Thursday, April 2, 2020
होम विचार राजनैतिक मुद्दे 'मुसलमानों में भारतीयता का बहुत अभाव, वो इसका महत्व नहीं समझते' - शहीद दिवस...

‘मुसलमानों में भारतीयता का बहुत अभाव, वो इसका महत्व नहीं समझते’ – शहीद दिवस पर भगत सिंह का ‘कम चर्चा’ वाला वो लेख

"विश्व-प्रेमी वह नायक है, जिसे हम एक उग्र विद्रोही, कट्टर अराजकतावादी- वीर सावरकर कहने में जरा भी संकोच नहीं करते। वीर सावरकर के बारे में उपरोक्त उद्धरण शहीद सरदार भगत सिंह का है।

ये भी पढ़ें

Editorial Deskhttp://www.opindia.com
Editorial team of OpIndia.com

स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह और वीर सावरकर ने कई अवसरों पर एक-दूसरे के कार्यों का उल्लेख किया है और उपनिवेशवादी ताकतों के अत्याचार के खिलाफ एक-दूसरे को बाहर निकालने तथा एक-दूसरे की लड़ाई का समर्थन करने के बारे में भी लिखा है। उनके अपने कार्य इस बात के प्रमाण हैं।

“विश्व-प्रेमी वह नायक है, जिसे हम एक उग्र विद्रोही, कट्टर अराजकतावादी- वीर सावरकर कहने में जरा भी संकोच नहीं करते। विश्व-प्रेम की लहर में आकर, वह यह सोचकर घास पर चलना बंद कर देता है कि नरम घास पैरों के नीचे मसल दिया जाता है।”

सावरकर के बारे में उपरोक्त उद्धरण शहीद सरदार भगत सिंह का है। भगत सिंह का ‘विश्व प्रेम’ शीर्षक लेख 15 और 22 नवंबर, 1926 को “मतवाला” के अंक में दो बार प्रकाशित हो चुका है। यह उद्धरण उसी लेख का एक अंश है। “हमारा अंतिम लक्ष्य सार्वभौमिक भाईचारा है। राष्ट्रवाद केवल वहाँ पहुँचने के लिए एक कदम है।” सावरकर ने कई बार कहा है। इस लेख में कहा गया है कि यह न केवल भगत को पता था, बल्कि स्वीकार्य भी था। सावरकर के आंतरिक रूप से कठोर लेकिन बेहद कोमल हृदय का ऐसा वर्णन शायद ही कहीं और देखा हो।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

खास बात यह है कि सावरकर उन दिनों राजनीति में भाग नहीं लेने की शर्त पर रत्नागिरी में नजरबंंद थे। भगत सिंह ने इस शर्त को स्वीकार करने के सावरकर के फैसले पर आलोचना का एक शब्द भी नहीं लिखा है। हम कह सकते हैं कि इन दोनों क्रांतिकारियों ने एक-दूसरे के दिल और दिमाग को अच्छी तरह से समझा।

फिर मार्च 1926 में कीर्ति में मदनलाल ढींगरा और सावरकर के बारे में लिखते हुए भगत सिंह कहते हैं, “स्वदेशी आंदोलन का प्रभाव इंग्लैंड तक भी पहुँच गया और सावरकर ने ‘इंडियन हाउस’ नाम से एक घर खोला। मदनलाल भी इसके सदस्य बन गए। एक दिन सावरकर और मदनलाल ढींगरा लंबे समय से बात कर रहे थे। अपने प्राण त्यागने की हिम्मत की परीक्षा में, सावरकर ने मदनलाल को ज़मीन पर हाथ रखने के लिए कहकर एक बड़ी सुई से हाथ को छेद दिया, लेकिन पंजाबी वीर ने आह भी नहीं भरा। दोनों की आँखों में आँसू भर आए। दोनों ने एक-दूसरे को गले लगाया। आउच, वह कितना सुंदर समय था। कितना अमूल्य और अमिट अश्रु था। इतना शानदार। हमें उस भावना के बारे में पता होना चाहिए कि कायर लोग जो मृत्यु के विचार से ही डर जाते हैं। लेकिन दूसरे वे लोग कितने ऊँचे, कितने पवित्र और कितने पूज्य हैं, जो राष्ट्र की खातिर मरते हैं।”

अगले दिन से, ढींगरा भारतीय सदन भवन में नहीं गए और सर कर्जन विली द्वारा आयोजित भारतीय छात्रों की बैठक में भाग लिया। यह देखकर भारतीय लड़के बहुत उत्तेजित हो गए और उन्हें देशद्रोही, यहाँ तक कि गद्दार कहना शुरू कर दिया, लेकिन सावरकर ने उनका गुस्सा यह कहते हुए शांत कर दिया कि आखिरकार उन्होंने हमारे घर को चलाने के लिए अपना सिर भी तोड़ने की कोशिश की थी और उसकी मेहनत के कारण हमारा आंदोलन चल रहा है। इसलिए हमें उसका धन्यवाद करना चाहिए। खैर, कुछ दिन चुपचाप बीत गए।

1 जुलाई, 1909 को इंपीरियल इंस्टीट्यूट के जहाँगीर हॉल में एक बैठक हुई। सर कर्जन विली भी वहाँ गया। वह दो अन्य लोगों से बात कर रहा था कि ढींगरा ने अचानक पिस्तौल निकाली। उसे हमेशा के लिए सुलाने के लिए तान दिया। फिर कुछ संघर्ष के बाद ढींगरा को पकड़ा गया। उसके बाद क्या कहना, दुनिया भर में रोष था। सभी ने ढींगरा को पूरे दिल से गाली देना शुरू कर दिया।

उनके पिता ने पंजाब से एक तार भेजा और कहा कि मैं अपने बेटे को इस तरह के विद्रोही और हत्यारे आदमी के पूर में स्वीकार करने से इनकार करता हूँ। भारतीयों ने बड़ी बैठकें कीं। बड़े भाषण थे। बड़े प्रस्ताव आए। सब निंदा में। लेकिन उस समय भी सावरकर ही ऐसे नायक थे, जिन्होंने उनका खुलकर समर्थन किया। सबसे पहले, उन्होंने उनके खिलाफ प्रस्ताव पास न होने देने के लिए एक बहाना पेश किया कि वह अभी भी मुकदमे में हैं और हम उन्हें दोषी नहीं कह सकते। अंत में जब इस प्रस्ताव पर वोट डाला गया तो सदन के अध्यक्ष बिपिन चंद्र पॉल कह रहे थे कि अगर इसे सर्वसम्मति से सभी द्वारा पारित माना जाता है, तो सावरकर ने खड़े होकर व्याख्यान देना शुरू कर दिया। तभी एक अंग्रेज ने उनके मुँह पर घूँसा मारते हुए कहा, “देखो अंग्रेजी घूँसा कितना सीधा लगता है।” पीछे से एक हिंदुस्तानी युवक ने अंग्रेज के सिर पर डंडा मार दिया और कहा, “देखो भारतीय डंडा कितना सीधा चलता है।” वहाँ शोरगुल था। बैठक बीच में ही छोड़ दिया गया था। प्रस्ताव पास नहीं हुआ।

1926 में भगत सिंह ने पंजाबी हिंदी साहित्य सम्मेलन के लिए एक लेख लिखा। वह कहते हैं, “मुसलमानों में भारतीयता का बहुत अभाव है। इसलिए वे सभी भारतीयता के महत्व को नहीं समझते हैं और अरबी एवं फारसी लिपि को पसंद करते हैं। पूरे भारत की एक भाषा होनी चाहिए और वह भी हिंदी। जिसे वे कभी नहीं समझते हैं, इसलिए वे अपनी उर्दू की प्रशंसा करते रहते हैं और एक तरफ बैठते हैं।” आगे उसी लेख में भगत सिंह कहते हैं, “हम चाहते हैं कि मुस्लिम भाई भी अपनी आस्था का पालन करें, लेकिन भारतीय भी उसी तरह से बनें जैसे कमाल तुर्क। हाँ, यही केवल भारत को बचाएगा। हमें भाषा आदि के प्रश्नों को एक बहुत बड़े दृष्टिकोण के साथ देखना चाहिए, न कि इसे मार्मिक (धार्मिक) समस्याएँ बनाकर।”

भगत सिंह द्वारा प्रस्तुत ये विचार न केवल सावरकर के विचारों के अनुरुप हैं, बल्कि गुरुजी के ‘विचारों का गुच्छा’ के अनुसार भी है। यह साबित हुआ कि भगत सिंह ने सावरकर की पुस्तक “1857- स्वतंत्रता का युद्ध” का अंग्रेजी अनुवाद प्रकाशित किया और इसे क्रांतिकारियों के बीच प्रचारित किया गया। कुछ लेखकों ने दावा किया है कि सावरकर और भगत सिंह की मुलाकात रत्नागिरी में हुई थी, लेकिन इसकी कोई निर्विवाद पुष्टि नहीं हुई।

गाँधीजी के अनुयायी वाईडी फड़के के अनुसार, भगत सिंह ने सावरकर की ‘1857’ से प्रेरणा ली, लेकिन सावरकर की ‘हिंदुपदपादशाही’ को अनदेखा कर दिया। लेकिन अब यह भी पता चला है कि भगत सिंह ने भी हिंदुपदपादशाही से प्रेरणा ली थी। वह अपनी जेल डायरी में कई लेखकों के उद्धरणों को नोट करते हैं। इसमें केवल सात भारतीय लेखक शामिल हैं, लेकिन उनमें से केवल एक सावरकर हैं, जिनकी भगत सिंह ने अपनी डायरी में एक से अधिक उद्धरण शामिल किए हैं और सभी 6 के 6 उद्धरण एक ही किताब हिंदुपदपादशाही से है। जो कि इस प्रकार हैं-

  1. बलिदान केवल आराध्य था, जब यह सीधे या दूर से था, लेकिन यथोचित रुप से सफलता के लिए अपरिहार्य लगा। बलिदान जो अंतत: सफलता की ओर नहीं ले जाता है, वह आत्मघाती है और इशलिए मराठा युद्ध की रणनीति में कोई स्थान नहीं था। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 256)
  2. मराठों से लड़ना हवा से लड़ने जैसा है, पानी पर वार करना है। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 258)
  3. जो हमारी उम्र की निराशा बनी हुई है, जिसे इतिहास को बिना लिखे, वीरता पूर्ण कार्य करने की क्षमता और अवसरों के बिना उन्हें जीवन में वास्तविक रुप देने के लिए गाना है। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 245)
  4. राजनीतिक दासता को किसी समय आसानी से उखाड़ फेंका जा सकता है लेकिन सांस्कृतिक वर्चस्व की बेड़ियों को तोड़ना मुश्किल है। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 242-43)
  5. कोई स्वतंत्रता नहीं! जिनकी मुस्कान से हम सभी इस्तीफा नहीं देंगे। जाओ हमारे आक्रमणकारियों, Danes को बताएँ, यह आपके मंदिर में एक उम्र के रक्त के लिए मीठा है। सोने से पहले लेकिन जंजीरों में एक मिनट। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 219)
  6. बदले की आग में मर जाओ, यह उस समय हिंदुओं के बीच प्रचलित कॉल था। लेकिन रामदास उठकर खड़ा हो गया। नहींं, इस प्रकार नहीं। रुपांतरित होने के बजाय मारा जाना काफी अच्छा है, लेकिन उससे बेहतर है कि न तो मारे जाएँ और न ही हिंसक रुपांतरित हों। बल्कि हिंसक ताकतों को मारें और धार्मिकता के कारण पर विजय प्राप्त करने के लिए मारते हुए मारे जाएँ। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 1141-62)

भगत सिंह द्वारा प्रस्तुत समाजवादी हिंदुस्तान के विज्ञान आधारित राष्ट्र का चित्रण सावरकर के विज्ञान आधारित हिंदुस्तान के करीब है। नेहरू के प्रतिपादन का उनका समर्थन कि वे कुरान और वेद अलग-अलग रखकर विज्ञान को स्वीकार करते हैं, हमें सावरकर द्वारा इसी तरह के प्रतिपादन की याद दिलाते हैं। अपने 750 पन्नों के लेख में भगत सिंह ने सावरकर, उनके हिंदुत्व या ब्रिटिश परिस्थितियों को स्वीकार करने की आलोचना नहीं की है। बहरहाल, उन्होंने हिंदुओं के पक्ष में मुसलमानों की हत्या का समर्थन करने वाले दंगाइयों की आलोचना की है। लेकिन वे सावरकर के लिए अभिप्रेत नहीं हैं और सावरकर पर भी लागू नहीं होते हैं। भगत सिंह के सहयोगी यशपाल ने कहा है कि सावरकर बंधु क्रांतिकारी आंदोलन में हमारे नेता थे।

सावरकर और भगत सिंह दोनों ने काकोरी कांड पर लेख लिखे हैं। दोनों के पहले लेखों में अशफाक का उल्लेख नहीं है। सावरकर ने बाद में अशफाक पर एक और लेख लिखा है। भगत सिंह ने अपने दूसरे लेख में अशफाक का उल्लेख किया है। मदनलाल, अंबाप्रसाद, बालमुकुंद, सचिंद्रनाथ, कूका जैसे क्रांतिकारी सावरकर और भगत सिंह दोनों के लेखन के विषय हैं। सावरकर ने लाला लाजपतराय पर 20 दिसंबर 1928 को हुए हमले की निंदा करते हुए एक लेख लिखा था। हमले में लगी चोटों से लाला लाजपतराय की मौत हो गई। इस से बदला लेने के लिए सांडर्स को भगत सिंह और उनके साथियों ने मार डाला। महात्मा गाँधी ने इसे कायरतापूर्ण कृत्य बताया। सावरकर ने 19 जनवरी 1929 को गाँधी जी के कथन की आलोचना करते हुए एक लेख लिखा। साथ ही, उन्होंने लाला लाजपतराय के साहित्य पर भी एक प्रसिद्ध लेख लिखा।

सावरकर ने अपने साहित्य में भगत सिंह और उनके साथियों का कई बार उल्लेख किया है। सावरकर के श्रद्धानंद में ‘आतंक का असली मतलब’ शीर्षक से एक लेख मई 1928 में भगत सिंह और उनके सहयोगियों द्वारा कीर्ति में प्रकाशित किया गया था। भगत सिंह और साथियों के समर्थन में वीर सावरकर द्वारा लिखित एक लेख का शीर्षक ‘सशस्त्र लेकिन अत्याचारी’ बम के दर्शन के नाम पर इसी तरह का एक लेख भगत सिंह और वोरा द्वारा 26 जनवरी, 1930 को प्रकाशित किया गया था। फड़के का कहना है कि इस तरह के लेखों के साथ सावरकर युवाओं के दिलों में चिंगारी भड़का रहे थे। 8 अक्टूबर, 1930 को सावरकर के सहयोगी पृथ्वी सिंह आजाद और भगत सिंह के सहयोगी दुर्गाभि ने मुंबई के एक हवलदार के यहाँ शूटिंग की। इससे सावरकर के निरोध के कार्यकाल में वृद्धि हुई। 23 मार्च 1931 को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फाँसी दे दी गई। उस समय भी सावरकर ने एक कविता लिखी थी।

रत्नागिरी में सावरकर के घर पर हमेशा भगवा झंडा फहराया जाता था। उनके घर का पता केवल इशी से पहचाना जा सकता था। हालाँकि, 24 मार्च को सावरकर को घर पर एक काले झंडे को प्रदर्शित किया गया था। इसे समझना सरकार के लिए मुश्किल नहीं था। सावरकर द्वारा लिखे गए कविता को गाते हुए रत्नागिरी के बच्चों ने 24 मार्च को एक जुलूस निकाला, जब सावरकर वरवडे नामक एक गाँव में आए। उन्होंने 25 मार्च को वापसी की और काला झंडा फहराया। सावरकर ने चार महीने के भगत सिंह को याद करते हुए एक लेख प्रकाशित किया। मौका था नेपाली आंदोलन का। भगत सिंह, शिव वर्मा, वोरा आदि के अन्य साथियों ने भी क्रांतिकारियों पर सावरकर के प्रभाव के बारे में लिखा गया है।

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

Editorial Deskhttp://www.opindia.com
Editorial team of OpIndia.com

ताज़ा ख़बरें

Covid-19: दुनियाभर में 45000 से ज़्यादा मौतें, भारत में अब तक 1637 संक्रमित, 38 मौतें

विश्वभर में कोरोना संक्रमण के अब तक कुल 903,799 लोग संक्रमित हो चुके हैं जिनमें से 45,334 लोगों की मौत हुई और 190,675 लोग ठीक भी हो चुके हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण सबसे अधिक प्रभावित देश अमेरिका, इटली, स्पेन, चीन और जर्मनी हैं।

तबलीगी मरकज से निकले 72 विदे‍शियों सहित 503 जमातियों ने हरियाणा में मारी एंट्री, मस्जिदों में छापेमारी से मचा हड़कंप

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने बताया कि सभी की मेडिकल जाँच की जाएगी। उन्होंने बताया कि सभी 503 लोगों के बारे में पूरी जानकारी मिल चुकी है, लेकिन उनकी जानकारी को पुख्ता करने के लिए गृह विभाग अपने ढंग से काम करने में जुटा हुआ है।

फैक्ट चेक: क्या तबलीगी मरकज की नौटंकी के बाद चुपके से बंद हुआ तिरुमला तिरुपति मंदिर?

मरकज बंद करने के फ़ौरन बाद सोशल मीडिया पर एक खबर यह कहकर फैलाई गई कि आंध्रप्रदेश में स्थित तिरुमाला के भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर को तबलीगी जमात मामला के जलसे के सामने आने के बाद बंद किया गया है।

इंदौर: कोरोनो वायरस संदिग्ध की जाँच करने गई मेडिकल टीम पर ‘मुस्लिम भीड़’ ने किया पथराव, पुलिस पर भी हमला

मध्य प्रदेश का इंदौर शहर सबसे अधिक कोरोना महामारी की चपेट में है, जहाँ मंगलवार को एक ही दिन में 20 नए मामले सामने आए, जिनमें 11 महिलाएँ और शेष बच्चे शामिल थे। साथ ही मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 6 हो गई है।

योगी सरकार के खिलाफ फर्जी खबर फैलानी पड़ी महँगी: ‘द वायर’ पर दर्ज हुई FIR

"हमारी चेतावनी के बावजूद इन्होंने अपने झूठ को ना डिलीट किया ना माफ़ी माँगी। कार्रवाई की बात कही थी, FIR दर्ज हो चुकी है आगे की कार्यवाही की जा रही है। अगर आप भी योगी सरकार के बारे में झूठ फैलाने के की सोच रहे है तो कृपया ऐसे ख़्याल दिमाग़ से निकाल दें।"

बिहार की एक मस्जिद में जाँच करने पहुँची पुलिस पर हमले का Video, औरतों-बच्चों ने भी बरसाए पत्थर

विडियो में दिख रही कई औरतों के हाथ में लाठी है। एक लड़के के हाथ में बल्ला दिख रहा है और वह लगातार मार, मार... चिल्ला रहा। भीड़ में शामिल लोग लगातार पत्थरबाजी कर रहे हैं। खेतों से किसी तरह पुलिसकर्मी जान बचाकर भागते हैं और...

प्रचलित ख़बरें

रवीश है खोदी पत्रकार, BHU प्रोफेसर ने भोजपुरी में विडियो बनाके रगड़ दी मिर्ची (लाल वाली)

प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार को सलाह देते हुए कहा कि वो थोड़ी सकारात्मक बातें भी करें। जब प्रधानमंत्री देश की जनता की परेशानी के लिए क्षमा माँग रहे हैं, ऐसे में रवीश क्या कहते हैं कि देश की सारी जनता मर जाए?

800 विदेशी इस्लामिक प्रचारक होंगे ब्लैकलिस्ट: गृह मंत्रालय का फैसला, नियम के खिलाफ घूम-घूम कर रहे थे प्रचार

“वे पर्यटक वीजा पर यहाँ आए थे लेकिन मजहबी सम्मेलनों में भाग ले रहे थे, यह वीजा नियमों के शर्तों का उल्लंघन है। हम लगभग 800 इंडोनेशियाई प्रचारकों को ब्लैकलिस्ट करने जा रहे हैं ताकि भविष्य में वे देश में प्रवेश न कर सकें।”

जान-बूझकर इधर-उधर थूक रहे तबलीग़ी जमात के लोग, डॉक्टर भी परेशान: निजामुद्दीन से जाँच के लिए ले जाया गया

निजामुद्दीन में मिले विदेशियों ने वीजा नियमों का भी उल्लंघन किया है, ऐसा गृह मंत्रालय ने बताया है। यहाँ तबलीगी जमात के मजहबी कार्यक्रम में न सिर्फ़ सैकड़ों लोग शामिल हुए बल्कि उन्होंने एम्बुलेंस को भी लौटा दिया था। इन्होने सतर्कता और सोशल डिस्टन्सिंग की सलाहों को भी जम कर ठेंगा दिखाया।

बिहार के मधुबनी की मस्जिद में थे 100 जमाती, सामूहिक नमाज रोकने पहुँची पुलिस टीम पर हमला

पुलिस को एक किमी तक समुदाय विशेष के लोगों ने खदेड़ा। उनकी जीप तालाब में पलट दी। छतों से पत्थर फेंके गए। फायरिंग की बात भी कही जा रही। सब कुछ ऐसे हुआ जैसे हमले की तैयारी पहले से ही हो। उपद्रव के बीच जमाती भाग निकले।

मंदिर और सेवा भारती के कम्युनिटी किचेन को ‘आज तक’ ने बताया केजरीवाल का, रोज 30 हजार लोगों को मिल रहा खाना

सच्चाई ये है कि इस कम्युनिटी किचेन को 'झंडेवालान मंदिर कमिटी' और समाजसेवा संगठन 'सेवा भारती' मिल कर रही है। इसीलिए आजतक ने बाद में हेडिंग को बदल दिया और 'कैसा है केजरीवाल का कम्युनिटी किचेन' की जगह 'कैसा है मंदिर का कम्युनिटी किचेन' कर दिया।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

170,197FansLike
52,766FollowersFollow
209,000SubscribersSubscribe
Advertisements