Sunday, June 20, 2021
Home विचार मीडिया हलचल यूपी पर स्विच ऑन, बंगाल हिंसा पर स्विच ऑफ: मेनस्ट्रीम मीडिया का ये संतुलन...

यूपी पर स्विच ऑन, बंगाल हिंसा पर स्विच ऑफ: मेनस्ट्रीम मीडिया का ये संतुलन क्या कहलाता है

क्या बंगाल की हिंसा को देश-विदेश की मीडिया में वही स्थान मिल रहा है? क्या मुख्यधारा के अखबार/चैनल उसको उसी गंभीरता के साथ उठा रहे हैं जैसा कि अन्य मामलों में करते हैं?

कहते हैं कि अगर धृतराष्ट्र ने विदुर की सलाह पर ध्यान दिया होता तो महाभारत को टाला जा सकता था। लेकिन धृतराष्ट्र पुत्र मोह में इतने लीन थे कि उन्होंने विदुर की बातों को सुनकर भी अनसुना कर दिया। धृतराष्ट्र ने महात्मा विदुर की बात नहीं सुनी, इससे उन बातों का महत्व कम नहीं हो जाता है। महाभारत में तो राजा को सही और गलत बताने वाले विदुर थे। लोकतंत्र में प्रजा ही राजा होती है। उसे सही तस्वीर दिखाने की जिम्मेदारी मीडिया की है। लेकिन अगर मीडिया भय, लालच, स्वार्थ या मोह के कारण सच न दिखाए तो लोकतंत्र कैसे ज़िंदा रहेगा? क्या बंगाल को लेकर ऐसा ही नहीं हो रहा?

बंगाल में ममता बनर्जी की जीत के बाद हिंसा का खतरनाक दौर चल रहा है। 16 हत्याओं की बात तो खुद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कर चुकी हैं। लेकिन, अलग-अलग दावे बताते हैं कि यह संख्या इससे कहीं ज्यादा है। मारे गए लोगों में अधिकतर विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (BJP) के कार्यकर्ता बताए जा रहे हैं। केंद्रीय मंत्रियों के काफिलों तक पर हमले हो रहे हैं। पर मुख्यधारा का देशी और विदेशी मीडिया ऐसा लगता है कि चद्दर तान कर सो रहा है। कल्पना कीजिए कि यदि ऐसा योगी के राज में उत्तर प्रदेश में हुआ होता तो अब तक सारे अख़बारों के पहले पन्ने और टीवी चैनलों के बुलेटिन इन्हीं खबरों से भरे होते। वहाँ लोकतंत्र की मौत के मर्सिये पढ़े जा रहे होते। पर बंगाल को लेकर ऐसा क्यों नहीं हो रहा? ये चिंतित करने और चिंतन करने की बात है। 

प्रचंड बहुमत से चुनाव जीतने के बाद अगर जीतने वाली पार्टी विपक्ष के खिलाफ हिंसा करें, तो यह भारतीय प्रजातंत्र के लिए बेहद अफसोसजनक और शर्मनाक है। ममता बनर्जी की तृणमूल कॉन्ग्रेस (TMC) के ऊपर पहले वामपंथी कार्यकर्ताओं के खिलाफ भी हिंसा के आरोप लगते रहे हैं। लेकिन इस बार हिंसा कहीं अधिक क्रूर और कहीं अधिक व्यापक है। बंगाल से जो खबरें और वीडियो आ रहे हैं वे बेहद परेशान कर देने वाले हैं। 

हो सकता है तृणमूल कॉन्ग्रेस के नेतृत्व ने धृतराष्ट्र की तरह अपनी आँखों के साथ कान भी बंद कर लिए हो, पर देश-विदेश का मीडिया और कथित बुद्धिजीवी तो बंगाल में विदुर की भूमिका निभा ही सकते हैं। उनकी कलम और कैमरे को किसने रोका है?

देश के अंदर एक पूरी जमात है जो हिंसा की छोटी सी घटना को बड़ा रंग देती है। मानव अधिकार, मानवता,  सुप्रीम कोर्ट और संविधान- न जाने किस-किस की दुहाई दी जाती है। जब घोषित आतंकवादियों को छुड़ाने के लिए आधी रात में सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा तक खटखटाया जा सकता है तो बंगाल की हिंसा को लेकर ऐसा क्यों नहीं हो रहा?

प्रश्न है कि बंगाल में पिछले दो-तीन दिन के अंदर जो हिंसा हुई है। महिलाओं के साथ कथित बलात्कार और अत्याचार के जो चित्र आ रहे हैं, उन पर इन कथित मानव अधिकार एक्टिविस्ट का दिल अभी तक क्यों नहीं डोला है? क्या भारतीय नागरिकों के मानव अधिकार की व्याख्या या जिंदा रहने का अधिकार उनकी राजनीतिक निष्ठा को देखकर किया जाएगा? इन बुद्धिजीवियों और देश-विदेश के मुख्यधारा के मीडिया की भूमिका पर इसे लेकर भी कई सवाल बनते हैं।

दिल्ली के दंगे हो, अखलाक की हत्या या फिर अन्य ऐसे कई उदाहरण हैं जिनकी खबरों को मीडिया मुख्यधारा का मीडिया सुर्खियाँ बनाता है। इससे देश की अदालतों, जनमानस और दुनिया का ध्यान इस तरफ जाता है। क्या बंगाल की हिंसा को देश और विदेश के अखबारों में वही स्थान मिल रहा है? क्या मुख्यधारा के अखबार/चैनल उसको उसी गंभीरता के साथ उठा रहे हैं जैसा कि अन्य मामलों में करते हैं?

कुछ अखबारों ने इन मामलों को उठाया है तो उसमें इतना किंतु-परंतु लगाया है कि मालूम ही नहीं पड़ता कि वहाँ हो क्या रहा है। बंगाल में चुनाव बाद की राजनीतिक हिंसा की रिपोर्टिंग इतने किंतु/परंतु के साथ कुछ लोग कर रहे हैं जिससे ये हिंसा ही जायज लगती है। आप पूछेंगे तो बताया जाएगा कि ख़बरों में संतुलन लाने के लिए ऐसा किया गया है। तो भाई, आप बाकी घटनाओं के समय ये ‘संतुलन’ क्यों नहीं बिठाते? तब आपकी हेडलाइन और रिपोर्टिंग तक निर्णयात्मक क्यों होती हैं?

देश-विदेश की मीडिया का यह दायित्व बनता है कि वह बिना किसी राजनीतिक और मज़हबी भेदभाव के बंगाल की हिंसा की तस्वीर लोगों के सामने लाए। दंगा करने वालों का पर्दाफाश करे। उनको बेनकाब करे जो इस हिंसा के पीछे हैं और इसके लिए लोगों को उकसा रहे हैं। राजनीतिक दलों की तरह मीडिया राजनीतिक चश्मे से भारतीय नागरिकों के अधिकारों को नहीं देख सकता।

महाभारत में कम से कम कहने के लिए धृतराष्ट्र की तरफ कई लोग थे जो उन्हें समझाने की कोशिश करते थे। परंतु यहां बुद्धिजीवी और मीडिया रूपी विदुर ने भी धृतराष्ट्र की तरह आंखों पर पट्टी बांध ली है और कानों में रुई डाल ली है। भारतेंदु हरिश्चंद्र ने एक नाटक लिखा था।  इस नाटक का शीर्षक था ‘वैदिकी हिंसा हिंसा न भवति’। इस नाटक  में धूर्त पुरोहित, पाखंडी पंडित और लालची मंत्री में राजा से कहते हैं कि जीव हिंसा शास्त्र-सम्मत हैं। परंतु अंत में सिद्ध होता है की हिंसा सही नहीं है । वे सब नरक के भागी बनते हैं।

बंगाल का चुनाव जीतने वाली तृणमूल कांग्रेस राजमद में आंखों में पट्टी बांध सकती है। मगर मीडिया ऐसा नहीं कर सकता। उसे सोचना चाहिए कि बंगाल की हिंसा देश के लोकतंत्र और सौहाद्र के लिए बेहद घातक है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नाइट चार्ज पर भेजो रं$* सा*$ को’: दरगाह परिसर में ‘बेपर्दा’ डांस करना महिलाओं को पड़ा महंगा, कट्टरपंथियों ने दी गाली

यूजर ने मामले में कट्टरपंथियों पर निशाना साधते हुए पूछा है कि ये लोग दरगाह में डांस भी बर्दाश्त नहीं कर सकते और चाहते हैं कि मंदिर में किसिंग सीन हो।

इन 6 तरीकों से उइगर मुस्लिमों का शोषण कर रहा है चीन, वहीं की एक महिला ने सुनाई खौफनाक दास्ताँ

रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन योजनाबद्ध तरीके से उइगर मुसलमानों की संख्‍या सीमित करने में जुटा है और इसका असर अगले 20 वर्षों में साफ देखने को मिलेगा।

शशि थरूर की अध्यक्षता वाली संसदीय स्थायी समिति के सामने पेश हुआ Twitter, खुद अपने ही जाल में फँसा: जानें क्या हुआ

संसदीय समिति ने ट्विटर के अधिकारियों से पूछताछ करते हुए साफ कहा कि देश का कानून सर्वोपरि है ना कि आपकी नीतियाँ।

हिन्दू देवी की मॉर्फ्ड तस्वीर शेयर कर आस्था से खिलवाड़, माफी माँगकर किनारे हुआ पाकिस्तानी ब्रांड: भड़के लोग

एक प्रमुख पाकिस्तानी महिला ब्रांड, जेनरेशन ने अपने कार्यालय में हिंदू देवता की एक विकृत छवि डालकर हिंदू धर्म का मजाक उड़ाया।

केजरीवाल सरकार को 30 जून तक राशन दुकानों पर ePoS मशीन लगाने का केंद्र ने दिया अल्टीमेटम, विफल रहने पर होगी कार्रवाई

ऐसा करने में विफल रहने पर क्या कार्रवाई की जाएगी यह नहीं बताया गया है। दिल्ली को एनएफएसए के तहत लाभार्थियों को बाँटने के लिए हर महीने 36,000 टन चावल और गेहूँ मिलता है।

सपा नेता उम्मेद पहलवान दिल्ली में गिरफ्तार, UP पुलिस ले जाएगी गाजियाबाद: अब्दुल की पिटाई के बाद डाला था भड़काऊ वीडियो

गिरफ्तारी दिल्ली के लोक नारायण अस्पताल के पास हुई है। गिरफ्तारी के बाद उसे गाजियाबाद लाया जाएगा और फिर आगे की पूछताछ होगी।

प्रचलित ख़बरें

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

‘…इस्तमाल नहीं करो तो जंग लग जाता है’ – रात बिताने, साथ सोने से मना करने पर फिल्ममेकर ने नीना गुप्ता को कहा था

ऑटोबायोग्राफी में नीना गुप्ता ने उस घटना का जिक्र भी किया है, जब उन्हें होटल के कमरे में बुलाया और रात बिताने के लिए पूछा।

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘रेप और हत्या करती है भारतीय सेना, भारत ने जबरन कब्जाया कश्मीर’: TISS की थीसिस में आतंकियों को बताया ‘स्वतंत्रता सेनानी’

राजा हरि सिंह को निरंकुश बताते हुए अनन्या कुंडू ने पाकिस्तान की मदद से जम्मू कश्मीर को भारत से अलग करने की कोशिश करने वालों को 'स्वतंत्रता सेनानी' बताया है। इस थीसिस की नजर में भारत की सेना 'Patriarchal' है।

वामपंथी नेता, अभिनेता, पुलिस… कुल 14: साउथ की हिरोइन ने खोल दिए यौन शोषण करने वालों के नाम

मलयालम फिल्मों की एक्ट्रेस रेवती संपत ने एक फेसबुक पोस्ट में 14 लोगों के नाम उजागर कर कहा है कि इन सबने उनका यौन शोषण किया है।

कम उम्र में शादी करो, एक से ज्यादा करो: अभिनेता फिरोज खान ने पैगंबर मोहम्मद का दिया उदाहरण

फिरोज खान ने कहा कि शादी सीखने का एक अनुभव है। इस्लामिक रूप से यह प्रोत्साहित भी करता है, इसलिए बहुविवाह आम प्रथा होनी चाहिए।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,951FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe