Thursday, March 4, 2021
Home विचार ऑपइंडिया के पाठकों के नाम सम्पादक का पत्र: आशा है 2021, 2020 जैसा न...

ऑपइंडिया के पाठकों के नाम सम्पादक का पत्र: आशा है 2021, 2020 जैसा न हो!

एकजुट होइए, सार्थक चीजें पढ़िए, विचारों में लोच रखिए लेकिन वामपंथियों की हर बात को नकारिए। हमें एक साथ आगे बढ़ना है, एक साथ कई सीढ़ियाँ चढ़नी हैं। ऑपइंडिया आपके स्नेह के लिए सदैव आभारी है।

ग्रैगोरियन कैलेंडर के हिसाब से नव वर्ष आ चुका है, शुभकामनाएँ! इस साल की जनवरी का पहला दिन, पिछले साल की जनवरी के पहले दिन की तरह ‘आंदोलन’ शब्द के सामूहिक शीलहरण के साथ हमें मिल रहा है। आम नागरिक इस नौटंकी से उब चुका है, लेकिन विवश है क्योंकि जिन लोगों को इस कैंसर को हटाने के लिए चुना है, वो इसे ले कर वैसे ही उदासीन हैं, जैसे पिछले साल थे।

जज साहब सर्दियों की छुट्टियाँ मना रहे हैं, यहाँ किसान के नाम पर मुफ्त की दारू बाँटने से ले कर डीटीएच और आम लोगों के टैक्स के पैसे का फ्री वाइ-फाइ दिया जा रहा है ताकि उन्हीं आम लोगों का जीवन झंड बना रहे।

ख़ैर, नई शुरुआत आशावान होनी चाहिए। कल से कोरोना वैक्सीन के लिए राज्य सरकारें तैयारी में जुट जाएँगी और इस वैश्विक महामारी से भारत एवम् विश्व को मुक्ति दिलाने की ओर एक और सार्थक कदम उठाया जाएगा। आर्थिक क्षति हुई, लोगों की नौकरियाँ गई, हमारे सोचने-समझने का तरीका बदला, हमारी जीवनशैली बदल गई। यह पूरा साल हमें यह बता गया कि प्रकृति से बलवान कुछ भी नहीं।

कोरोना की लड़ाई में उत्तर प्रदेश विशेष बधाई का पात्र है। चाहे श्रमिकों को ले कर, वामपंथी गैंग की करतूतों को कारण डर का वातावरण तैयार करने के बाद, अराजकता फैलाने की कोशिश हो, या फिर इतनी बड़ी जनसंख्या को लगातार टेस्टिंग के साथ बचाव हेतु तैयार रखना, योगी आदित्यनाथ की सरकार ने सराहनीय कार्य किया है। वरना, हमने केरल के मॉडल पर किताबें भी देखी हैं, जो मई के बाद से मिसमैनेजमेंट का एक मॉडल बन कर सामने आया।

कोरोना के आने से पहले इस देश ने दिल्ली के हिन्दू-विरोधी दंगों को झेला था। कुल 53 लाशें गिरी थीं, जिनमें हिन्दुओं की लाशें सिर्फ बेजान शरीर नहीं थे, बल्कि इस्लामी घृणा की विस्तृत तहरीर थे। किसी को जलती आग में फेंकने से पहले हाथ-पाँव काटा गया, तो किसी को छः-सात लोग मिल कर चार घंटे तक, चाकुओं से गोदते रहे। हमें ऐसी विचारधारा से, इस घृणित हिन्दू-विरोधी सोच से छोटी से छोटी बात पर भी सँभल कर रहना होगा।

पिछले साल ने भारतीय संस्कृति की रक्त, मज्जा और फेफड़ों की वायु में बसे श्री राम भगवान के जन्मस्थान पर भूमिपूजन का भी शुभ उपहार हमें दिया। यह क्षण इतिहास में स्वर्णाक्षरों में लिखा जाएगा और हमें उसी भगवान का आशीर्वाद प्राप्त हुआ है कि हमारा जन्म इस समय में हुआ। यह सिर्फ एक मंदिर नहीं है, बल्कि हिन्दू आकांक्षाओं का, उनकी लगातार तोड़ी जाती रही सभ्यताओं का, उनकी वैचारिक लड़ाई की परिणति का वह प्रतीक है जिसके साकार होने का स्वप्न लिए हमारे माता-पिता, दादा-दादी स्वर्गलोक चले गए। हमारी आँखों से उन्होंने भी इस दैवीय क्षण को देखा है।

ऑपइंडिया के लिए 2021 के मायने

सर्वप्रथम, आभार आप सारे पाठकों का, यूट्यूब के दर्शकों का और स्नेही मित्रों का जिन्होंने अपना समय हमें दिया, धन दे कर हमारा सहयोग किया और इस पोर्टल को नई ऊँचाइयों तक ले गए। यह गौरव की बात है कि ऑपइंडिया हिन्दी के पहले साल पूरे होने के समय से ही, हमने वामपंथी पोर्टलों को लगातार पीछे रखा है। इस दूसरे साल में भी हमें आपका सहयोग अपेक्षा से अधिक मिला, और हमने वामपंथी गैंग के नैरेटिव को लगातार काटा, अपने नैरेटिव बनाए।

पिछले साल में हमारी लड़ाई गूगल, फेसबुक और ट्विटर से लगातार चली। कहीं किसी दुष्ट ने हमारे विज्ञापन हटवाने की कोशिश की, तो कभी फेसबुक ने स्वतः, अकारण ही हमारी रीच घटा कर दस प्रतिशत कर दी। ट्विटर तो खैर वामपंथियों की गोद में खेलने का अभ्यस्त हो चुका है। इसलिए भी, हमारी आवाज को और प्रबल करने का समय आ गया है। अब आपसे अपेक्षित है कि आप हमारे तीसरे साल में हमें इतना आगे बढ़ाएँ कि हमें वामपंथी प्लेटफॉर्म्स की नौटंकियों से प्रभाव न पड़े।

इस साल हमने स्वयं में कुछ सुधार भी किए। हमने दिल्ली के हिन्दू-विरोधी दंगों की ग्राउंड रिपोर्टिंग की थी, जो कि बाद में दिल्ली पुलिस और गृह मंत्रालय के लिए एक गंभीर दस्तावेज के रूप में सामने आया। ऑपइंडिया को अपनी टीम पर गर्व है जिन्होंने दंगों के थमते ही लगातार वीडियो और टेक्स्ट के माध्यम से वामपंथियों के ‘विक्टिमहुड’ वाले नैरेटिव को काटने का काम किया।

फरवरी में दंगों की ग्राउंड रिपोर्टिंग के बाद अक्टूबर-नवम्बर में हमने बिहार चुनाव के दौरान एक महीने, अलग-अलग विधानसभा क्षेत्रों से ग्राउंड रिपोर्ट्स किए। साथ ही, ऑपइंडिया को छोड़ कर किसी भी बड़े या छोटे संस्थान ने चुनावों के परिणाम का सही आकलन नहीं किया। हम एक छोटी संस्था होते हुए भी बिलकुल सही अनुमान लगाते हुए, सारे एग्जिट पोल्स की पोल खोल गए।

नए वर्ष में हमारी योजना है कि लम्बे आलेख, ज्यादा ग्राउंड रिपोर्ट्स, विषयों में विविधता, वीडियो में बेहतर तकनीकी गुणवत्ता लाई जाए। वीडियो को ले कर हमारी योजना पिछले साल के अप्रैल की ही थी, लेकिन कोरोना के कारण शूटिंग, स्क्रिप्टिंग, लाइटिंग, एडिटिंग, अपलोडिंग आदि सारे काम मुझे स्वयं ही करने होते हैं। जबकि ये कार्य सामान्यतया तीन लोगों का है। लेकिन, हम सब एक विचित्र समय में हैं, और हमें उसी में से बेहतर विकल्प तलाशने हैं।

एक-दो बातें हैं जो पाठकों के तौर पर आपसे माँगना चाहता हूँ। पहली माँग यह है कि एकजुट होने पर ध्यान दीजिए, और अपने बीच के लोगों को माफ करना सीखिए। हम कई बार छोटी बातों पर, अपनी आशाओं का भार लाद कर, सामने वाले से ऐसी उम्मीद करने लगते हैं कि वो हमारी ही तरह व्यवहार करे। यह सर्वथा अनुचित है। हर व्यक्ति की हर बात आपको सही नहीं लग सकती, लगनी भी नहीं चाहिए, इसलिए उसे ट्रोल करने, अपशब्द कहने से पहले एक बार पूछिए स्वयं से कि यह कहाँ तक उचित है।

जहाँ थोड़ी देर के लिए मुँह फेरने, आँख बंद करने से आपका काम बन रहा है, वहाँ माफ कीजिए और आगे चलिए। अगर आप ऐसा नहीं करेंगे तो वामपंथी लम्पट इसका फायदा उठाएँगे और आपको तोड़ेंगे। दूसरी बात यह है कि हमें अपने तरह के विचार के लोगों को प्रत्यक्ष सहयोग देना होगा। हम इस भरोसे नहीं बैठ सकते कि कोई और यह कार्य करेगा। आपसे सहयोग का तात्पर्य, आपका पाठकधर्म है। आप हमें, हमारे जैसे लोगों को पढ़िए, शेयर कीजिए, आगे ले जाइए।

वस्तुतः, हम एक संवेदनशील समय में हैं। ऑपइंडिया सिर्फ पत्रकारिता नहीं है, यह एक मुहिम है जो सनातन आस्था की प्रतिरक्षा के लिए है। यह सिर्फ रिपोर्टिंग का काम नहीं है, बल्कि वामपंथियों के कैंसरकारी नैरेटिव को काटने के लिए अपना नैरेटिव बनाने का काम है। यह पत्रकारिता से आगे वैचारिक युद्ध का उद्घोष है, जिसके भागीदार हम सब हैं। हमें अपने पात्रों को समुचित रूप से निभाना होगा, वरना जहरीले कुकुरमुत्तों की तरह वामपंथी गिरोह हावी हो जाएगा और भारत को बर्बाद कर देगा।

एकजुट होइए, सार्थक चीजें पढ़िए, विचारों में लोच रखिए लेकिन वामपंथियों की हर बात को नकारिए। हमें एक साथ आगे बढ़ना है, एक साथ कई सीढ़ियाँ चढ़नी हैं। ऑपइंडिया आपके स्नेह के लिए सदैव आभारी है।

ऑपइंडिया परिवार की तरफ से आपके अच्छे स्वास्थ्य, आपकी समृद्धि, आपके परिवार की उन्नति और राष्ट्र को नई ऊँचाइयों तक ले जाने की कामना के साथ, इस नव वर्ष की बधाई!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

4 शहर-28 ठिकाने, ₹300 करोड़ का हिसाब नहीं: अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू सहित अन्य पर रेड में टैक्स चोरी के बड़े सबूत

आयकर विभाग की छापेमारी लगातार दूसरे दिन भी जारी रही। बड़े पैमाने पर कर चोरी के सबूत मिलने की बात सामने आ रही है।

किसान आंदोलन राजनीतिक, PM मोदी को हराना मकसद: ‘आन्दोलनजीवी’ योगेंद्र यादव ने कबूली सच्चाई

वे केवल बीजेपी को हराना चाहते हैं और उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं है कि कौन जीतता है। यहाँ तक कि अब्बास सिद्दीकी के बंगाल जीतने पर भी वे खुश हैं। उनका दावा है कि जब तक मोदी और भाजपा को अनिवार्य रूप से सत्ता से बाहर रखा जाता है। तब तक ही सही मायने में लोकतंत्र है।

70 नहीं, अब 107 एकड़ में होंगे रामलला विराजमान: 7285 वर्ग फुट जमीन और खरीदी गई

अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण अब 70 एकड़ की जगह 107 में एकड़ में किया जाएगा। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने परिसर के आसपास की 7,285 वर्ग फुट ज़मीन खरीदी है।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।

100 मदरसे-50 हजार छात्र, गीता-रामायण की करनी ही होगी पढ़ाई: मीडिया के दावों की हकीकत

मीडिया रिपोर्टों में दावा किया जा रहा है कि मदरसों में गीता और रामायण की पढ़ाई को लेकर सरकार दबाव बना रही है।

प्रचलित ख़बरें

BBC के शो में PM नरेंद्र मोदी को माँ की गंदी गाली, अश्लील भाषा का प्रयोग: किसान आंदोलन पर हो रहा था ‘Big Debate’

दिल्ली में चल रहे 'किसान आंदोलन' को लेकर 'BBC एशियन नेटवर्क' के शो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी (माँ की गाली) की गई।

पुलिसकर्मियों ने गर्ल्स हॉस्टल की महिलाओं को नंगा कर नचवाया, वीडियो सामने आने पर जाँच शुरू: महाराष्ट्र विधानसभा में गूँजा मामला

लड़कियों ने बताया कि हॉस्टल कर्मचारियों की मदद से पूछताछ के बहाने कुछ पुलिसकर्मियों और बाहरी लोगों को हॉस्टल में एंट्री दे दी जाती थी।

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

‘हाथ पकड़ 20 मिनट तक आँखें बंद किए बैठे रहे, किस भी किया’: पूर्व DGP के खिलाफ महिला IPS अधिकारी ने दर्ज कराई FIR

कुछ दिनों बाद उनके ससुर के पास फोन कॉल कर दास ने कॉम्प्रोमाइज करने को कहा और दावा किया कि वो पीड़िता के पाँव पर गिरने को भी तैयार हैं।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,284FansLike
81,900FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe