Saturday, September 26, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे 'मुस्लिमों में भारतीयता का बहुत अभाव, वो इसका महत्व नहीं समझते' - शहीद दिवस...

‘मुस्लिमों में भारतीयता का बहुत अभाव, वो इसका महत्व नहीं समझते’ – शहीद दिवस पर भगत सिंह का ‘कम चर्चा’ वाला वो लेख

"विश्व-प्रेमी वह नायक है, जिसे हम एक उग्र विद्रोही, कट्टर अराजकतावादी- वीर सावरकर कहने में जरा भी संकोच नहीं करते। वीर सावरकर के बारे में उपरोक्त उद्धरण शहीद सरदार भगत सिंह का है।

स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह और वीर सावरकर ने कई अवसरों पर एक-दूसरे के कार्यों का उल्लेख किया है और उपनिवेशवादी ताकतों के अत्याचार के खिलाफ एक-दूसरे को बाहर निकालने तथा एक-दूसरे की लड़ाई का समर्थन करने के बारे में भी लिखा है। उनके अपने कार्य इस बात के प्रमाण हैं।

“विश्व-प्रेमी वह नायक है, जिसे हम एक उग्र विद्रोही, कट्टर अराजकतावादी- वीर सावरकर कहने में जरा भी संकोच नहीं करते। विश्व-प्रेम की लहर में आकर, वह यह सोचकर घास पर चलना बंद कर देता है कि नरम घास पैरों के नीचे मसल दिया जाता है।”

सावरकर के बारे में उपरोक्त उद्धरण शहीद सरदार भगत सिंह का है। भगत सिंह का ‘विश्व प्रेम’ शीर्षक लेख 15 और 22 नवंबर, 1926 को “मतवाला” के अंक में दो बार प्रकाशित हो चुका है। यह उद्धरण उसी लेख का एक अंश है। “हमारा अंतिम लक्ष्य सार्वभौमिक भाईचारा है। राष्ट्रवाद केवल वहाँ पहुँचने के लिए एक कदम है।” सावरकर ने कई बार कहा है। इस लेख में कहा गया है कि यह न केवल भगत को पता था, बल्कि स्वीकार्य भी था। सावरकर के आंतरिक रूप से कठोर लेकिन बेहद कोमल हृदय का ऐसा वर्णन शायद ही कहीं और देखा हो।

खास बात यह है कि सावरकर उन दिनों राजनीति में भाग नहीं लेने की शर्त पर रत्नागिरी में नजरबंंद थे। भगत सिंह ने इस शर्त को स्वीकार करने के सावरकर के फैसले पर आलोचना का एक शब्द भी नहीं लिखा है। हम कह सकते हैं कि इन दोनों क्रांतिकारियों ने एक-दूसरे के दिल और दिमाग को अच्छी तरह से समझा।

- विज्ञापन -

फिर मार्च 1926 में कीर्ति में मदनलाल ढींगरा और सावरकर के बारे में लिखते हुए भगत सिंह कहते हैं, “स्वदेशी आंदोलन का प्रभाव इंग्लैंड तक भी पहुँच गया और सावरकर ने ‘इंडियन हाउस’ नाम से एक घर खोला। मदनलाल भी इसके सदस्य बन गए। एक दिन सावरकर और मदनलाल ढींगरा लंबे समय से बात कर रहे थे। अपने प्राण त्यागने की हिम्मत की परीक्षा में, सावरकर ने मदनलाल को ज़मीन पर हाथ रखने के लिए कहकर एक बड़ी सुई से हाथ को छेद दिया, लेकिन पंजाबी वीर ने आह भी नहीं भरा। दोनों की आँखों में आँसू भर आए। दोनों ने एक-दूसरे को गले लगाया। आउच, वह कितना सुंदर समय था। कितना अमूल्य और अमिट अश्रु था। इतना शानदार। हमें उस भावना के बारे में पता होना चाहिए कि कायर लोग जो मृत्यु के विचार से ही डर जाते हैं। लेकिन दूसरे वे लोग कितने ऊँचे, कितने पवित्र और कितने पूज्य हैं, जो राष्ट्र की खातिर मरते हैं।”

अगले दिन से, ढींगरा भारतीय सदन भवन में नहीं गए और सर कर्जन विली द्वारा आयोजित भारतीय छात्रों की बैठक में भाग लिया। यह देखकर भारतीय लड़के बहुत उत्तेजित हो गए और उन्हें देशद्रोही, यहाँ तक कि गद्दार कहना शुरू कर दिया, लेकिन सावरकर ने उनका गुस्सा यह कहते हुए शांत कर दिया कि आखिरकार उन्होंने हमारे घर को चलाने के लिए अपना सिर भी तोड़ने की कोशिश की थी और उसकी मेहनत के कारण हमारा आंदोलन चल रहा है। इसलिए हमें उसका धन्यवाद करना चाहिए। खैर, कुछ दिन चुपचाप बीत गए।

1 जुलाई, 1909 को इंपीरियल इंस्टीट्यूट के जहाँगीर हॉल में एक बैठक हुई। सर कर्जन विली भी वहाँ गया। वह दो अन्य लोगों से बात कर रहा था कि ढींगरा ने अचानक पिस्तौल निकाली। उसे हमेशा के लिए सुलाने के लिए तान दिया। फिर कुछ संघर्ष के बाद ढींगरा को पकड़ा गया। उसके बाद क्या कहना, दुनिया भर में रोष था। सभी ने ढींगरा को पूरे दिल से गाली देना शुरू कर दिया।

उनके पिता ने पंजाब से एक तार भेजा और कहा कि मैं अपने बेटे को इस तरह के विद्रोही और हत्यारे आदमी के पूर में स्वीकार करने से इनकार करता हूँ। भारतीयों ने बड़ी बैठकें कीं। बड़े भाषण थे। बड़े प्रस्ताव आए। सब निंदा में। लेकिन उस समय भी सावरकर ही ऐसे नायक थे, जिन्होंने उनका खुलकर समर्थन किया। सबसे पहले, उन्होंने उनके खिलाफ प्रस्ताव पास न होने देने के लिए एक बहाना पेश किया कि वह अभी भी मुकदमे में हैं और हम उन्हें दोषी नहीं कह सकते। अंत में जब इस प्रस्ताव पर वोट डाला गया तो सदन के अध्यक्ष बिपिन चंद्र पॉल कह रहे थे कि अगर इसे सर्वसम्मति से सभी द्वारा पारित माना जाता है, तो सावरकर ने खड़े होकर व्याख्यान देना शुरू कर दिया। तभी एक अंग्रेज ने उनके मुँह पर घूँसा मारते हुए कहा, “देखो अंग्रेजी घूँसा कितना सीधा लगता है।” पीछे से एक हिंदुस्तानी युवक ने अंग्रेज के सिर पर डंडा मार दिया और कहा, “देखो भारतीय डंडा कितना सीधा चलता है।” वहाँ शोरगुल था। बैठक बीच में ही छोड़ दिया गया था। प्रस्ताव पास नहीं हुआ।

1926 में भगत सिंह ने पंजाबी हिंदी साहित्य सम्मेलन के लिए एक लेख लिखा। वह कहते हैं, “मुस्लिमों में भारतीयता का बहुत अभाव है। इसलिए वे सभी भारतीयता के महत्व को नहीं समझते हैं और अरबी एवं फारसी लिपि को पसंद करते हैं। पूरे भारत की एक भाषा होनी चाहिए और वह भी हिंदी। जिसे वे कभी नहीं समझते हैं, इसलिए वे अपनी उर्दू की प्रशंसा करते रहते हैं और एक तरफ बैठते हैं।” आगे उसी लेख में भगत सिंह कहते हैं, “हम चाहते हैं कि मुस्लिम भाई भी अपनी आस्था का पालन करें, लेकिन भारतीय भी उसी तरह से बनें जैसे कमाल तुर्क। हाँ, यही केवल भारत को बचाएगा। हमें भाषा आदि के प्रश्नों को एक बहुत बड़े दृष्टिकोण के साथ देखना चाहिए, न कि इसे मार्मिक (धार्मिक) समस्याएँ बनाकर।”

भगत सिंह द्वारा प्रस्तुत ये विचार न केवल सावरकर के विचारों के अनुरुप हैं, बल्कि गुरुजी के ‘विचारों का गुच्छा’ के अनुसार भी है। यह साबित हुआ कि भगत सिंह ने सावरकर की पुस्तक “1857- स्वतंत्रता का युद्ध” का अंग्रेजी अनुवाद प्रकाशित किया और इसे क्रांतिकारियों के बीच प्रचारित किया गया। कुछ लेखकों ने दावा किया है कि सावरकर और भगत सिंह की मुलाकात रत्नागिरी में हुई थी, लेकिन इसकी कोई निर्विवाद पुष्टि नहीं हुई।

गाँधीजी के अनुयायी वाईडी फड़के के अनुसार, भगत सिंह ने सावरकर की ‘1857’ से प्रेरणा ली, लेकिन सावरकर की ‘हिंदुपदपादशाही’ को अनदेखा कर दिया। लेकिन अब यह भी पता चला है कि भगत सिंह ने भी हिंदुपदपादशाही से प्रेरणा ली थी। वह अपनी जेल डायरी में कई लेखकों के उद्धरणों को नोट करते हैं। इसमें केवल सात भारतीय लेखक शामिल हैं, लेकिन उनमें से केवल एक सावरकर हैं, जिनकी भगत सिंह ने अपनी डायरी में एक से अधिक उद्धरण शामिल किए हैं और सभी 6 के 6 उद्धरण एक ही किताब हिंदुपदपादशाही से है। जो कि इस प्रकार हैं-

  1. बलिदान केवल आराध्य था, जब यह सीधे या दूर से था, लेकिन यथोचित रुप से सफलता के लिए अपरिहार्य लगा। बलिदान जो अंतत: सफलता की ओर नहीं ले जाता है, वह आत्मघाती है और इशलिए मराठा युद्ध की रणनीति में कोई स्थान नहीं था। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 256)
  2. मराठों से लड़ना हवा से लड़ने जैसा है, पानी पर वार करना है। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 258)
  3. जो हमारी उम्र की निराशा बनी हुई है, जिसे इतिहास को बिना लिखे, वीरता पूर्ण कार्य करने की क्षमता और अवसरों के बिना उन्हें जीवन में वास्तविक रुप देने के लिए गाना है। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 245)
  4. राजनीतिक दासता को किसी समय आसानी से उखाड़ फेंका जा सकता है लेकिन सांस्कृतिक वर्चस्व की बेड़ियों को तोड़ना मुश्किल है। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 242-43)
  5. कोई स्वतंत्रता नहीं! जिनकी मुस्कान से हम सभी इस्तीफा नहीं देंगे। जाओ हमारे आक्रमणकारियों, Danes को बताएँ, यह आपके मंदिर में एक उम्र के रक्त के लिए मीठा है। सोने से पहले लेकिन जंजीरों में एक मिनट। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 219)
  6. बदले की आग में मर जाओ, यह उस समय हिंदुओं के बीच प्रचलित कॉल था। लेकिन रामदास उठकर खड़ा हो गया। नहींं, इस प्रकार नहीं। रुपांतरित होने के बजाय मारा जाना काफी अच्छा है, लेकिन उससे बेहतर है कि न तो मारे जाएँ और न ही हिंसक रुपांतरित हों। बल्कि हिंसक ताकतों को मारें और धार्मिकता के कारण पर विजय प्राप्त करने के लिए मारते हुए मारे जाएँ। (हिंदुपदपादशाही पृष्ठ 1141-62)

भगत सिंह द्वारा प्रस्तुत समाजवादी हिंदुस्तान के विज्ञान आधारित राष्ट्र का चित्रण सावरकर के विज्ञान आधारित हिंदुस्तान के करीब है। नेहरू के प्रतिपादन का उनका समर्थन कि वे कुरान और वेद अलग-अलग रखकर विज्ञान को स्वीकार करते हैं, हमें सावरकर द्वारा इसी तरह के प्रतिपादन की याद दिलाते हैं। अपने 750 पन्नों के लेख में भगत सिंह ने सावरकर, उनके हिंदुत्व या ब्रिटिश परिस्थितियों को स्वीकार करने की आलोचना नहीं की है। बहरहाल, उन्होंने हिंदुओं के पक्ष में मुस्लिमों की हत्या का समर्थन करने वाले दंगाइयों की आलोचना की है। लेकिन वे सावरकर के लिए अभिप्रेत नहीं हैं और सावरकर पर भी लागू नहीं होते हैं। भगत सिंह के सहयोगी यशपाल ने कहा है कि सावरकर बंधु क्रांतिकारी आंदोलन में हमारे नेता थे।

सावरकर और भगत सिंह दोनों ने काकोरी कांड पर लेख लिखे हैं। दोनों के पहले लेखों में अशफाक का उल्लेख नहीं है। सावरकर ने बाद में अशफाक पर एक और लेख लिखा है। भगत सिंह ने अपने दूसरे लेख में अशफाक का उल्लेख किया है। मदनलाल, अंबाप्रसाद, बालमुकुंद, सचिंद्रनाथ, कूका जैसे क्रांतिकारी सावरकर और भगत सिंह दोनों के लेखन के विषय हैं। सावरकर ने लाला लाजपतराय पर 20 दिसंबर 1928 को हुए हमले की निंदा करते हुए एक लेख लिखा था। हमले में लगी चोटों से लाला लाजपतराय की मौत हो गई। इस से बदला लेने के लिए सांडर्स को भगत सिंह और उनके साथियों ने मार डाला। महात्मा गाँधी ने इसे कायरतापूर्ण कृत्य बताया। सावरकर ने 19 जनवरी 1929 को गाँधी जी के कथन की आलोचना करते हुए एक लेख लिखा। साथ ही, उन्होंने लाला लाजपतराय के साहित्य पर भी एक प्रसिद्ध लेख लिखा।

सावरकर ने अपने साहित्य में भगत सिंह और उनके साथियों का कई बार उल्लेख किया है। सावरकर के श्रद्धानंद में ‘आतंक का असली मतलब’ शीर्षक से एक लेख मई 1928 में भगत सिंह और उनके सहयोगियों द्वारा कीर्ति में प्रकाशित किया गया था। भगत सिंह और साथियों के समर्थन में वीर सावरकर द्वारा लिखित एक लेख का शीर्षक ‘सशस्त्र लेकिन अत्याचारी’ बम के दर्शन के नाम पर इसी तरह का एक लेख भगत सिंह और वोरा द्वारा 26 जनवरी, 1930 को प्रकाशित किया गया था। फड़के का कहना है कि इस तरह के लेखों के साथ सावरकर युवाओं के दिलों में चिंगारी भड़का रहे थे। 8 अक्टूबर, 1930 को सावरकर के सहयोगी पृथ्वी सिंह आजाद और भगत सिंह के सहयोगी दुर्गाभि ने मुंबई के एक हवलदार के यहाँ शूटिंग की। इससे सावरकर के निरोध के कार्यकाल में वृद्धि हुई। 23 मार्च 1931 को भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फाँसी दे दी गई। उस समय भी सावरकर ने एक कविता लिखी थी।

रत्नागिरी में सावरकर के घर पर हमेशा भगवा झंडा फहराया जाता था। उनके घर का पता केवल इशी से पहचाना जा सकता था। हालाँकि, 24 मार्च को सावरकर को घर पर एक काले झंडे को प्रदर्शित किया गया था। इसे समझना सरकार के लिए मुश्किल नहीं था। सावरकर द्वारा लिखे गए कविता को गाते हुए रत्नागिरी के बच्चों ने 24 मार्च को एक जुलूस निकाला, जब सावरकर वरवडे नामक एक गाँव में आए। उन्होंने 25 मार्च को वापसी की और काला झंडा फहराया। सावरकर ने चार महीने के भगत सिंह को याद करते हुए एक लेख प्रकाशित किया। मौका था नेपाली आंदोलन का। भगत सिंह, शिव वर्मा, वोरा आदि के अन्य साथियों ने भी क्रांतिकारियों पर सावरकर के प्रभाव के बारे में लिखा गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Editorial Deskhttp://www.opindia.com
Editorial team of OpIndia.com

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘यही लोग संस्थानों की प्रतिष्ठा को ठेस पहुँचाने का मौका नहीं छोड़ते’: उमर खालिद के समर्थकों को पूर्व जजों ने लताड़ा

दिल्ली दंगों में उमर खालिद की गिरफ्तारी के बाद पुलिस और सरकारी की मंशा पर सवाल उठाने वाले लॉबी को पूर्व जजों ने लताड़ लगाई है।

‘मारो, काटो’: हिंदू परिवार पर हमला, 3 घंटे इस्लामी भीड़ ने चौथी के बच्चे के पोस्ट पर काटा बवाल

कानपुर के मकनपुर गाँव में मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू घर को निशाना बनाया। बुजुर्गों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा।

चीन ने शिनजियांग में 3 साल में 16000 मस्जिद ध्वस्त किए, 8500 का तो मलबा भी नहीं बचा

कई मस्जिदों को सार्वजनिक शौचालयों में बदल दिया गया। मौजूदा मस्जिदों में से 75% में ताला जड़ा है या आज उनमें कोई आता-जाता नहीं है।

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

ड्रग्स चैट वाले ग्रुप की एडमिन थी दीपिका पादुकोण, दो नंबरों का करती थी इस्तेमाल

ड्रग्स मामले में दीपिका पादुकोण से एनसीबी शनिवार को पूछताछ करने वाली है। उससे पहले यह बात सामने आई है कि ड्रग चैट वाले ग्रुप की वह ए​डमिन थीं।

छद्म नारीवाद और हिंदू घृणा का जोड़: भारतीय संस्कृति पर हमला बोल कर कहा जाएगा- ‘ब्रेक द स्टिरियोटाइप्स’

यह स्टिरियोटाइप हर पोशाक की कतरनों के साथ क्यों नहीं ब्रेक किए जाते? हिंदुओं के पहनावे पर ही ऐसा प्रहार क्यों? क्यों नन की ड्रेस में मॉडल आदर्श होती है? क्यों बुर्के को स्टिरियोटाइप का हिस्सा नहीं माना जाता? क्यों केवल रूढ़िवाद की परिभाषा साड़ी और घूँघट तक सीमित हो जाती है?

प्रचलित ख़बरें

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

‘क्या आपके स्तन असली हैं? क्या मैं छू सकता हूँ?’: शर्लिन चोपड़ा ने KWAN टैलेंट एजेंसी के सह-संस्थापक पर लगाया यौन दुर्व्यवहार का आरोप

"मैं चौंक गई। कोई इतना घिनौना सवाल कैसे पूछ सकता है। चाहे असली हो या नकली, आपकी समस्या क्या है? क्या आप एक दर्जी हैं? जो आप स्पर्श करके महसूस करना चाहते हैं। नॉनसेंस।"

‘काफिरों का खून बहाना होगा, 2-4 पुलिस वालों को भी मारना होगा’ – दिल्ली दंगों के लिए होती थी मीटिंग, वहीं से खुलासा

"हम दिल्ली के मुख्यमंत्री पर दबाव डालें कि वह पूरी हिंसा का आरोप दिल्ली पुलिस पर लगा दें। हमें अपने अधिकारों के लिए सड़कों पर उतरना होगा।”

…भारत के ताबूत में आखिरी कील, कश्मीरी नहीं बने रहना चाहते भारतीय: फारूक अब्दुल्ला ने कहा, जो सांसद है

"इस समय कश्मीरी लोग अपने आप को न तो भारतीय समझते हैं, ना ही वे भारतीय बने रहना चाहते हैं।" - भारत के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने...

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

‘गिरती TRP से बौखलाए ABP पत्रकार’: रिपब्लिक टीवी के रिपोर्टर चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को मारा थप्पड़

महाराष्ट्र के मुंबई से रिपोर्टिंग करते हुए रिपब्लिक टीवी के पत्रकार और चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को एबीपी के पत्रकार मनोज वर्मा ने थप्पड़ जड़ दिया।

‘यही लोग संस्थानों की प्रतिष्ठा को ठेस पहुँचाने का मौका नहीं छोड़ते’: उमर खालिद के समर्थकों को पूर्व जजों ने लताड़ा

दिल्ली दंगों में उमर खालिद की गिरफ्तारी के बाद पुलिस और सरकारी की मंशा पर सवाल उठाने वाले लॉबी को पूर्व जजों ने लताड़ लगाई है।

नूर हसन ने कत्ल के बाद बीवी, साली और सास के शव से किया रेप, चेहरा जला अलग-अलग जगह फेंका

पानीपत के ट्रिपल मर्डर का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने नूर हसन को गिरफ्तार कर लिया है। उसने बीवी, साली और सास की हत्या का जुर्म कबूल कर लिया है।

‘मारो, काटो’: हिंदू परिवार पर हमला, 3 घंटे इस्लामी भीड़ ने चौथी के बच्चे के पोस्ट पर काटा बवाल

कानपुर के मकनपुर गाँव में मुस्लिम भीड़ ने एक हिंदू घर को निशाना बनाया। बुजुर्गों और महिलाओं को भी नहीं छोड़ा।

चीन ने शिनजियांग में 3 साल में 16000 मस्जिद ध्वस्त किए, 8500 का तो मलबा भी नहीं बचा

कई मस्जिदों को सार्वजनिक शौचालयों में बदल दिया गया। मौजूदा मस्जिदों में से 75% में ताला जड़ा है या आज उनमें कोई आता-जाता नहीं है।

‘मुझे सोफे पर धकेला, पैंट खोली और… ‘: पुलिस को बताई अनुराग कश्यप की सारी करतूत

अनुराग कश्यप ने कब, क्या और कैसे किया, यह सब कुछ पायल घोष ने पुलिस को दी शिकायत में विस्तार से बताया है।

‘नशे में कौन नहीं है, मुझे बताओ जरा?’: सितारों का बचाव कर संजय राउत ने ‘शराबी’ वाले अमिताभ की याद दिलाई

ड्रग्स मामले में दीपिका पादुकोण से पूछताछ से पहले संजय राउत ने बॉलीवुड सितारों का बचाव करते हुए NCB पर साधा निशाना है।

कानुपर में रिवर फ्रंट: ऐलान कर बोले योगी- PM मोदी ने की थी यहाँ गंगा स्वच्छता की प्रशंसा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानपुर में गंगा तट पर खूबसूरत रिवर फ्रंट बनाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने इसे पीएम मोदी को उपहार बताया।

अतीक अहमद से अवैध प्रॉपर्टी को जमींदोज करने पर हुआ खर्च भी वसूलेगी योगी सरकार

बाहुबली अतीक अहमद की अवैध प्रॉपर्टी पर कार्रवाई के बाद अब उससे इस पर आया खर्च भी वसूलने की योगी सरकार तैयारी कर रही है।

पैगंबर पर कार्टून छापने वाली ‘शार्ली एब्दो’ के पुराने कार्यालय के पास चाकू से हमला: 4 घायल, 2 गंभीर

फ्रांस की व्यंग्य मैग्जीन 'शार्ली एब्दो' के पुराने ऑफिस के बाहर एक बार फिर हमले की खबर सामने आई है। हमले में 4 लोग घायल हो गए।

मोइनुद्दीन चिश्ती पर अमीश देवगन की माफी राजस्थान सरकार को नहीं कबूल, कहा- धार्मिक भावनाएँ आहत हुई है

जिस टिप्पणी के लिए पत्रकार अमीश देवगन माफी माँग चुके हैं, उस मामले में कार्रवाई को लेकर राजस्थान सरकार ने असाधारण तत्परता दिखाई है।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,035FollowersFollow
324,000SubscribersSubscribe
Advertisements