Friday, October 2, 2020
Home बड़ी ख़बर सजदे में झुकती महिलाओं के स्तन से पैंटी के रंग बताने तक मुसलमान नेता...

सजदे में झुकती महिलाओं के स्तन से पैंटी के रंग बताने तक मुसलमान नेता काफी आगे आ गए हैं

जिन्हें आपको वोट देना है, वो देंगे ही क्योंकि पैंटी के रंग बताने वाली जाहिलियत भी अपने आप में वैसी ही क़ाबिलियत है जैसे काफ़िरों को मारने के लिए 'अल्लाहु अकबर' कहते हुए कोई मुसलमान इस्लाम के नाम पर खुद को बम से उड़ा देता है।

हाजी अली दरगाह के ट्रस्टी ने महिलाओं की एंट्री बंद होने के संदर्भ में एक दलील दी थी कि वहाँ सजदे में झुकती महिलाओं के स्तन दिख जाते हैं, इसलिए उन्हें प्रवेश देना गलत है। ये बात और है कि उन्होंने यह नहीं बताया कि दरगाह पर जो मर्द जाते हैं, वो औरतों के स्तन को क्यों देखते हैं। ट्रस्टी साहब ने यह भी नहीं बताया कि ये उनके निजी विचार थे या ट्रस्ट के बाकी मेंबरान भी स्तनखोजी प्रवृति के थे।

ट्रस्टी साहब ने यह भी नहीं बताया इस निर्णय तक पहुँचने के लिए उन्होंने अपनी खोजी निगाहों को ही आधार बनाया था या कोई सर्वेक्षण किया था जिसमें क़रीब 83% मर्दों ने स्वीकारा कि वो दरगाह में स्त्रियों के स्तन देखने आते हैं। ऐसा कोई सर्वेक्षण नहीं हुआ था, ये ट्रस्टी साहब के निजी उद्गार ही थे। मुझे याद है कि इस पर कोई बवाल नहीं हुआ था क्योंकि ट्रस्टी भी मुसलमान, हाजी अली भी मुसलमान, महिलाओं पर प्रतिबंध लगा, वो भी अधिकतर मुसलमान।

मुसलमान कुछ भी बोलता है, उस पर मीडिया में आउटरेज नहीं होता। मुसलमान दूसरी सबसे बड़ी आबादी होकर भी अल्पसंख्यक है, मुसलमान बाय डिफ़ॉल्ट सेकुलर है, मुसलमान बाय डिफ़ॉल्ट सेकेंड क्लास सिटिज़न है, मुसलमान बाय डिफ़ॉल्ट बहुसंख्यक आबादी का सताया हुआ है, मुसलमान मोदी राज में डर कर जीता है, और मुसलमान यह कह कर बच निकलता है कि जया प्रदा की पैंटी का रंग क्या है।

मुसलमानों के नेता हैं आज़म खान। जब मैं ‘मुसलमानों के नेता’ कहता हूँ तो मेरे शब्द का बिलकुल वही अर्थ है क्योंकि मुसलमानों के नेता मुसलमान आबादी के ही नहीं, अपने क्षेत्र के नहीं, अपने राज्य या देश के भी नहीं, वो मुसलमान कौम के नेता हो जाते हैं। वो समाज, गाँव, ज़िला, क्षेत्र, राज्य और देश की परिभाषाओं से कहीं ऊपर, पूरे इस्लाम के लिए नेता हो जाते हैं। वो जब बात करते हैं तो मुसलमानों के हक़ की बात करते हैं, वो जब बात करते हैं तो मुसलमानों के लिए बातें करते हैं, वो जब बात करते हैं तो उनके हर वाक्य में इस्लाम सहज रूप से अभिव्यक्त होता है।

इसमें गलत क्या है? गलत कुछ भी नहीं, सिवाय इसके कि जब वो बेहूदगी करेंगे तो वो भी पूरे इस्लाम के सर ही मढ़ा जाएगा क्योंकि तथाकथित अच्छे मुसलमान इन बातों पर मौन रहना पसंद करते हैं। जब आप अपने आप को सारे मुसलमानों का नेता मान कर, उनका नेतृत्व करने निकलते हैं, और भीड़ में किसी प्रतिद्वंद्वी या विपक्ष की पार्टी के प्रत्याशी के बारे में टिप्पणी करते हुए उसके अंडरवेयर तक पहुँचते हैं तो मैं बिम्ब और संदर्भ नहीं देख पाऊँगा, मैं आपके ठरकपन, आपकी मूर्खता और आपके सड़े हुए विचारों को शब्दशः देखूँगा और याद दिलाऊँगा कि आपकी सोच कितनी गिरी हुई है।

सत्ता से दूर और लगातार क्षेत्र की आबादी द्वारा नकारे जाते हुए आज़म खान जब ‘उर्दू गेट’ के गिराने को इस्लाम पर हुए अतिक्रमण से जोड़ सकते हैं, तो उनकी बेहूदगी किसी की पैंट से पैंटी और ब्रा तक ही नहीं रुकेगी। ये देखने वाली बात होगी कि आने वाले दिनों में मुसलमानों के महान नेता आज़म खान अंतःवस्त्रों के रंग से नीचे उतरते हुए जननांग और स्तनों के कप साइज से मुसलमानों की भीड़ का ज्ञानवर्धन किस महिला का नाम लेकर करेंगे।

भीड़ के सामने पोस्टर पर अखिलेश और मायावती की बड़ी तस्वीरें थीं, आज़म खान ने टोपी और चश्मा लगा कर अपनी ज़हीन शख़्सियत को आगे करते हुए कहा कि कैसे उन्होंने इस व्यक्ति (जया प्रदा) को रामपुर की गलियों तक का ज्ञान कराया, कैसे उन्होंने किसी को उनके नज़दीक नहीं आने दिया, गंदी बातें नहीं करने दी। उन्होंने बताया कि लोग राजनीति में कितना नीचे गिर जाते हैं। फिर उन्होंने बताया कि जया प्रदा के अंडरवेयर का रंग ख़ाकी है।

एक पैराग्राफ़ बोलते हुए, इस लम्पट आज़म खान ने स्वयं ही यह भी कहा कि राजनीति में लोग कितने गिर जाते हैं, और वो खुद ही रंग बताते हुए बहुत नीचे गिर गए। उन्होंने स्वयं कहा कि जया के पास भी किसी को आने नहीं दिया, छूने नहीं दिया, गाली देने नहीं दिया किसी को, और फिर अंत में स्वयं ही ऐसी बात कह दी कि पहले की बातें बेकार साबित हो गईं।

ये मुसलमानों के पढ़े-लिखे नेता हैं। ये रामपुर के नहीं, यूपी के नहीं, भारत के नहीं, मुसलमानों के नेता हैं। ये मैं पहले भी कह चुका हूँ, और बार-बार कहूँगा। ये मैं तब तक कहूँगा जब तक कि ऐसे लोग साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण करते हुए, हिन्दू बनाम मुसलमान की राजनीति करेंगे और मुसलमान और उनके हिमायती बस यह सोच कर मुँह बंद रखेंगे क्योंकि वो मुसलमान है इसलिए उसे मुँह से विष्ठा करने की आज़ादी है।

आप राजनीति में मर्यादा खोजते हैं, आप उस गठबंधन का हिस्सा बनते हैं जो महिला सशक्तिकरण की बात दिन में दस बार यह कह कर करता है कि मोदी ने बीवी को छोड़ रखा है, और माँ से मिलने नहीं जाता। फिर आपके मन में महिलाओं की इतनी इज़्ज़त है कि आप अपनी जाहिलियत पर ठीक तरीके से उतरें तो अंडरवेयर का रंग क्या, उसके भीतर भी प्रवेश कर सकते हैं।

और, ग़ज़ब की बात तो यह होगी कि आपका समाज, आपको मुसलमानों का नेता कहने वाले, आपको स्वीकारने वाले लोग तब भी यही सोच कर खुश होते रहेंगे कि विरोधी को नंगा किया, बहुत अच्छा किया। फिर आपका समाज क्यों पिछड़ा नहीं रहेगा? फिर आपके समाज से मात्र एक प्रतिशत लड़कियाँ ही ग्रेजुएशन क्यों नहीं करेंगी? फिर आपके समाज से ट्रिपल तलाक और हलाला जैसी वाहियात प्रथाओं को मौन ही नहीं, मुखर सहमति क्यों नहीं मिलेगी?

आपकी कुंठा इसी तरीके से तो शांत होती है कि किसी ने एक हिन्दू स्त्री के अंतःवस्त्र का रंग बता कर उसे पूरी रैली में ज़लील किया। आपकी कुंठा प्रत्याशी की पार्टी के नाम लेने, सामाजिक मुद्दों को गिनाने, क्षेत्र के पिछड़ेपन पर चर्चा करने से शांत नहीं होती, आपकी कुंठा तब शांत होती है जब आप किसी के बारे में ऐसी बेहूदी बातें पब्लिक में कहते हैं, और पब्लिक तालियाँ बजाती हैं।

बाहरहाल, आज़म खान जी, अपनी परवरिश, अपनी मरी हुई माताजी (जिसकी कसम आपने उसी आधे मिनट में खाई), अपने क़ौम और अपनी पार्टी का नाम इसी तरह रौशन करते रहिए। जिन्हें आपको वोट देना है, वो देंगे ही क्योंकि ये बेहूदगी भी अपने आप में वैसी ही क़ाबिलियत है जैसे काफ़िरों को मारने के लिए ‘अल्लाहु अकबर’ कहते हुए कोई मुसलमान इस्लाम के नाम पर खुद को बम से उड़ा देता है।

इसलिए, आपकी जाहिलियत को क़ाबिलियत मान कर वाह-वाही मिलती रहेगी। इसे भी डिस्कस नहीं किया जाएगा जैसे आप ही के मजहबी भाई और पार्टी के नेता फ़िरोज़ खान की टिप्पणी पर कोई चर्चा नहीं हुई थी। मुझे लगता है कि आपके इलाके का इस्लाम और वहाँ की इस्लामी आबादी बिलकुल सही हाथों में है क्योंकि अगर वो ऐसी बातों पर ताली पीटते हैं, तो वो आप जैसे चिरकुट और लम्पटों को ही डिजर्व करते हैं। लगे रहिए। आपके मुँह से, किसी और सभा में, किसी प्रत्याशी की सलवार के नाड़े या ब्रा के कप साइज के बारे में नए शोध के इंतज़ार में पूरा हिन्दुस्तान है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इंडिया टुडे के राहुल कँवल, हिन्दी नहीं आती कि दिमाग में अजेंडा का कीचड़ भरा हुआ है?

हाथरस के जिलाधिकारी और मृतका के पिता के बीच बातचीत के वीडियो को राहुल कँवल ने शब्दों का हेरफेर कर इस तरह पेश किया है, जैसे उन्हें धमकाया जा रहा हो।

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

‘द वायर’ की परमादरणीया पत्रकार रोहिणी सिंह ने बताया कि रेप पर वैचारिक दोगलापन कैसे दिखाया जाता है

हाथरस में आरोपित की जाति पर जोर देने वाली रोहिणी सिंह जैसी लिबरल, बलरामपुर में दलित से रेप पर चुप हो जाती हैं? क्या जाति की तरह मजहब अहम पहलू नहीं होता?

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

ईशनिंदा में अखिलेश पांडे को 15 साल की सजा, कुरान की ‘झूठी कसम’ खाकर 2 भारतीय मजदूरों ने फँसाया

UAE के कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध माना जा सकता है। इसी आधार पर...

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

लड़कियों को भी चाहिए सेक्स, फिर ‘काटजू’ की जगह हर बार ‘कमला’ का ही क्यों होता है रेप?

बलात्कार आरोपित कटघरे में खड़ा और लोग तरस खा रहे... सबके मन में बस यही चल रहा है कि काश इसके पास नौकरी होती तो यह आराम से सेक्स कर पाता!

प्राइम टाइम में अर्नब का डंका, 77% दर्शक देखते हैं रिपब्लिक; राजदीप और NDTV के शो दर्शकों के लिए तरसे

न्यूज चैनलों के बीच रिपब्लिक की न केवल बादशाहत बनी हुई, बल्कि प्राइम टाइम के स्लॉट में कोई भी एंकर अर्नब के आसपास नजर नहीं आ रहा।

लॉकडाउन, मास्क, एंटीजन टेस्ट… कोरोना को रोकने के लिए भारत ने समय पर लिए फैसले, दुनिया ने किया अनुकरण

ORF के ओसी कुरियन ने बताया है कि किस तरह भारत ने कोरोना का प्रसार रोकने के लिए फैसले समय पर लिए।

UP: भदोही में 14 साल की दलित बच्ची की सिर कुचलकर हत्या, बिना कपड़ों के शव खेत में मिला

भदोही में दलित नाबालिग की सिर कुचलकर हत्या कर दी गई। शव खेत से बरामद किया गया। परिजनों ने बलात्कार की आशंका जताई है।

इंडिया टुडे के राहुल कँवल, हिन्दी नहीं आती कि दिमाग में अजेंडा का कीचड़ भरा हुआ है?

हाथरस के जिलाधिकारी और मृतका के पिता के बीच बातचीत के वीडियो को राहुल कँवल ने शब्दों का हेरफेर कर इस तरह पेश किया है, जैसे उन्हें धमकाया जा रहा हो।

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

1000 साल लगे, बाबरी मस्जिद वहीं बनेगी: SDPI नेता तस्लीम रहमानी ने कहा- अयोध्या पर गलत था SC का फैसला

SDPI के सचिव तस्लीम रहमानी ने अयोध्या में फिर से बाबरी मस्जिद बनाने की धमकी दी है। उसने कहा कि बाबरी मस्जिद फिर से बनाई जाएगी, भले ही 1000 साल लगें।

मिलिए, छत्तीसगढ़ के 12वीं पास ‘डॉक्टर’ निहार मलिक से; दवाखाना की आड़ में नर्सिंग होम चला करता था इलाज

मामला छत्तीसगढ़ के बलरामपुर का है। दवा दुकान के पीछे चार बेड का नर्सिंग होम और मरीज देख स्वास्थ्य विभाग की टीम अवाक रह गई।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

फोरेंसिक रिपोर्ट से रेप की पुष्टि नहीं, जान-बूझकर जातीय हिंसा भड़काने की कोशिश हुई: हाथरस मामले में ADG

एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया है कि हाथरस केस में फोरेंसिक रिपोर्ट आ गई है। इससे यौन शोषण की पुष्टि नहीं होती है।

हमसे जुड़ें

267,758FansLike
78,077FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe