Tuesday, May 21, 2024
Homeदेश-समाजसेक्स के लिए बिस्तर पर ले गई, नशीला दूध पिला किया बेहोश… हाथ-पैर बाँध...

सेक्स के लिए बिस्तर पर ले गई, नशीला दूध पिला किया बेहोश… हाथ-पैर बाँध प्राइवेट पार्ट सिगरेट से दागा: शौहर की शिकायत के बाद बीवी गिरफ्तार

ऑपइंडिया ने पीड़ित शौहर मन्नान जैदी से बात की। मन्नान ने हमें बताया कि उनकी बीवी का किसी और लड़के से अफेयर था। मन्नान ने कहा, "मेरी बीवी इस्लामी कानूनों को ठीक से नहीं मानती थी। वो अपनी और मेरी अम्मी, दोनों को आए दिन बुरी तरह से पीटती थी। यहाँ तक कि कुरान पर भी उलटी-सीधी टिप्पणी किया करती थी।"

उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले में एक मुस्लिम महिला ने अपने शौहर को बेरहमी से पीट दिया। पीड़ित शौहर मन्नान जैदी ने 4 मई 2024 को अपनी बीवी महर जहाँ के खिलाफ थाने में तहरीर दी। जैदी ने बीवी पर नशा देकर बेरहमी से पीटने, गला दबाने, सिगरेट से जलाने और जान से मारने की फिराक में होने का आरोप लगाया है। तहरीर के आधार पर पुलिस ने FIR दर्ज करके महर को गिरफ्तार कर लिया है।

यह मामला बिजनौर जिले के थाना क्षेत्र स्योहारा का है। मन्नान ने पुलिस को दी गई शिकायत में कहा है कि उनका निकाह 17 नवंबर 2023 को महर जहाँ से हुआ था। यह लव मैरिज थी। निकाह के बाद महर ने अपने शौहर पर दबाव बनाकर अपने ससुराल वालों से अलग किराए पर रहना शुरू कर दिया। पीड़ित शौहर के मुताबिक, निकाह के बाद पता चला कि उनकी बीवी एक गलत चरित्र की महिला है।

पीड़ित ने अपनी बीवी पर शराब और सिगरेट पीने के साथ-साथ घर में लड़ाई-झगड़ा करने का आरोप लगाया है। इन हरकतों को मन्नान ने मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न बताया है। शिकायत में मन्नान ने 29 अप्रैल 2024 की घटना का जिक्र किया है। उन्होंने बताया कि रात लगभग डेढ़ बजे उनकी बीवी शारीरिक संबंध बनाने के लिए उनके पास आई। इससे पहले अरोपिता ने मन्नान को पीने के लिए दूध दिया।

मन्नान जैदी का आरोप है कि इस दूध में महर जहाँ ने नशीला पदार्थ मिला दिया था। दूध पीने के बाद वह बेसुध हो गए। जब मन्नान बेसुध हो गए तो महर जहाँ ने उनके हाथों और पैरों को बाँध दिया। इसके बाद अरोपित मेहर जहाँ ने पीड़ित का गला दबाया और चाकू से गुप्तांग (प्राइवेट पार्ट) काटने की कोशिश की। इसके अलावा, मेहर ने जलती सिगरेट से मन्नान के शरीर को भी दागा गया।

मन्नान जैदी का आरोप है कि इस दौरान वह पीड़ा से चीखते-चिल्लाते रहे। मन्नान ने यह भी बताया कि इस दौरान कमरे में लगे हुए गुप्त कैमरे में उनकी बीवी की करतूतें कैद हो गई हैं। यह मामला सामने आने के बावजूद महर जहाँ अपने शौहर को ही झूठे मुकदमे में जेल भेजवाने और जान से मार डालने की धमकी देने लगी। पीड़ित ने अपनी बेगम पर कड़ी कार्रवाई की माँग की है।

ऑपइंडिया के पास शिकायत कॉपी मौजूद है। पुलिस ने इस शिकायत पर 4 मई को ही महर जहाँ को नामजद करते हुए FIR दर्ज कर ली। अरोपिता पर IPC की धारा 328, 307, 323 और 506 के तहत कार्रवाई की गई है। 5 मई (रविवार) को बिजनौर पुलिस ने महर जहाँ को गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में जाँच और आगे की कानूनी कार्रवाई की जा रही है।

अपनी और मेरी माँ दोनों को पीटती थी

ऑपइंडिया ने पीड़ित शौहर मन्नान जैदी से बात की। मन्नान ने हमें बताया कि उनकी बीवी का किसी और लड़के से अफेयर था। मन्नान ने कहा, “मेरी बीवी इस्लामी कानूनों को ठीक से नहीं मानती थी। वो अपनी और मेरी अम्मी, दोनों को आए दिन बुरी तरह से पीटती थी। यहाँ तक कि कुरान पर भी उलटी-सीधी टिप्पणी किया करती थी।”

मन्नान ने बताया कि वो आयुष्मान कार्ड बनाने का काम करता है। इसी दौरान उसकी महर जहाँ से मुलाकात हुई थी। बाद में दोनों में प्यार बढ़ा और अंत में दोनों ने परिवार वालों की मर्जी से निकाह कर लिया।बकौल मन्नान, उनके पास अपनी बीवी के खिलाफ तमाम सबूत हैं, जिसमें से कुछ उन्होंने पुलिस को दिए हैं और कुछ लोक-लाज के चलते छिपा रखे हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -