Saturday, August 8, 2020
Home बड़ी ख़बर लालू परिवार में संकट के पीछे का गणित: तेज प्रताप के बग़ावत से अधर...

लालू परिवार में संकट के पीछे का गणित: तेज प्रताप के बग़ावत से अधर में महागठबंधन

मुस्लिम-यादव समीकरण की बात करने वाले लालू के सभी क़रीबी सवर्ण थे। पार्टी में दो गुट होते ही इन नेताओं की कमी खल रही है। आज तेज प्रताप का अगला क़दम क्या होगा, बताना मुश्किल है।

चुनाव के मौसम में यूँ तो पूरे भारत का राजनीतिक माहौल गर्म रहता है लेकिन बिहार की आबोहवा को क़रीब से देखने वाले लोग जानते हैं कि जैसी हलचल, सरगर्मी और उठापटक यहाँ होती है, वैसी कहीं भी नहीं। भले ही राजनीतिक रूप से देश का सबसे बड़ा राज्य उत्तर प्रदेश हो लेकिन बिहार की राजनीतिक स्थितियों में कब और क्या बदलाव आ जाए, इसका पता लगाना मुश्किल है। अब लालू परिवार को ही लीजिए। एक समय बिहार की राजनीति के एकमात्र सिरमौर रहे लालू प्रसाद यादव आज अपने ही कुनबे को बचाने में नाकाम साबित हो रहे हैं। यादव परिवार में फूट पड़ चुकी है। तेजस्वी-तेज प्रताप एक दूसरे के आमने-सामने खड़े नज़र आ रहे हैं। महागठबंधन की प्रतिष्ठा दाँव पर है। इसे समझने के लिए ताजा घटनाक्रम के कुछ पहलुओं को देखना पड़ेगा।

बात दरभंगा से शुरू करते हैं। दरभंगा में भाजपा के बागी नेता कीर्ति झा आजाद कॉन्ग्रेस में शामिल हो गए थे। जिस तरह से सभी विपक्षी दल एकता दिखाने की जुगत में लगे हुए थे, उन्हें शायद इस बात का अंदाजा भी न हो कि एक दिन ऐसा आएगा जब उनकी ही टिकट कट जाएगी। 2014 आम चुनाव में दरभंगा से 3 लाख मत पाकर सांसद बनने वाले कीर्ति झा का टिकट कट जाना इस बात की ओर इशारा करता है कि राजद को इस बात की भनक है कि भाजपा से लड़ने वाले अधिकतर नेताओं को मोदी लहर का अच्छा साथ मिलता है। पूर्व नेता प्रतिपक्ष अब्दुलबारी सिद्दकी को दरभंगा से टिकट दिया गया है। 2014 में दूसरे नंबर पर रहे अली अशरफ फातमी और कीर्ति झा के बीच क़रीब 35 हज़ार मतों का ही अंतर था। ऐसे में, सिद्दकी को टिकट मिलने से वे बिफर गए।

अब दरभंगा से सीधा तेजस्वी-तेज प्रताप के मतभेदों की तरफ बढ़ते हैं। अब्दुलबारी सिद्दकी को तेजस्वी यादव का क़रीबी माना जाता है। पहली मनमोहन सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे अली अशरफ फातमी को लालू यादव का क़रीबी माना जाता था। यह दिखाता है कि टिकट बँटवारे में तेजस्वी की सलाह पर जेल से लालू यादव ही सारे निर्णय ले रहे हैं। इस बारे में हमने एक ख़बर भी प्रकाशित की थी। 2 वर्ष पहले अब्दुलबारी सिद्दीकी सार्वजनिक रूप से कह चुके हैं कि तेजस्वी यादव में लालू यादव के सारे गुण-लक्षण दिखते हैं (भले ही ऐसा न हो)। हर पार्टी में बड़े नेताओं व सुप्रीम परिवार (राजद, सपा, डीएमके) के सदस्यों की कामना रहती है कि उनके क़रीबी लोगों को ज्यादा से ज्यादा टिकट मिले ताकि बाद में किसी भी प्रकार के संकट या विवाद की स्थिति में उनकी कृपा से जीते जनप्रतिनिधि उनके खेमे की तरफ से आवाज़ उठाएँ। मुखिया की अनुपस्थिति में राजद अभी इसी दौर से गुज़र रहा है।

तेजस्वी यादव के उपर्युक्त ट्वीट को देखिए। इसमें उनका तेवर साफ़ झलक रहा है। जहानाबाद से अपने क़रीबी चंद्र प्रकाश यादव को टिकट दिलाने की जुगत में लगे तेज प्रताप को पार्टी से निराशा हाथ लगी और तेजस्वी ने सुरेंद्र यादव के नाम पर मुहर लगा दी। इस बात से बौखलाए तेज प्रताप ने समर्थकों से नामांकन दाखिल का आदेश देकर एक तरह से बगावत का ही ऐलान कर दिया। इसी तरह शिवहर से भी वह अंगेश यादव को टिकट देना चाहते थे लेकिन वहाँ भी उन्हें निराशा ही हाथ लगी। गुरुवार (मार्च 28, 2019) को तेजस्वी यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का ऐलान किया था लेकिन ऐन वक़्त पर पार्टी के बड़े नेताओं को इसकी भनक लग गई और उन्होंने तेज प्रताप को किसी तरह मनाया।

दरअसल, लालू यादव के समय उसके आसपास रघुनाथ झा, रघुवंश प्रसाद यादव, अखिलेश सिंह और सीताराम सिंह जैसे वरिष्ठ और अनुभवी नेता संकटमोचक के रूप में हुआ करते थे, जो पार्टी में किसी भी तरह की स्थिति को संभालने की ताक़त रखते थे। अखिलेश आज राज्य में कॉन्ग्रेस प्रचार समीति के अध्यक्ष हैं, रघुनाथ झा और सीताराम सिंह का निधन हो गया और रघुवंश आज के दौर में उतने सक्रिय नहीं हैं। एक और बात गौर करने वाली है कि मुस्लिम-यादव समीकरण की बात करने वाले लालू के ये सभी क़रीबी सवर्ण थे। आज पार्टी में दो गुट होने के साथ ही उन्हें ऐसे नेताओं की कमी भी खल रही है जो स्थिति को नियंत्रित कर सकें। आज तेज प्रताप का अगला क़दम क्या होगा, बताना मुश्किल है।

बिहार की राजनीति को देखें तो में लालू के आस-पास के नेताओं और खुद लालू यादव की रणनीतिक क्षमता तो थी ही। आज भ्रष्टाचार के मामलों में जेल की सज़ा भुगत रहे लालू अपना ही क़िला बचाने में नाकाम साबित हो रहे हैं। हालाँकि, इसकी भनक तभी लग गई थी जब तेज प्रताप यादव ने अपनी पत्नी से तलाक़ लेने की बात कही थी और पूरा लालू परिवार उन्हें मनाने में नाकाम साबित हुआ था। अपने घर से दूर निकल चुके तेज प्रताप को मनाने में उनकी माँ राबड़ी देवी भी नाकाम साबित हुई थीं। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे पर भी तेज प्रताप निशाना साध चुके हैं। उनका आरोप था कि पूर्वे उनके लोगों की अनदेखी कर रहे हैं। तेज प्रताप ने यह भी कहा कि जहानाबाद को लेकर तेजस्वी से उनकी बात नहीं हुई है। यह दिखाता है कि लालू परिवार में कम्युनिकेशन गैप भी हद से ज्यादा बढ़ चुका है।

इन सबके अलावा तेज प्रताप यादव अपने ससुर चन्द्रिका यादव को सिवान से टिकट देने के पक्ष में नहीं थे लेकिन इस मामले में भी पार्टी में उनके राय की अनदेखी की गई। चन्द्रिका ने नामांकन दाखिल करने के बाद तेजस्वी में प्रधानमंत्री बनने की क्षमता होने की बात कह अपने दामाद तेज प्रताप को नाराज़ कर दिया। हालाँकि, उन्होंने दावा किया कि तेज प्रताप उनके लिए प्रचार करेंगे लेकिन फिलहाल इसके आसार बहुत कम ही नज़र आ रहे हैं। अब देखना यह है कि शिवहर, जहानाबाद, दरभंगा और सारण में उम्मीदवार चयन से नाराज़ तेज प्रताप आगे क्या करते हैं? चर्चा है कि राजद सुप्रीमो लालू यादव ख़ुद मामले को सुलझाने के लिए पहल करने वाले हैं क्योंकि बिना उनके हस्तक्षेप के परिवार में शायद ही सब कुछ ठीक हो। हाँ, महागठबंधन में इसका नकारात्मक असर पड़ना तय है। तेजस्वी के प्रेस कॉन्फ्रेंस में कॉन्ग्रेस और कुशवाहा की अनुपस्थिति ने इस बात को बल दे दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रिया के आने के बाद बदल गए थे सुशांत भैया, कुत्ते के बेल्ट से गला घोंटा गया होगा: पूर्व कर्मचारी का दावा- यह मर्डर...

सुशांत सिंह राजपूत के पालतू कुत्ते का नाम था फज। उनके पूर्व सहयोगी का दावा है कि फज की बेल्ट से उनका गला घोंटा गया, जिससे मौत हुई।

‘मथुरा-काशी बाकी है’: 1947 का वो यज्ञ जब 3 दोस्तों ने खींचा हिंदुओं के 3 पवित्र स्थल को वापस पाने का खाका

यह तो पहली झाँकी है, मथुरा-काशी बाकी है। ये नारा तो बहुत बाद में बुलंद हुआ। उससे बरसों पहले तीन दोस्तों ने अयोध्या के साथ-साथ इन दो हिंदू पवित्र स्थलों को वापस पाने का एक विस्तृत खाका तैयार कर लिया था।

जैसे-जैसे खुल रही परतें, रिया चकवर्ती पर कसता जा रहा शिकंजा: सुशांत की मौत में गर्लफ्रेंड के ‘विलेन’ बनने की पूरी कहानी

14 जून को सुशांत घर में लटके मिले थे। शुरू में सुसाइड लग रहा मामला आगे बढ़ा और संदेह के दायरे में आई रिया चकवर्ती। क्या हुए हैं खुलासे? पढ़िए, सब कुछ।

अब पंजाब कॉन्ग्रेस की गुटबाजी आई सामने, सांसदों ने कहा- पार्टी को बचाना है तो CM अमरिंदर को हटाओ

मध्य प्रदेश, राजस्थान, झारखंड के बाद अब पंजाब कॉन्ग्रेस का मतभेद भी खुलकर सामने आ गया है। सीएम अमरिंदर के ख़िलाफ पार्टी नेताओं ने घेराबंदी शुरू कर दी है।

‘घुस के मारो सालों को’: बंगाल में मुस्लिम भीड़ ने राम की पूजा कर रहे हिंदुओं को बनाया निशाना, देखें Video

राम मंदिर भूमिपूजन के मौके पर बंगाल में कई जगहों पर पूजा आयोजित की गई थी। इन्हें मुस्लिम भीड़ ने चुन-चुनकर निशाना बनाया।

बच्चों का इस्तेमाल कैसे कर सकते, वे कैसी संस्कृति सीखेंगे: अधनंगे बदन पर पेंटिंग करवाने वाली रेहाना फातिमा से SC

केरल की रेहाना फातिमा को सुप्रीम कोर्ट ने अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया है। मामला अर्ध नग्न शरीर पर बच्चों से पेटिंग करवाते हुए एक वीडियो जारी करने से जुड़ा है।

प्रचलित ख़बरें

कॉल रिकॉर्ड से खुली रिया चकवर्ती की कुंडली: मुंबई के DCP के संपर्क में थी, महेश भट्ट का भी नाम

रिया चक्रवर्ती की कॉल डिटेल से पता चला है कि वह मुंबई पुलिस के एक टॉप अधिकारी के संपर्क में थी।

असम: राम मंदिर का जश्न मना रहे बजरंगदल कार्यकर्ताओं से मुस्लिमों ने की हिंसक झड़प, 25 को बनाया बंधक, कर्फ्यू

झड़प के दौरान पाकिस्तान के समर्थन में भी नारे लगे गए और मुस्लिम युवकों ने बजरंगदल के करीब 25 कार्यकर्ताओं को बंधक भी बना दिया।

‘घुस के मारो सालों को’: बंगाल में मुस्लिम भीड़ ने राम की पूजा कर रहे हिंदुओं को बनाया निशाना, देखें Video

राम मंदिर भूमिपूजन के मौके पर बंगाल में कई जगहों पर पूजा आयोजित की गई थी। इन्हें मुस्लिम भीड़ ने चुन-चुनकर निशाना बनाया।

जैसे-जैसे खुल रही परतें, रिया चकवर्ती पर कसता जा रहा शिकंजा: सुशांत की मौत में गर्लफ्रेंड के ‘विलेन’ बनने की पूरी कहानी

14 जून को सुशांत घर में लटके मिले थे। शुरू में सुसाइड लग रहा मामला आगे बढ़ा और संदेह के दायरे में आई रिया चकवर्ती। क्या हुए हैं खुलासे? पढ़िए, सब कुछ।

‘राम मंदिर बन गया, कपिल सिब्बल कब करेंगे आत्महत्या’: रामलला के वकील रहे के पराशरण नहीं हैं ट्विटर पर

पराशरण रामलला विराजमान के वकील थे। पिछले कुछ दिनों से उनके नाम का एक ट्विटर अकाउंट सक्रिय है। जानिए क्या है इस अकाउंट की हकीकत।

मरते हुए सड़क पर रक्त से लिखा सीताराम, मरने के बाद भी खोपड़ी में मारी गई 7 गोलियाँ… वो एक रामभक्त था

वो गोली लगते ही गिरे और अपने खून से लिखा "सीताराम"। शायद भगवान का स्मरण या अपना नाम! CRPF वाले ने 7 गोलियाँ और मार कर...

मस्जिद में कुरान पढ़ती बच्ची से रेप का Video आया सामने, मौलवी फरार: पाकिस्तान के सिंध प्रांत की घटना

पाकिस्तान के सिंध प्रान्त स्थित कंदियारो की एक मस्जिद में बच्ची से रेप का मामला सामने आया है। आरोपित मौलवी अब्बास फरार बताया जा रहा है।

‘जाँच केवल सबूतों पर आधारित’: दिल्ली पुलिस ने दंगों पर TOI के दावों का किया खंडन

दिल्ली पुलिस ने दंगों की जॉंच से को लेकर TOI के एक संपादकीय पर आपत्ति जताई है। कहा है कि जॉंच सबूतों और दस्तावेजों पर की जा रही है।

केरल विमान हादसा: अब तक 18 के मरने की पुष्टि, IAF के विंग कमांडर रह चुके थे पायलट डीवी साठे

कैप्टन डीवी साठे इंडियन एयरफोर्स में विंग कमांडर रह चुके थे। एयर इंडिया में शामिल होने से वह पहले वायुसेना में एक प्रायोगिक परीक्षण पायलट थे।

रिया के आने के बाद बदल गए थे सुशांत भैया, कुत्ते के बेल्ट से गला घोंटा गया होगा: पूर्व कर्मचारी का दावा- यह मर्डर...

सुशांत सिंह राजपूत के पालतू कुत्ते का नाम था फज। उनके पूर्व सहयोगी का दावा है कि फज की बेल्ट से उनका गला घोंटा गया, जिससे मौत हुई।

‘मथुरा-काशी बाकी है’: 1947 का वो यज्ञ जब 3 दोस्तों ने खींचा हिंदुओं के 3 पवित्र स्थल को वापस पाने का खाका

यह तो पहली झाँकी है, मथुरा-काशी बाकी है। ये नारा तो बहुत बाद में बुलंद हुआ। उससे बरसों पहले तीन दोस्तों ने अयोध्या के साथ-साथ इन दो हिंदू पवित्र स्थलों को वापस पाने का एक विस्तृत खाका तैयार कर लिया था।

जैसे-जैसे खुल रही परतें, रिया चकवर्ती पर कसता जा रहा शिकंजा: सुशांत की मौत में गर्लफ्रेंड के ‘विलेन’ बनने की पूरी कहानी

14 जून को सुशांत घर में लटके मिले थे। शुरू में सुसाइड लग रहा मामला आगे बढ़ा और संदेह के दायरे में आई रिया चकवर्ती। क्या हुए हैं खुलासे? पढ़िए, सब कुछ।

अब पंजाब कॉन्ग्रेस की गुटबाजी आई सामने, सांसदों ने कहा- पार्टी को बचाना है तो CM अमरिंदर को हटाओ

मध्य प्रदेश, राजस्थान, झारखंड के बाद अब पंजाब कॉन्ग्रेस का मतभेद भी खुलकर सामने आ गया है। सीएम अमरिंदर के ख़िलाफ पार्टी नेताओं ने घेराबंदी शुरू कर दी है।

केरल में विमान के दो टुकड़े: खाई में गिरा दुबई से आया विमान, 191 लोग थे सवार

रिपोर्ट्स के अनुसार रनवे पर पानी जमा होने के कारण लैंडिंग के वक्त दुर्घटना हुई। जलभराव की वजह से प्लेन रनवे से आगे निकल गया।

सुशांत सिंह के अकाउंट से रिया चकवर्ती के भाई के खाते में ट्रांसफर हुआ था पैसा: बैंक स्टेटमेंट के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में...

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में एक नया खुलासा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार सुशांत के बैंक अकाउंट से रिया चकवर्ती के भाई के खाते में पैसे ट्रांसफर किए गए थे।

रैपर बादशाह से मुंबई पुलिस ने पूछे 238 सवाल, 175 सितारों ने पैसे देकर बनाए फेक फॉलोवर्स: 50 कंपनी फर्जीवाड़े में शामिल

फर्जी फॉलोवर्स घोटाले में शुक्रवार को मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने रैपर बादशाह से पूछताछ की। उनसे करीब 238 सवाल ​किए गए।

हमसे जुड़ें

244,817FansLike
64,450FollowersFollow
293,000SubscribersSubscribe
Advertisements