Tuesday, October 27, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे क्या बिहार चुनावों में 'गॉडफादर' के माइकल जैसा कमाल दिखा पाएँगे चिराग पासवान?

क्या बिहार चुनावों में ‘गॉडफादर’ के माइकल जैसा कमाल दिखा पाएँगे चिराग पासवान?

बिहार, जिसे राजनीति की प्रयोगशाला भी कहते हैं, वहाँ कुछ ही दिनों पहले तक मामला दो गठबंधनों के बीच चुनाव लड़े जाने का था। लेकिन जिस देश में लोकतंत्र ही बहुपक्षीय, कई दलों का हो, वहाँ की राजनैतिक प्रयोगशाला में केवल दो दलों/गठबंधनों के बीच चुनाव हो ऐसा कैसे हो सकता है?

हाल के दौर के बहुचर्चित उपन्यासों की लिस्ट बनाने बैठें तो मारियो पूजो का लिखा ‘गॉडफादर’ उस सूची में काफी ऊपर आएगा। इस उपन्यास पर बनी अंग्रेजी फ़िल्में तो मील का पत्थर रही ही हैं, भारत में भी इनकी सस्ती नक़ल करते हुए ‘सरकार’ जैसी फ़िल्में बनाई गई।

संगठित अपराध की दुनिया और कैसे वहाँ साम, दाम, दंड, भेद इस्तेमाल करते हुए कोई सत्ता में आता है, कोई अपनी सत्ता बनाए रखता है और कैसे कोई स्थापित सत्ता को चुनौती देता है, इन सब विषयों पर लिखी गई ‘गॉडफादर’ अद्भुत कृति है। वर्षों से इसकी लोकप्रियता में कोई ख़ास अंतर नहीं आया है।

इस उपन्यास के मुख्य पात्रों में से एक डॉन कर्लिओने जब बूढ़ा हो जाता है तो उसका परिवार एक गंभीर संकट से जूझ रहा होता है। उसका सबसे बड़ा बेटा सोनी, एक गैंगवार में मारा जा चुका था। मंझला बिलकुल ही नकारा सिद्ध हुआ था और उसके छोटे बेटे को किसी पुलिस अफसर की हत्या के जुर्म में देश से भागना पड़ा था।

अंतिम समय में डॉन एक संधि करता है जिसके तहत उसके सबसे छोटे बेटे को वापस देश में आने की इजाजत मिल जाती है। इस वक्त तक डॉन काफी बूढ़ा हो चला था और वो सबसे छोटे बेटे माइकल को धंधे के गुर सिखाता एक दिन हृदयघात से मर जाता है।

सत्ता हथियाने के लिए पहले से ही लालायित उसके दुश्मन सबसे छोटे बेटे माइकल को मामूली समझकर सब हड़प लेने को लालायित होते हैं। यहीं उनसे एक बड़ी गलती हो जाती है। जिस माइकल को वो सीधा-सादा समझ रहे थे, वो अब उतना भोला नहीं रह गया था। उसे मालूम था कि दुश्मनों की ओर से जो मैत्री सन्देश लेकर आएगा, वही उनसे मिला हुआ है।

जैसे ही उसके पिता के साथ काम करने वाला टेस्सियो ऐसा करने की कोशिश करता है और अपने साथ माइकल को ले जाना चाहता है, उसे पहचान कर निपटा दिया जाता है। एक ही बार में माइकल अपने और अपने पिता के कई भूतपूर्व दुश्मनों की हत्या करवा डालता है। लोगों को जबतक समझ आता कि चल क्या रहा है, माइकल सत्ता हथिया चुका होता है।

बिहार, जिसे राजनीति की प्रयोगशाला भी कहते हैं, वहाँ कुछ ही दिनों पहले तक मामला दो गठबंधनों के बीच चुनाव लड़े जाने का था। लेकिन जिस देश में लोकतंत्र ही बहुपक्षीय, कई दलों का हो, वहाँ की राजनैतिक प्रयोगशाला में केवल दो दलों/गठबंधनों के बीच चुनाव हो ऐसा कैसे हो सकता है?

