Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजमहिला नेताओं को बताया 'रखैल': यति नरसिंहानंद के वायरल वीडियो पर बवाल, NCW से...

महिला नेताओं को बताया ‘रखैल’: यति नरसिंहानंद के वायरल वीडियो पर बवाल, NCW से कार्रवाई की माँग

"अब सरकारी ठेकों का रेट 10% हो गया है। जितनी भी भाजपा की महिला नेताएँ आपको दिखाई दे रही हैं, वो एक नेता के पास गईं और दूसरे के पास नहीं गईं तो दूसरा उनका काम नहीं करेगा।"

सोशल मीडिया में यति नरसिंहानंद सरस्वती के एक वीडियो को लेकर उनका विरोध हो रहा है, जिसमें वो महिलाओं को लेकर आपत्तिजनक बातें कहते हुए सुने जा सकते हैं। वो गाजियाबाद में स्थित डासना शिव-शक्ति मंदिर के महंत हैं। इस वीडियो के वायरल होने के बाद भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय मंत्री तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने ‘राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW)’ व इस संस्था की अध्यक्ष रेखा शर्मा से उनके खिलाफ कार्रवाई की माँग की है। हालाँकि, ये वीडियो कब का है ये साफ़ नहीं है।

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में महंत यति नरसिंहाननद सरस्वती कहते हैं, “अब सरकारी ठेकों का रेट 10% हो गया है। जितनी भी भाजपा की महिला नेताएँ आपको दिखाई दे रही हैं, वो एक नेता के पास गईं और दूसरे के पास नहीं गईं तो दूसरा उनका काम नहीं करेगा। तीसरे से काम है तो तीसरे के पास जाना है। ये है राजनीति। पूरा मजा आ रहा है। इतनी महिलाएँ राजनीति में घूम रही हैं, पूरा मजा आ रहा है।”

वीडियो में यति नरसिंहानंद सरस्वती ये भी कहते हैं कि वो मातृशक्ति को प्रणाम करते हैं और सरकार चलाने वाले लोग सबके बाप हैं, इसीलिए वो पितृशक्ति को भी प्रणाम करते हैं। इसके बाद वो भारत माता को भी प्रणाम करने की बात कहते हैं। इससे पहले वो वीडियो में वो कहते हैं, “किसी एक नेता की रखैल कोई औरत दिखाई देगी। जितनी औरतें राजनीति में दिखाई देती थी, वो या तो किसी न किसी नेता की रखैल थी, या फिर किसी राजनेता की बेटी या बड़े परिवार से थी।”

वीडियो में वो आगे कहते हैं, “उसके बाद आई चोर और डकैतों की सरकार। समाजवादी पार्टी की सरकार। उस समय औरतें किसी एक की होती थीं, भले ही उस एक के पास कितनी भी औरतें हों। लेकिन जो एक की है, वो एक की है। वो डकैत थे तो सरकारी ठेकों का रेट 1.5% हो गया था। फिर मायावती बहनजी की सरकार आई। वहाँ किसी औरत को कोई नेता टिकट दिलाने की सिफारिश नहीं कर सकता था।”

नरसिंहानंद आगे कहते हुए सुने जा सकते हैं, “अगर बसपा सरकार में किसी नेता ने किसी महिला को टिकट दिलाने का वादा कर दिया, बाद में पता चला कि बहनजी ने उसका भी टिकट काट दिया। उसके बाद आई बेहद चरित्रवान और ईमानदार लोगों की सरकार।” इसी के बाद उन्होंने भाजपा की महिला नेताओं पर टिप्पणी की। लेखिका शेफाली वैद्य ने नरसिंहानंद के वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उनका समर्थन करना उनकी भूल थी।

दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने कहा कि यति नरसिंहानंद सरस्वती की महिलाओं के प्रति सोच किसी भगवाधारी की हो ही नहीं सकती। उन्होंने नरसिंहानंद को ‘जिहादी सोच से बीमार कोई कुंठित आदमी’ बताते हुए NCW व उत्तर प्रदेश पुलिस से उनकी गिरफ़्तारी की माँग की। उन्होंने कहा कि ये व्यक्ति माँ जगदम्बा के मंदिर में बैठने योग्य नहीं है। कई अन्य महिलाओं ने भी उनके बयान की आलोचना की।

यति नरसिंहानंद सरस्वती तब चर्चा में आए थे, जब डासना के मंदिर में चोरी करने गए आसिफ नाम के लड़के की पिटाई का वीडियो वायरल हुआ था। मुस्लिमों के खिलाफ बयान देने का आरोप लगाते हुए देश भर में कट्टरपंथियों ने उनका विरोध किया था। 10 अगस्त, 2021 को डासना के मंदिर मेंदो साधुओं पर चाकुओं से हमले की घटना सामने आई थी। नरसिंहानंद इससे पहले भी अपने कई बयानों से विवादों में रहे हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,827FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe