Advertisements
Sunday, May 31, 2020
होम देश-समाज 2 कपूर, 4 बेटियाँ और यस बैंक का डूबना: 26/11 से कैसे जुड़े हैं...

2 कपूर, 4 बेटियाँ और यस बैंक का डूबना: 26/11 से कैसे जुड़े हैं इस सफर के तार

शगुन का कहना है कि उनका और उनके परिवार का भरोसा बैंक पर बरकरार है। इसलिए उन्होंने अपनी 8.5% हिस्सेदारी नहीं बेची। बैंक के एस्क्रो अकाउंट में 3600 करोड़ रुपए (50 करोड़ डॉलर) हैं। इससे जमाकर्ताओं का पैसा लौटाने में मदद मिलेगी।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

यस बैंक घोटाले के आरोप में इन दिनों राणा कपूर का नाम सुर्खियों में हैं। राणा कपूर के साथ उनकी तीनों बेटियाँ भी बड़े स्तर पर हुए फर्जीवाड़ा का हिस्सा बताई जा रही हैं। तीनों का नाम- राखी कपूर टंडन, राधा कपूर और रोशनी कपूर है। इनके ख़िलाफ़ ईडी ने लुकआउट नोटिस जारी किया है। इनके अलावा इस बैंक से एक और बेटी का नाम जुड़ा है। लेकिन इस बेटी को बैंक में अपनी हिस्सेदारी पाने के लिए लंबी कानूनी लड़ाई लड़ी। अदालत के हस्तक्षेप से जब हक मिला तब तक शायद काफी देर हो चुकी थी। लेकिन, अब भी उनका मानना है कि यदि आज उनके पिता जिंदा होते तो बैंक इस तरह नहीं डूबता।

हम बात कर रहे हैं- शगुन कपूर गोगिया की। शगुन, यस बैंक की स्थापना करने वाले अशोक कपूर की बेटी हैं। उन्हें राणा कपूर से एक समय में बड़ा धोखा मिला। लेकिन, पिता की मौत के बाद आई इस परेशानी की घड़ी में उन्होंने हार नहीं मानी और बैंक में अपनी जगह पाने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ी। नतीजतन, बाद में जाकर वह बैंक के बोर्ड में शामिल हो ही गईं।

शगुन कपूर मीडिया को दिए साक्षात्कार में कहती हैं कि यस बैंक का मूल आइडिया उनके पिता का ही था। जिन्होंने इसे एनबीएफसी से बैंक और फिर अहम मुकाम तक पहुँचाने में योगदान दिया। उनका मानना है कि उनके पिता के रहते बैंक ऐसी परेशानियों में कभी नहीं घिरता। वे इसके संचालन में इतनी गड़बड़ियाँ कभी नहीं होने देते।

अब सवाल है कि जब अशोक कपूर मूल रूप से इस बैंक के कर्ता-धर्ता थे, तो फिर फ्रेम में राणा कपूर का नाम और उनकी बेटियों का नाम कैसे आया और आखिर क्यों अशोक कुमार की बेटी को अपने पिता के बैंक में ही जगह पाने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ी?

दरअसल, ये मनमुटाव की कहानी शुरू होती है 2008 के बाद से। लेकिन इससे पहले ये जानने की जरूरत है कि यस बैंक की शुरुआत में अशोक कपूर और राणा कपूर का आपस में क्या संबंध हैं? तो बता दें, साल 1999 में अशोक कपूर (ABN Amro Bank के पूर्व कंट्री हेड) हरकीरत सिंह ( पूर्व कंट्री हेड Deutche Bank) और राणा कपूर (पूर्व प्रमुख कॉर्परेट और फाइंनेस ANZ Grindlays Bank) ने रोबोबैंक के साथ मिलकर नॉन बैंकिंग फाइंनेंस कंपनी की शुरुआत की। मगर, बाद में हरकीरत सिंह इससे बाहर निकल गए। साल 2003 में अशोक और राणा कपूर को बैंक चलाने का लाइसेंस मिला और वर्ष 2004 में यस बैंक की शुरुआत हुई।

इस शुरुआत के बाद अशोक कपूर बैंक के अध्यक्ष बने, जबकि राणा को बैंक का मैनेजिंग डायरेक्टर बनाया गया। बैंक ने ग्राहकों के सेविंग अकाउंट पर 6 परसेंट का ब्याज दर देना शुरू किया। लिहाजा कुछ ही सालों में बैंक के पास लाखों ग्राहक पहुँच गए। बैंक बड़े कंपनियों को ऊँचे दर पर लोन दिया करती थी। इसी बीच अशोक कपूर और राणा कपूर की दोस्ती रिश्तेदारी में बदल गई। अशोक कपूर की पत्नी मधु कपूर की बहन से राणा कपूर ने शादी कर ली। ये वो समय था जब दोनों बिजनेस पार्टनर और दोस्त से साढू बने। यानी राणा कपूर बने शगुन के मौसा।

इस दौरान सब कुछ बढ़िया चलता रहा। बैंक भी तेजी से तरक्की के रास्ते पर आगे बढ़ा, लेकिन साल 2008 में मुंबई हुए 26/11 हमले ने पूरी कहानी को ही पलट दिया। अशोक कपूर आतंकी हमले का शिकार हो गए।

दिवंगत अशोक कपूर और उनकी बेटी शगुन कपूर

अशोक की मौत के बाद उनकी पत्नी ने अपने बेटी यानी शगुन को बैंक का निदेशक बनाने का प्रस्ताव रखा। लेकिन बैंक ने उस समय ये कहते हुए उनकी दावेदारी खारिज कर दी कि वो RBI के गाइडलाइंस को पूरा नहीं करती। बाद में मामला बॉम्बे हाईकोर्ट पहुँचा और साल 2015 में फैसला अशोक कपूर के हक में आया।

लंबी कानूनी के बाद 2019 में शगुन काे यस बैंक के बोर्ड में जगह मिल पाई। 26 अप्रैल 2019 को शगुन बैंक की एडिशनल डायरेक्टर बनाई गईं। इससे पहले साल 2012 में एक और वाकया हुआ जिसने शगुन के सामने उसके मौसा की हकीकत को खोलकर रख दिया।

दरअसल, राणा कपूर ने वर्ष 2012 में अपने बैंक का इतिहास छपवाया था। लेकिन उसने इस इतिहास में अशोक कपूर का कोई ज़िक्र नहीं करवाया। इसे देखने के बाद अशोक कपूर के परिवार ने इसे अपने दोस्त के साथ धोखा करार दिया।

आज बैंक की स्थिति देखकर भी शगुन का कहना है कि उनका और उनके परिवार का भरोसा बैंक पर बरकरार है। इसलिए उन्होंने अपनी 8.5% हिस्सेदारी नहीं बेची। उनका कहना है कि वे इसे उबारने की हरसंभव कोशिश कर रहे हैं। बैंक के एस्क्रो अकाउंट में 3600 करोड़ रुपए (50 करोड़ डॉलर) हैं। इससे जमाकर्ताओं का पैसा लौटाने में मदद मिलेगी।

ऐसे ही नहीं डूब गया यस बैंक, प्रियंका गाँधी की पेंटिंग खरीदने पर राणा कपूर ने खर्चे करोड़ों

लंदन भाग रही थीं ‘यस बैंक’ के संस्थापक राणा कपूर की बेटी रौशनी, मुंबई एयरपोर्ट पर रोकी गईं

PM को गिफ्ट मिली पेंटिंग को प्रियंका गाँधी ने किस हैसियत से बेचा?: ‘यस बैंक’ विवाद में उठे कई नए सवाल

Advertisements

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

‘ईद पर गोहत्या, विरोध करने पर 4 लोगों को मारा’ – चतरा में हिन्दुओं का आरोप, झारखंड पुलिस ने बताया अफवाह

झारखंड के चतरा में हिन्दुओं ने मुसलमानों पर हमला करने का आरोप लगाया। कारण - ईद पर गोहत्या का विरोध करने को लेकर...

कल-पुर्जा बनाने के नाम पर लिया दो मंजिला मकान, चला रहे थे हथियारों की फैक्ट्री: इसरार, आरिफ सहित 5 गिरफ्तार

बंगाल एसटीएफ ने एक हथियार फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। पॉंच लोगों को गिरफ्तार किया है। करीब 350 अर्द्धनिर्मित हथियार बरामद किए हैं।

मुंबई में बेटे ने बुजुर्ग माँ को पीटकर घर से निकाला, रेलवे अधिकारियों ने छोटे बेटे के पास दिल्ली भेजने की व्यवस्था की

लॉकडाउन के बीच मुंबई से एक बेहद असंवेदनशील घटना सामने आई है। एक बेटे ने अपनी 68 वर्षीय माँ को मारपीट कर घर से बाहर निकाल दिया।

MLA विजय चौरे ने PM मोदी को दी गाली, भाई के साथ किसानों को धमकाया: BJP ने कहा- कॉन्ग्रेस का संस्कार दिखाया

विजय चौरे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के क्षेत्र छिंदवाड़ा के सौसर से विधायक हैं। उन्होंने भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए भी अभद्र भाषा का प्रयोग किया।

दुनिया के सारे नेता योग, आयुर्वेद की बातें कर रहे हैं, भारत में कोरोना मृत्यु दर नियंत्रण में: ‘मन की बात’ में PM मोदी

PM मोदी ने 'मन की बात' के दौरान स्वच्छ पर्यावरण के लिए पेड़ लगाने की सलाह दी। फिर उन्होंने जल-चक्र समझाते हुए पानी बचाने की भी सलाह दी।

G7 में भारत को शामिल करने की बात, डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा – ‘पुराना हो गया समूह, नहीं करता सही नुमाइंदगी’

डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए जून में होने वाले G7 समिट को सितंबर तक टालने का निर्णय लिया है। साथ ही इस समिट में...

प्रचलित ख़बरें

असलम ने किया रेप, अखबार ने उसे ‘तांत्रिक’ लिखा, भगवा कपड़ों वाला चित्र लगाया

बिलासपुर में जादू-टोना के नाम पर असलम ने एक महिला से रेप किया। लेकिन, मीडिया ने उसे इस तरह परोसा जैसे आरोपित हिंदू हो।

चीन के खिलाफ जंग में उतरे ‘3 इडियट्स’ के असली हीरो सोनम वांगचुक, कहा- स्वदेशी अपनाकर दें करारा जवाब

"सारी दुनिया साथ आए और इतने बड़े स्तर पर चीनी व्यापार का बायकॉट हो, कि चीन को जिसका सबसे बड़ा डर था वही हो, यानी कि उसकी अर्थव्यवस्था डगमगाए और उसकी जनता रोष में आए, विरोध और तख्तापलट और...."

जिस महिला अधिकारी से सपा MLA अबू आजमी ने की बदसलूकी, उसका उद्धव सरकार ने कर दिया ट्रांसफर

पुलिस अधिकारी शालिनी शर्मा का ट्रांसफर कर दिया गया है। नागपाड़ा पुलिस स्टेशन की इंस्पेक्टर शालिनी शर्मा के साथ अबू आजमी के बदसलूकी का वीडियो सामने आया था।

गोवा का हाथ काटरो खम्भ: मौत का वह स्तम्भ जहाँ जेवियर के अनुयायी हिन्दुओं को काट दिया करते थे

भारत के अधिकांश शहरों में “संत” ज़ेवियर के नाम पर स्कूल-कॉलेज हैं। लेकिन गोवा में एक स्तंभ ऐसा भी है जिसे उसके अनुयायियों ने हिंदुओं के रक्त से सींचा था।

‘TikTok हटाने से चीन लद्दाख में कब्जाई जमीन वापस कर देगा’ – मिलिंद सोमन पर भड़के उमर अब्दुल्ला

मिलिंद सोमन ने TikTok हटा दिया। अरशद वारसी ने भी चीनी प्रोडक्ट्स का बॉयकॉट किया। उमर अब्दुल्ला, कुछ पाकिस्तानियों को ये पसंद नहीं आया और...

हमसे जुड़ें

210,044FansLike
60,894FollowersFollow
244,000SubscribersSubscribe
Advertisements