भाजपा और जदयू के साथ आए दलों का मुकाबला पहले तो राजद-कॉन्ग्रेस और कई वामपंथी कहलाने वाले दलों के गठबंधन से था। धीरे-धीरे इसमें एक तीसरे मोर्चे की जगह भी बन आई। विपक्ष यानी राजद-कॉन्ग्रेस-वाम से निराश कुछ छोटे दलों ने एक तीसरे मोर्चे की जगह बना ली थी।

हाल का दौर देखें तो तीसरे मोर्चे की ओर से भूतपूर्व संसद पप्पू यादव (जिनकी पत्नी कॉन्ग्रेस के टिकट पर जीती हैं), ने कई क्षेत्रों में लोकप्रियता हासिल कर ली थी। पिछले वर्ष हुए पटना में जलजमाव और चमकी बुखार इत्यादि के दौर में उनके दौरे और मदद का काम लगातार चलता रहा।

इसकी वजह से मीडिया में भी उन्हें अच्छी लोकप्रियता मिली। सोशल मीडिया के जरिए लोकप्रियता हासिल करने के प्रयास में एक पुष्पम प्रिया चौधरी और उनकी ‘प्लुरल्स’ नाम की पार्टी भी दिखी। इनके अलावा कई छोटे क्षेत्रीय दल भी उठकर हर चुनाव में सामने आ ही जाते हैं।

इन सबके बीच गौर करने लायक रामविलास पासवान और उनकी पार्टी भी रही है। रामविलास पासवान अक्सर चुनावों का बैरोमीटर नाम से जाने जाते थे, और उनका समर्थन जिसे मिला हुआ हो, वही सत्ता में आएगा, ऐसा समझा जाता था। शायद यही वजह रही कि पुलिस (डीएसपी) की नौकरी को छोड़ राजनीति में उतरे रामविलास 1996 से लेकर 2019 तक, चाहे जिस भी गठबंधन की सरकार बने, ज्यादातर समय मंत्री जरूर बने रहे। हृदय के ऑपरेशन के बाद अभी जब उनकी मृत्यु की खबर आई तो राजनैतिक हलकों में थोड़ी सुगबुगाहट हुई।

उनके पुत्र चिराग पासवान पिछले कुछ दिनों से खुलकर भाजपा का समर्थन तो करते हैं, मगर जद-यू से उन्होंने बैर साध रखा है। अब तक के आँकलनों की मानें तो वो करीब-करीब 143 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारने को तैयार हैं। काफी कुछ ‘गॉडफादर’ के माइकल की ही तरह पिता के गुजरते ही वो सभी प्रतिद्वंदियों को निपटा कर आगे आने की तैयारी में दिखते हैं।

नीतीश कुमार के फ्लैगशिप प्रोग्राम ‘सात निश्चय’ के विरोध में उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने प्रचार भी शुरू कर दिया है। कुछ-कुछ राजस्थान की ही तर्ज पर ‘भाजपा तुझसे बैर नहीं पर नीतीश तेरी खैर नहीं’ के नारे भी सुनाई देने लगे हैं।

चुनावी नतीजों के आधार पर देखा जाए तो उनकी पार्टी एलजेपी ने अब तक अधिकतम 29 सीटों पर विजय प्राप्त की है। अगर पिछले (2015) चुनावों के नतीजे देखें तो एलजेपी अब केवल दो पर सिमट आई है। ऐसे में रामविलास पासवान के ना रहने पर चिराग कोई ‘गॉडफादर’ के माइकल जैसा कमाल दिखा पाएँगे, इसपर शक रहता है।

इस पूरे वाकये में भाजपा की भूमिका परदे के पीछे वाली ही रही है। जेपी नड्डा और अमित शाह की चिराग से लगातार बातचीत जारी थी। इसलिए उन्हें पहले से अंदाजा ना हो कि चिराग क्या करने वाले हैं, ये तो नहीं हो सकता।

भाजपा और आरएसएस के कुछ करीबी भी हाल ही में एलजेपी में शामिल होकर उसके टिकट पर उतरने की मंशा जता चुके हैं। दिनारा से पिछले चुनाव में लड़कर हार चुके राजेन्द्र सिंह और नवादा के भाजपा के जिला प्रमुख अनिल कुमार पहले ही भाजपा छोड़कर एलजेपी का दामन थाम चुके हैं।

इसके अलावा भी भाजपा कार्यकर्ताओं के एलजेपी में आना जिस गति से जारी है, उससे लगता है कि ‘नीतीश ही नेता होंगे’ के सुशील मोदी के वादों के बावजूद, भाजपा के अन्दरखाने में नीतीश को किनारे करने की खिचड़ी पक चुकी है।

बाकी समीकरणों में भी पक्ष और विपक्ष तय ही है, अब बस जनता के मुहर लगाने की देर है। उसके बाद ही कहा जाएगा कि चुनावी ऊंट चिराग की करवट में बैठा भी या नहीं!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुंगेर हत्याकांड: दो वीडियो जो बताते हैं कि गोली कब चली और लगातार कितनी चली

इसका एक और वीडियो सामने आया है, जिसमें पुलिस फोर्स की टीम दौड़ती हुई नजर आती है और फिर गोलियों की आवाज सुनाई देती है।

हंसा रिसर्च ने ET की रिपोर्ट का नकारा, कहा- रिपब्लिक के साथ कोई बिजनेस डील नहीं, मुंबई पुलिस द्वारा फैलाया गया ‘सफेद झूठ’

“हंसा रिसर्च में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि रिपब्लिक टीवी के साथ इसका कोई व्यापारिक लेन-देन नहीं हुआ है और न ही चैनल को कोई भुगतान किया गया है और न ही इसे चैनल से प्राप्त किया गया है।"

‘थाना प्रभारी रंजीत मंडल ने इंजीनियर आशुतोष पाठक के कपड़े उतारे, की बर्बरता’: हत्या का मामला दर्ज, किए गए सस्पेंड

एसपी ने कहा कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जाँच हो, इसीलिए थानाध्यक्ष को सस्पेंड किया गया। पुलिस ने अपनी 'डेथ रिव्यू रिपोर्ट' में आशुतोष के शरीर पर चोट के निशान मिलने की पुष्टि की है।

नूँह कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद हैं निकिता के हत्यारे तौसीफ के चाचा, कहा- हमें नहीं थी हथियार की जानकारी

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA और पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद निकिता के हत्यारे के चचेरे दादा लगते हैं। इसी तरह वर्तमान में मेवात के नूँह से कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद उसके चाचा हैं।

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

प्रचलित ख़बरें

अपहरण के प्रयास में तौसीफ ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

तौसीफ ने छात्रा पर कई बार दोस्ती और धर्मांतरण के लिए दबाव भी बनाया था। इससे इनकार करने पर तौसीफ ने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

निकिता तोमर हत्याकांड: तौसीफ के बाद अब रेवान भी गिरफ्तार, भाई ने कहा- अगर मुस्लिम की बेटी होती तो सारा प्रशासन यहाँ होता

निकिता तोमर की माँ ने कहा है कि जब तक दोषियों का एनकाउंटर नहीं किया जाता, तब तक वो अपनी बेटी का अंतिम-संस्कार नहीं करेंगी।

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

‘मुस्लिम बन जा, निकाह कर लूँगा’: तौसीफ बना रहा था निकिता पर धर्मांतरण का दबाव- मृतका के परिवार का दावा

तौसीफ लड़की से कहता था, 'मुस्लिम बन जा हम निकाह कर लेंगे' मगर जब लड़की ने उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी गोली मार कर हत्या कर दी।
- विज्ञापन -

मुंगेर हत्याकांड: दो वीडियो जो बताते हैं कि गोली कब चली और लगातार कितनी चली

इसका एक और वीडियो सामने आया है, जिसमें पुलिस फोर्स की टीम दौड़ती हुई नजर आती है और फिर गोलियों की आवाज सुनाई देती है।

हंसा रिसर्च ने ET की रिपोर्ट का नकारा, कहा- रिपब्लिक के साथ कोई बिजनेस डील नहीं, मुंबई पुलिस द्वारा फैलाया गया ‘सफेद झूठ’

“हंसा रिसर्च में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि रिपब्लिक टीवी के साथ इसका कोई व्यापारिक लेन-देन नहीं हुआ है और न ही चैनल को कोई भुगतान किया गया है और न ही इसे चैनल से प्राप्त किया गया है।"

चाय स्टॉल पर शिवसेना नेता राहुल शेट्टी की 3 गोली मारकर हत्या, 30 साल पहले पिता के साथ भी यही हुआ था

वारदात से कुछ टाइम पहले राहुल शेट्टी ने लोनावला सिटी पुलिस स्टेशन में अपनी जान को खतरा होने की जानकारी पुलिस को दी थी।

‘थाना प्रभारी रंजीत मंडल ने इंजीनियर आशुतोष पाठक के कपड़े उतारे, की बर्बरता’: हत्या का मामला दर्ज, किए गए सस्पेंड

एसपी ने कहा कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जाँच हो, इसीलिए थानाध्यक्ष को सस्पेंड किया गया। पुलिस ने अपनी 'डेथ रिव्यू रिपोर्ट' में आशुतोष के शरीर पर चोट के निशान मिलने की पुष्टि की है।

नूँह कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद हैं निकिता के हत्यारे तौसीफ के चाचा, कहा- हमें नहीं थी हथियार की जानकारी

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA और पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद निकिता के हत्यारे के चचेरे दादा लगते हैं। इसी तरह वर्तमान में मेवात के नूँह से कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद उसके चाचा हैं।

महिलाओं की ही तरह अकेले पुरुष अभिभावकों को भी मिलेगी चाइल्ड केयर लीव: केंद्र सरकार का फैसला

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने घोषणा की है कि जो पुरुष सरकारी कर्मचारी हैं और बच्चे का पालन अकेले कर रहे हैं, उन्हें अब चाइल्डकेयर लीव दी जाएगी।

फेक TRP स्कैम में मुंबई पुलिस द्वारा गवाहों पर दबाव बनाने वाले ऑपइंडिया के ऑडियो टेप स्टोरी पर CBI ने दी प्रतिक्रिया

कॉल पर पड़ोसी से बात करते हुए व्यक्ति बेहद घबराया हुआ प्रतीत होता है और बार-बार कहता है कि 10-12 पुलिस वाले आए थे, अगर ऐसे ही आते रहे तो.....

हाफिज सईद के बहनोई से लेकर मुंबई धमाकों के आरोपितों तक: केंद्र ने UAPA के तहत 18 को घोषित किया आतंकी

सरकार द्वारा जारी इस सूची में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी भी शामिल हैं। इसमें 26/11 मुंबई हमले में आरोपित आतंकी संगठन लश्कर का यूसुफ मुजम्मिल, लश्कर चीफ हाफिज सईद का बहनोई अब्दुर रहमान मक्की...

निकिता तोमर हत्याकांड: तौसीफ के बाद अब रेवान भी गिरफ्तार, भाई ने कहा- अगर मुस्लिम की बेटी होती तो सारा प्रशासन यहाँ होता

निकिता तोमर की माँ ने कहा है कि जब तक दोषियों का एनकाउंटर नहीं किया जाता, तब तक वो अपनी बेटी का अंतिम-संस्कार नहीं करेंगी।

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,357FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe