस्ट ही नहीं हुए हैं, तो रिपोर्ट मिलने का सवाल ही नहीं है। उन्होंने कहा कि शौचालय में पानी नहीं है। जिस जगह से पीने का पानी लिया जा सकता है, उसे बंद रखा गया है।

बता दें कि पश्चिम बंगाल में 9 मई तक कोरोना संक्रमित मरीजों का आँकड़ा 1786 तक पहुँच गया है। राज्य के आसनसोल से भाजपा सांसद बाबुल सुप्रियो ने पिछले दिनों कोरोना संक्रमितों के लिए किए गए इंतजाम की पोल-पट्टी खोलते हुए ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया था।

वहीं इंटर मिनिस्ट्रियल सेंट्रल टीम (IMCT) ने भी पश्चिम बंगाल सरकार पर सहयोग न करने का आरोप लगाया था। अपूर्व चंद्रा ने अपनी चिट्ठी में कहा था कि उन्होंने राज्य के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा को सात और राज्य के गृह, स्वास्थ्य, शहरी विकास और नगर पालिका विभाग के सचिवों को 4 चिट्ठियाँ लिखीं लेकिन एक का भी जवाब नहीं मिला। साथ ही उन्होंने बताया कि 12.8 फ़ीसदी मृत्यु दर के साथ पश्चिम बंगाल में सबसे तेज गति से कोरोना से लोगों की मौत हो रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दैनिक भास्कर के ₹2,200 करोड़ के फर्जी लेनदेन की जाँच कर रहा है IT विभाग: 700 करोड़ की आय पर टैक्स चोरी का खुलासा

मीडिया समूह की तलाशी में छह वर्षों में ₹700 करोड़ की आय पर अवैतनिक कर, शेयर बाजार के नियमों का उल्लंघन और लिस्टेड कंपनियों से लाभ की हेराफेरी के आयकर विभाग को सबूत मिले हैं।

पेगासस विवाद के पीछे बीडीएस या कतर, वॉशिंगटन पोस्ट की संपादक ने भी फोन नम्बरों की पुष्टि से किया इनकार: एनएसओ सीईओ

स्पाइवेयर पेगासस के मालिक एनएसओ ग्रुप के सीईओ ने कहा, ''मौजूदा 'स्नूपगेट' विवाद के पीछे बीडीएस मूवमेंट या कतर का हाथ हो सकता है।''

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,047FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe