Sunday, September 27, 2020
Home विचार मीडिया हलचल रामायण-महाभारत से चिढ़ते वो कुंठित हिन्दू-विरोधी पत्रकार, जो साध लेते हैं चुप्पी मस्जिदों व...

रामायण-महाभारत से चिढ़ते वो कुंठित हिन्दू-विरोधी पत्रकार, जो साध लेते हैं चुप्पी मस्जिदों व चर्चों के सवाल पर

मंदिरों और हिन्दुओं के प्रति घृणा से ग्रस्त बीबीसी जैसे मीडिया संस्थानों ने क्या कभी मस्जिदों और चर्चों से पूछा कि पूरी दुनिया में सैकड़ों इसाई और मुस्लिम मुल्कों से जुड़े मस्जिद और चर्च इस राष्ट्रीय आपदा में कितना सहयोग कर रहे हैं?

भारत में जब से चाइनीज कोरोना वायरस (वुहान-2019) का खतरा बढ़ा है, तब से लगातार कुंठित पत्रकार कथित जागरूकता फ़ैलाने के नाम पर मेनस्ट्रीम मीडिया और सोशल मीडिया के माध्यम से भाजपा शासित सरकारों और हिन्दू विरोध का घिनौना खेल खेल रहे हैं। चाइनीज वायरस के शुरुआती संक्रमण के दौरान ऐसे कुंठित लोगों ने कथित गो-मूत्र के नाम से हिन्दुओं का खूब मजाक भी उड़ाया। हिन्दुओं को अपमानित करने के उद्देश्य से मीम्स बनाए और स्टोरी प्लांट किया।

ऐसी ख़बरों के माध्यम से इन्होंने यह सिद्ध करने का प्रयास किया कि जैसे इस देश के गली-गली में गो मूत्र की दुकान हो और देश में गो मूत्र पीने के लिए हिन्दूवादी संगठन कोई फ़तवा जारी करते हों। इसलिए भारत में कोरोना का संक्रमण रोक पाना असंभव होगा। गोमूत्र से जुड़ी चक्रपाणि जैसे स्वयंभू ठीकेदारों की एक छोटी सी घटना को इन घटिया हिन्दुफोबिया से ग्रसित पत्रकारों ने इतना तूल दिया कि अतिश्योक्ति हो गया। जैसे चक्रपाणि हिन्दू धर्म का एक मात्र प्रतिनिधि हो जबकि ऐसे लोगों को सनातन में आस्था रखने वाले कोई भाव नहीं देते। यहाँ तक कि काशी विद्वत परिषद जैसे संस्थाओं ने उनकी इस हरकत पर लताड़ा भी।

बीबीसी का घोषित हिन्दूफोबिया?

इसी बीच देश चाइनीज वायरस (वुहान 2019) से जूझ रहा है। पूरा देश सामाजिक भेदभावों को भूला कर चाइनीज कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ रहा है। भारत के हजारों मंदिर और कई छोटे-बड़े हिन्दू और सिख स्वयंसेवी संस्थाओं ने इस चाइनीज संक्रमण से दुश्वारियाँ उठा रहे लोगों की मदद के लिए दिन रात तत्पर है। पटना के हनुमान मंदिर से लेकर तिरुपति बाला जी और शिरडी के साईं ट्रस्ट जैसे कई मंदिरों के ट्रस्ट ने अपने दान पात्र से सरकार को मदद दी है।

ऐसे दौर में भी बीबीसी जैसे एजेंडाधारी जिनका मकसद ही हिन्दू घृणा और भारत विरोध हो, कोई मौका नहीं छोड़ना चाहते। इसी कड़ी में अगर बात करूँ तो बीबीसी हिंदी में राजेश प्रियदर्शी जो कि बीबीसी हिंदी के डिज़िटल एडिटर हैं। जो ‘कोरोना वायरस संक्रमण के आईने में दिखती वर्ण व्यवस्था की गहरी छाया’ ब्लॉग नामक एक लेख में बहुत ही हीन भावना से ग्रसित चाइनीज वायरस की आड़ में हिन्दुओं के बीच लगातार सामाजिक विभेद को हवा देकर एक काल्पनिक लेख लिख कर, अपने उसी एजेंडे को हवा देते हैं। बिना किसी सन्दर्भ के और वर्तमान में इस तरह के किसी विवाद के अस्तित्व की फर्जी बुनियाद पर ऐसे लोग हिन्दुओं को घेरने का काम कर रहे हैं।

बीबीसी का लेख
- विज्ञापन -

हिन्दूफोबिया से ग्रसित बीबीसी और इसका पत्रकार राजेश प्रियदर्शी लिखता है, (ऐसा इसलिए कि हिन्दू घृणा से सने ऐसे लोग सम्मान के काबिल नहीं हैं) कि “तिरुपति से लेकर वैष्णो देवी तक लोग मंदिरों में हज़ारों-लाखों रुपए दान करते हैं। विशाल मूर्तियाँ लगाने, भव्य मंदिर बनाने के नाम पर जितना भी चाहिए पैसा आ जाता है, मगर ग़रीबों के लिए हमारी मुट्ठी ज़रा कम ही खुलती है।”

मंदिरों और हिन्दुओं के प्रति घृणा से ग्रस्त बीबीसी जैसे मीडिया संस्थानों ने क्या कभी मस्जिदों और चर्चों से पूछा कि पूरी दुनिया में सैकड़ों इसाई और मुस्लिम मुल्कों से जुड़े मस्जिद और चर्च इस राष्ट्रीय आपदा में कितना सहयोग कर रहे हैं? या कितना दिया? क्या बीबीसी ने यह प्रश्न पूछा कि आत्मा की फसल काटने के लिए पूरी दुनिया से मिशनरी ताकत जब भारतीय हिन्दुओं के धर्म परिवर्तन पर करोड़ों रुपए खर्च करता है तो आज इस आपदा के समय वो क्या कर रहे हैं? 

जवाब बीबीसी जैसी संस्थाएँ नहीं देंगी, अगर नजर दौड़ाएँगे तो आपको हर तरफ दिखेगा कि एक तरफ जहाँ मंदिर बंद हैं और हिन्दुओं की संस्थाएँ कोरोना के समय में लॉकडाउन की वजह से प्रभावित लोगों की सेवा में लगी हुई हैं वही ऐसे कई मस्जिद और चर्च आज कोरोना फैलाने के केंद्र बने हुए हैं। तबलीगी जमात में निजामुद्दीन सहित देश के कई हिस्सों में जिस तरह से कोरोना के प्रसार में योगदान दिया है उस पर ये संस्थाएँ मौन हैं।

हिन्दू सॉफ्ट टारगेट है, इसलिए इनके खिलाफ जो मन होगा वो कोई भी हिन्दू घृणा से सना लिबरल वामपंथी से लेकर, इनके इकोसिस्टम का एक अदना सा बेवकूफ भी बोलने लगेगा। यहाँ तक कि, आपदा के समय को ये लोग हिन्दुओं के बीच विभेद को और गहराने के लिए एक मौके के रूप में देखते हैं?

बीबीसी के राजेश प्रियदर्शी जैसे लोगों को बताना चाहता हूँ क्योंकि इनकी ऑंखें हिन्दुओं में अच्छाई नहीं ढूँढ पाती हैं क्योंकि ये हिन्दू घृणा में अंधी हो चुकी हैं, ऊँचे-ऊँचे मंदिर बनवाते वक्त हिन्दुओं को हेल्थ सर्विस से लेकर कई मानवोपयोगी सेवाएँ याद रहती है। आज मंदिर और ऐसी हिन्दू संस्थाएँ करोड़ों लोगों के सेवा में तत्पर हैं। राजेश प्रियदर्शी एक उदाहरण आपके ही राज्य बिहार से देता हूँ। पटना का हनुमान मंदिर देखा है? ये मंदिर चढ़ावे के पैसे से एक सुन्दर कैंसर अस्पताल और एक दन्त चिकित्सालय बनवाया है।

देश में ऐसे हजारों उदाहरण हैं। हिन्दू इसाई मिशनरी की तरह नहीं कि आत्मा की फसल काटने के लिए ही अस्पताल बनवाएँ l शर्म करो और एक बात जायज समझो कि बेशक योगी जी कुम्भ में तीर्थ यात्रिओं के लिए पुष्प वर्षा करवाएँगे। काँवरियों के पाँव में कंकड़ ना चुभ जाए, इसके लिए सड़कों पर कालीन बिछाएँगे। अयोध्या में सैकड़ों लीटर तेल जला कर दीपोत्सव मनाएँगे। आखिर इन कामों से क्या समस्या है। कुछ भी हिन्दुओं के हित में हो यही नहीं देखा जाता न, यही सरकारें जब हज या मुस्लिम ईसाईयों को सुविधाएँ देती हैं, सैकड़ों योजनाएँ चल रही हैं। तब तो कोई विरोध करते हमने बीबीसी को आज तक नहीं देखा।

ऐसी सरकारें जिन वोटों से चुनकर आती हैं उनमें हिन्दू बहुतायत में हैं। और पैसा भी उन्हीं का है जो टैक्स के रूप में सरकारों को दिया जाता है। जिनके वोट से चुनकर आए हैं तो अगर उसी जनता को खुश करने के लिए सौ-पचास करोड़ खर्च कर ही दिए तो आपको जलन क्यूँ होती है? सिर्फ इसलिए कि ये पर्व और त्यौहार या उत्सव हिन्दुओं से जुड़े हैं।

देख नहीं रहे हैं कि आज योगी के नक़्शे-कदम पर पूरा देश चल रहा है। प्रदेश के लाखों दिहाड़ी मजदूरों के खाते में पैसा पहुँचा रहा हैं। केजरीवाल सरकार के द्वारा साजिशन दिल्ली की सीमा पर परित्यक्त मजदूरों को उन्होंने अपने सीने से लगाया। जलन तो इस काम से भी बीबीसी जैसों को होती होगी कि आखिर व्यवस्था बिगड़ी क्यों नहीं। केजरीवाल से सवाल तो करना नहीं है क्योंकि सब एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं।

पार्ट टाइम भोजपुरी पत्रकार और इसके जैसे लोग 

चाइनीज वायरस के इस आपदा काल में कुछ पार्ट टाइम भोजपुरी पत्रकार पत्रकारिता के नाम पर हिन्दू घृणा से डिस्टर्ब हो गए हैं। ऐसे डिस्टर्ब लोगों का लक्ष्य चाइनीज कोरोना वायरस (वुहान-2019) से लगातार सफलतापूर्वक लड़ रहे भारत की बड़ाई करना नहीं बल्कि हिन्दुओं और भाजपा सरकार को नीचा दिखाना है। ऐसे लोग आजकल इस बात से चिढ़े हुए हैं कि भारत सरकार ने दूरदर्शन पर रामायण और महाभारत का प्रसारण क्यूँ कर दिया।

अरे, ऐसे पार्ट टाइम भोजपुरी पत्रकार और हिन्दूफ़ोबिया से ग्रसित लिबरल वामपंथ के पुरोधाओं रामायण और महाभारत से भारत की पहचान है। इन दोनों कथाओं को सुन कर ये देश बड़ा हुआ है। भगवान श्री राम और भगवान श्री कृष्ण हमारे अराध्य हैं। अभी-अभी तो हिन्दुओं ने अयोध्या में भव्य श्री राम मंदिर को स्थापना को लेकर सैकड़ों वर्षों से चली आ रही लड़ाई जीता है। और इस लॉकडाउन में देश के करोड़ों हिन्दू तो घर पर हैं ना? वो बैठे-बैठे तुम जैसों का फेक न्यूज देखेंगे? तुम्हारी कुंठाओं को देखकर खुद कुंठित होंगे? सोचो खुद पार्टटाइम भोजपुरिया और फुल टाइम हिन्दूफ़ोबिया और हिन्दुओं से घृणा से सने पत्रकारों? 

तुम्हारा दर्द तो उसी समय स्वाभाविक हो गया था जब हाई टाउन से लेकर मेट्रो शहरो और देश के स्लम तक से थालियाँ पीटने की आवाजों ने तुम्हारे कलेजे का चीथड़ा उड़ा दिया था। और वो ताली और थाली ना सिर्फ एक सांकेतिक समर्थन था बल्कि कोरोना को हम हराएँगे, इसका आगाज था। चलते-चलते इतना बता दूँ कि इसी तरह के लोग देश में लाखों करोड़ों लोगों के मरने की झूठी खबर की भविष्यवाणियाँ कर रहे हैं। और ये वही लोग हैं जिन्हें चाइनीज कोरोना वायरस के खिलाफ भारत का सफल जंग देखा नहीं जा रहा है।

(नोट: यहाँ चाइनीज वायरस (वुहान 2019) शाब्द के इस्तेमाल का अर्थ किसी भी नृजातीय भावना से परे हैयहाँ चाइनीज (वुहान 2019) इसके भौगोलिकता की ओर इशारा कर रहा है।)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पंचतंत्र और कताकालक्षेवम् का देश है भारत, कहानी कहने-सुनने के लिए समय निकालें: ‘मन की बात’ में PM मोदी

'मन की बात' में पीएम मोदी ने कहा कि हम उस देश के वासी है, जहाँ, हितोपदेश और पंचतंत्र की परंपरा रही है, जहाँ पंचतंत्र जैसे ग्रन्थ रचे गए।

चुनाव से पहले संकट में बिहार कॉन्ग्रेस: अध्यक्ष समेत 107 नेताओं पर FIR, तेजस्वी यादव को अलग गठबंधन में जाने की धमकी

कॉन्ग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा सहित 7 नामजद व 100 अज्ञात पर आचार संहिता उल्लंघन का मामला। सीट शेयरिंग पर राजद के साथ नहीं बनी बात।

छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार: भ्रष्टाचार पर लिखेंगे तो सड़क पर भी मार खाएँगे और थाने में भी, देखती रहेगी पुलिस

"वह अपने गुंडे पार्षदों के साथ हमारे पत्रकार साथी को थाने तक पीटते हुए ले आए, इसकी वजह थी कि वह नगरपालिका के विरुद्ध RTI लगा कर..."

राजद ने नकारा, नीतीश ने दुत्कारा: कुशवाहा के चावल, यादवों के दूध से जो बनाते थे ‘खीर’ और करते थे खून बहाने की बात

किसी से भी भाव न मिलने के कारण बिहार में रालोसपा और उपेंद्र कुशवाहा की हालत 'धोबी के कुत्ते' की तरह हो गई है, जो न घर का रहता है और न घाट का।

बॉलीवुड ‘सुपरस्टार’ के सामने ‘अपराधी’ शब्द बौना, ड्रग्स से लेकर हत्या/आत्महत्या और दंगों तक… कहाँ खड़ा होता है बॉलीवुड?

ड्रग्स मामला हो या सुपरस्टार्स के गलत कामों पर पर्दा डालने की कोशिश... बॉलीवुड ‘बॉलीवुड’ का बचाव करने से पीछे नहीं हटता है। ऐसा करने...

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, PM मोदी ने कहा- उन्होंने एक सैन्य अधिकारी और नेता के रूप में देशसेवा की

भारत के पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वयोवृद्ध नेता रहे जसवंत सिंह का रविवार (सितम्बर 27, 2020) की सुबह निधन हो गया।

प्रचलित ख़बरें

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

पूना पैक्ट: समझौते के बावजूद अंबेडकर ने गाँधी जी के लिए कहा था- मैं उन्हें महात्मा कहने से इंकार करता हूँ

अंबेडकर ने गाँधी जी से कहा, “मैं अपने समुदाय के लिए राजनीतिक शक्ति चाहता हूँ। हमारे जीवित रहने के लिए यह बेहद आवश्यक है।"

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘मारो, काटो’: हिंदू परिवार पर हमला, 3 घंटे इस्लामी भीड़ ने चौथी के बच्चे के पोस्ट पर काटा बवाल

कानपुर के मकनपुर गाँव में मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू घर को निशाना बनाया। बुजुर्गों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा।

नूर हसन ने कत्ल के बाद बीवी, साली और सास के शव से किया रेप, चेहरा जला अलग-अलग जगह फेंका

पानीपत के ट्रिपल मर्डर का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने नूर हसन को गिरफ्तार कर लिया है। उसने बीवी, साली और सास की हत्या का जुर्म कबूल कर लिया है।

पंचतंत्र और कताकालक्षेवम् का देश है भारत, कहानी कहने-सुनने के लिए समय निकालें: ‘मन की बात’ में PM मोदी

'मन की बात' में पीएम मोदी ने कहा कि हम उस देश के वासी है, जहाँ, हितोपदेश और पंचतंत्र की परंपरा रही है, जहाँ पंचतंत्र जैसे ग्रन्थ रचे गए।

चुनाव से पहले संकट में बिहार कॉन्ग्रेस: अध्यक्ष समेत 107 नेताओं पर FIR, तेजस्वी यादव को अलग गठबंधन में जाने की धमकी

कॉन्ग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा सहित 7 नामजद व 100 अज्ञात पर आचार संहिता उल्लंघन का मामला। सीट शेयरिंग पर राजद के साथ नहीं बनी बात।

UP पुलिस ने अपने ही सिपाही सेराज को किया अरेस्ट, मुख्तार अंसारी के करीबी अपने भाई मेराज को दिलवाया था शस्त्र

मेराज के दो घरों पर कुर्की का नोटिस चस्पा कर दिया गया। गिरफ्तार किए गए सिपाही सेराज पर आरोप था कि उसने फर्जी तरीके से शस्त्र लाइसेंस...

बेहोश कर पति शादाब के गुप्तांग पर डालती थी Harpic, वसीम के साथ मनाती थी रंगरेलियाँ: आरोपित चाँदनी हिरासत में

महिला ने अपने प्रेमी के साथ रंगरेलियाँ मनाने के लिए अपने पति और तीनों बच्चों को बेहोश कर के एक कमरे में डाल दिया था। पति का गुप्तांग जलाया।

छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार: भ्रष्टाचार पर लिखेंगे तो सड़क पर भी मार खाएँगे और थाने में भी, देखती रहेगी पुलिस

"वह अपने गुंडे पार्षदों के साथ हमारे पत्रकार साथी को थाने तक पीटते हुए ले आए, इसकी वजह थी कि वह नगरपालिका के विरुद्ध RTI लगा कर..."

राजद ने नकारा, नीतीश ने दुत्कारा: कुशवाहा के चावल, यादवों के दूध से जो बनाते थे ‘खीर’ और करते थे खून बहाने की बात

किसी से भी भाव न मिलने के कारण बिहार में रालोसपा और उपेंद्र कुशवाहा की हालत 'धोबी के कुत्ते' की तरह हो गई है, जो न घर का रहता है और न घाट का।

बॉलीवुड ‘सुपरस्टार’ के सामने ‘अपराधी’ शब्द बौना, ड्रग्स से लेकर हत्या/आत्महत्या और दंगों तक… कहाँ खड़ा होता है बॉलीवुड?

ड्रग्स मामला हो या सुपरस्टार्स के गलत कामों पर पर्दा डालने की कोशिश... बॉलीवुड ‘बॉलीवुड’ का बचाव करने से पीछे नहीं हटता है। ऐसा करने...

पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का निधन, PM मोदी ने कहा- उन्होंने एक सैन्य अधिकारी और नेता के रूप में देशसेवा की

भारत के पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वयोवृद्ध नेता रहे जसवंत सिंह का रविवार (सितम्बर 27, 2020) की सुबह निधन हो गया।

‘रोओ मत, इमोशनल कार्ड मत खेलो’ – दीपिका पादुकोण 3 बार रोने लगीं, NCB अधिकारियों ने मोबाइल भी कर लिया जब्त

ड्रग्स मामले की जाँच कर रही NCB ने दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर के मोबाइल फोन्स को भी आगे की जाँच के लिए जब्त कर लिया।

MP रवि किशन को ड्रग्स पर बोलने के कारण मिल रही धमकियाँ, कहा- बच्चों के भविष्य के लिए 2-5 गोली भी मार दी...

रवि किशन को ड्रग्स का मामला उठाने की वजह से कथित तौर पर धमकी मिल रही है। धमकियों पर उन्होंने कहा कि देश के भविष्य के लिए 2-5 गोली खा लेंगे तो कोई चिंता नहीं है।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,058FollowersFollow
325,000SubscribersSubscribe
Advertisements