Sunday, March 7, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे हिन्दुओं की दाढ़ी पर खार: वह तकलीफ जो उन दिनों मुग़लों को थी, आज...

हिन्दुओं की दाढ़ी पर खार: वह तकलीफ जो उन दिनों मुग़लों को थी, आज मोदी-विरोधियों को है

केश और दाढ़ी रखना, यह भारत में अनादि काल से हिन्दू साधु-सन्यासियों की परंपरा रही है। गुरु गोबिंद सिंह ने भी जब खालसा-पंथ की घोषणा की तो ‘पाँच ककारों’ में इसे अनिवार्य रूप से शामिल किया गया था।

इन दिनों प्रधानमंत्री मोदी की दाढ़ी को लेकर विरोधियों में बड़ी हाय-तौबा मची हुई है। मुद्दा कोई भी हो, उसे मोदी की दाढ़ी से जोड़ा जाना मानो अनिवार्य सा हो गया है। बस्तर से कॉन्ग्रेसी सांसद दीपक बैज ने जीडीपी के मुद्दे को इसके साथ जोड़ दिया, कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने बंगाल-चुनाव के साथ तो वहीं तेजप्रताप यादव ने पेट्रोल के दामों के साथ। इतना ही नहीं बरखा दत्त और शशि थरूर के एक इंटरव्यू एवं पाकिस्तानी न्यूज़-चैनलों की कुछ डिबेट्स में भी मोदी की बढ़ती हुई दाढ़ी पर ‘गंभीर चर्चा’ हो चुकी है।

वैसे दाढ़ी-मूँछ रखना, नहीं रखना या कितनी रखनी है, यह विशुद्ध रूप से व्यक्तिगत मसला है और राजनीतिक चर्चा में इसकी कोई जगह नहीं बनती। फिर भी, जब कई लोगों की बदहजमी का कारण मोदी की बढ़ती हुई दाढ़ी ही है, तो हमारे लिए इतिहास की गहराइयों में जाकर इस विषय को भी गंभीरता से समझना जरूरी हो जाता है।

केश और दाढ़ी रखना, यह भारत में अनादि काल से हिन्दू साधु-सन्यासियों की परंपरा रही है। गुरु गोबिंद सिंह ने भी जब खालसा-पंथ की घोषणा की तो ‘पाँच ककारों’ में इसे अनिवार्य रूप से शामिल किया गया था। इसी कारण मध्यभारत के इतिहास में एक समय ऐसा भी आया जब पंजाब के आसपास के विस्तार में सिखों एवं हिन्दुओं की एकता में ‘दाढ़ी-मूँछ’ एक महत्वपूर्ण पहलू बन गई थी जिस पर मुग़ल खूब खार खाते थे।

सिख धर्म के उदय में भले ही हिन्दू-मुस्लिम एकता का उदारवादी दृष्टिकोण था लेकिन सिखों को भी ‘काफिरों’ की संज्ञा मिलने में देर न लगी। सिख गुरुओं की हत्याएँ, गुरु गोबिंद सिंह के साहिबज़ादों को जिंदा दीवार में चुनवा देने की घटना एवं गुरु के अनुयायियों पर दमन यह सब उसी ‘मुसलमान बनाम काफ़िर’ की सोच का ही नतीजा था।

जब गुरु गोबिंद सिंह ने देखा कि इस्लाम के नाम पर हिन्दुओं एवं सिखों को काफिर बताकर खूब अत्याचार ढाये जा रहे हैं तब उन्होंने एक हिन्दू सन्यासी ‘लछमनदास’ को उन अत्याचारियों को दण्डित करने का जिम्मा दिया और उसे एक नया नाम दिया ‘बंदा’। वही बंदा जिसे मुस्लिम इतिहासकारों ने ‘इस्लाम के दुश्मन’ के रूप में वर्णित किया है।

सिख धर्म में बंदा की भूमिका एक सेनानायक की तौर पर देखी जा सकती है, जिसके काल में मुसलमानों में यह बात घर कर गई थी कि यदि बंदा जीत गया तो वे सब बर्बाद हो जाएँगे! बची-खुची कसर वजीर खान ने पूरी कर दी, जिसने मुल्ला-मौलवियों को राजी किया कि वे काफिरों के खिलाफ जंग छेड़ दें। यूँ तो बंदा का आंदोलन किसानों से जुडी एक क्रांति थी लेकिन मुसलमान शासकों के संरक्षण में पले-बड़े मस्लिम इतिहासकारों ने इस क्रांति को भी ‘इस्लाम विरोधी जिहाद’ साबित किया हुआ है।

खुशवंत सिंह अपनी किताब ‘सिखों का इतिहास’ में बंदा के विषय में लिखते हैं कि ‘यमुना से लेकर रावी और उसके पार, अगर किसी आदमी का जोर था, तो वह बंदा ही था और अगर किसी सत्ता की इज्जत थी, तो वह किसान फौजें (बंदा की फौजें) ही थी। सौभाग्यशाली दिनों में अगर बंदा ने थोड़ा और जोखिम उठाया होता, तो उसने दिल्ली और लाहौर को भी फतह कर लिया होता और इतिहास की पूरी दिशा ही बदल दी होती।’

मुगल इतिहासकार खफी खान तत्कालीन स्थिति पर लिखता है कि ‘इन काफिरों ने नया शासन चलाया, सिर और दाढ़ी के बाल काटने से मनाही कर दी। इस पथभ्रष्ट पंथ के विद्रोह और तबाही को शहंशाह की जानकरी में लाया गया जिससे उन्हें खासी ‘तकलीफ’ हुई।

सिखों के इतिहास पर यदि गौर करें तो यह कहना गलत नहीं होगा कि यदि सिख आंदोलन को हिंदुओं के बहुत बड़े बहुमत का सहयोग प्राप्त न होता तो कदाचित यह धर्म आज की वर्तमान स्थिति में नहीं पहुँच पाता। गौर करें तो इस्लाम के हमलों के खिलाफ यह हिंदुओं का प्रतिरोध ही था, जिसने सिख आंदोलन को सफल बनाया। ‘बहादुर शाहनामा’ से ज्ञात होता है कि चूँकि बंदा की क्रांति को हिन्दुओं को पूर्ण समर्थन था, इसी के खार में 1710 के सितंबर महीने में उसने हिन्दुओं को दाढ़ी बनाकर ही रहने की एक घोषणा जारी कर दी।

अब इतिहास के इसी वाकए को वर्तमान परिदृश्य के साथ जोड़कर देखें तो मोदी के दाढ़ी बढ़ाने पर विरोधियों को तकलीफ क्यों है, बखूबी समझा जा सकता है।

नोट: यह लेख अभिषेक सिंह राव द्वारा लिखा गया है

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अनुराग-तापसी को ‘किसान आंदोलन’ की सजा: शिवसेना ने लिख कर किया दावा, बॉलीवुड और गंगाजल पर कसा तंज

संपादकीय में कहा गया कि उनके खिलाफ कार्रवाई इसलिए की जा रही है, क्योंकि उन लोगों ने ‘किसानों’ के विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘कॉन्ग्रेस का काला हाथ वामपंथियों के लिए गोरा कैसे हो गया?’: कोलकाता में PM मोदी ने कहा – घुसपैठ रुकेगा, निवेश बढ़ेगा

कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में अपनी पहली चुनावी जनसभा को सम्बोधित किया। मिथुन भी मंच पर।

मिथुन चक्रवर्ती के BJP में शामिल होते ही ट्विटर पर Memes की बौछार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में भाजपा का दामन थाम लिया।

‘ग्लोबल इनसाइक्लोपीडिया ऑफ रामायण’ का शुभारंभ: CM योगी ने कहा – ‘जय श्री राम पूरे देश में चलेगा’

“जय श्री राम उत्तर प्रदेश में भी चलेगा, बंगाल में भी चलेगा और पूरे देश में भी चलेगा।” - UP कॉन्क्लेव शो में बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि...

‘राहुल गाँधी का ‘फालतू स्टंट’, झोपड़िया में आग… तमाशे की जिंदगानी हमार’ – शेखर गुप्ता ने की आलोचना, पिल पड़े कॉन्ग्रेसी

शेखर गुप्ता ने एक वीडियो में पूर्व कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की आलोचना की, जिससे भड़के कॉन्ग्रेस नेताओं ने उन्हें जम कर खरी-खोटी सुनाई।

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

पिछले 1000-1200 वर्षों से बंगाल में हो रही गोहत्या, कोई नहीं रोक सकता: ममता के मंत्री सिद्दीकुल्लाह का दावा

"उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने यहाँ आकर कहा था कि अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो वह राज्य में गोहत्या को समाप्त कर देगी।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,971FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe